• search
उत्तराखंड न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

कांवड़ यात्रा: कांवड़ियों की एंट्री उत्तराखंड में हुई बैन, आए तो रहना पड़ेगा 14 दिन क्वारंटाइन

|

हरिद्वार। छह जुलाई से शुरू होने वाली कांवड़ यात्रा को कोविड-19 के चलते स्थगित कर दिया गया है। साथ ही उत्तराखंड सरकार ने कांवड़ियों की एंट्री भी पूर्ण तय बैन कर दी है। इसके लिए उत्तर प्रदेश, हरियाणा और हरिद्वार के पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने बुधवार को रणनीति बनाई। तीनों राज्यों के अधिकारियों की समन्वय बैठक में तय किया गया कि बिना अनुमति हरिद्वार जिले की सीमा में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा।

    Kanwar Yatra पर आए तो 14 दिनों तक क्वारनटीन, खर्च भी खुद उठाना होगा, नहीं मिलेगा जल | वनइंडिया हिंदी

    Kanwar Yatra 2020: Kanwariya Entry ban in Uttarakhand

    गंगाजल लेने आए तो अपने खर्चे पर रहने होगा 14 दिन क्वारंटाइन

    इसके बाद भी यदि कोई कांवडिया उत्साह में चोरी छिपे हरिद्वार आता है तो उसे 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन किया जाएगा। क्वारंटाइन के दौरान रहने और खाने का पूरा खर्च कांवड़िये को खुद उठाना पड़ेगा। इसके अलावा तीनों राज्यों की पुलिस अपने-अपने बॉर्डर पर सघन चेकिंग अभियान चलाएगी। हरिद्वार कलक्ट्रेट सभागार में बुधवार को हरियाणा के यमुनानगर, करनाल, उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, बिजनौर और हरिद्वार के पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों की समन्वय बैठक हुई। बैठक हरिद्वार के जिलाधिकारी सी रविशंकर की अध्यक्षता में हुई।

    नहीं आने दिया जाएगा हरिद्वार

    बैठक में हरिद्वार के डीएम ने कांवड़ यात्रा को लेकर नागरिकों की सुरक्षा को सर्वोपरी बताते हुए यात्रा पर पूर्ण प्रतिबंध पर सहमति जताई। बैठक में अधिकारियों के बीच इस बात पर सहमति बनी कि सघन चेकिंग के दौरान किसी भी जनपद से श्रद्धालुओं के समूह या दल को हरिद्वार नहीं आने दिया जाएगा। मुजफ्फरनगर के एसएसपी अभिषेक यादव ने सुझाव दिया कि यात्रा के दौरान अपने-अपने जनपदों के बॉर्डर पर चेकिंग को तेज किया जाएगा। आम लोगों को यात्रा स्थगित करने की सूचना देने के लिए बड़े स्तर पर प्रचार प्रसार किया जाएगा। इसके बाद भी यदि कोई श्रद्धालु लॉकडाउन का उल्लंघन करता तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

    सादे कपड़े में जल भरने पर नहीं होगी पाबंदी

    कांवड़ यात्रा को पूरी तरह से स्थगित कर दिया है, लेकिन स्थानीय निवासी या कोई भी बाहरी यात्री सादे कपड़े में हरिद्वार आ जाएगा तो उसे जल भरने से नहीं रोका जाएगा और न ही कोई कार्रवाई होगी। एडीएम प्रशासन बीके मिश्रा ने बताया कि कांवड़ियों की पहचान उसके गेरू कपड़े या समूह के रूप में आने से होती है, लेकिन स्थानीय व्यक्ति बिना कांवड़ के और या कांवड़ियों के वेष में आता है तो उस पर पाबंदी रहेगी।

    ये भी पढ़ें:- Unlock-2: चार धाम यात्रा आज से हुई शुरू, जानिए किन-किन नियमों का करना होगा पालन

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Kanwar Yatra 2020: Kanwariya Entry ban in Uttarakhand
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X