काशी विद्यापीठ में ABVP की हार के बाद UP मे छात्रसंघ चुनाव पर रोक

Subscribe to Oneindia Hindi

वाराणसी। यूपी में वाराणसी जिला प्रशासन और चुनाव आयोग ने जिन विश्वविद्यालयों में अभी छात्रसंघ के चुनाव नहीं हुए हैं, उस पर रोक लगाते हुए आदेश जारी किया है कि अब छात्रसंघ चुनाव निकाय चुनाव के बाद कराये जाएंगे। जिले के डीएम और जिला निर्वाचन अधिकारी योगेश्वर राम मिश्र ने oneindia को बताया कि छात्रसंघ चुनाव को आगे की तिथि पर बढ़ाये जाने का निर्देश चुनाव आयोग ने जारी किया है। दरसअल निकाय चुनाव के नामांकन और मतदान की तिथि निर्धारित होने के बाद उत्तर प्रदेश के सभी जिलों में अब नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। ऐसे में छात्रसंघ के चुनाव निकाय चुनाव को प्रभावित कर सकते हैं। साथ ही साथ नामांकन के कारण सुरक्षा का हवाला देते हुए फोर्स की कमी बतायी जा रही है। छात्र नेताओं का आरोप है कि काशी विद्यापीठ में एबीवीपी की हार की वजह से ऐसा कदम उठाया गया है।

यूपी कालेज में चुनाव पर लगाई गई रोक

यूपी कालेज में चुनाव पर लगाई गई रोक

दरसअल आज वाराणसी के उदय प्रताप कालेज में आज छात्रसंघ का चुनाव होना था जिस पर अचानक से रोक लगाए जाने के बाद छात्र नेताओं ने इस आदेश पर नाराजगी जाहिर की है। यूपी कालेज के पूर्व महामंत्री निशांत सिंह बोल्डर ने अपनी प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा कि ये आदेश निंदनीय है जिसमे युवाओं की ऊर्जाओं को रोकने का कार्य किया है।

चुनावी हार का डर

चुनावी हार का डर

हरिश्चंद्र डिग्री कालेज के पूर्व महामंत्री और वर्तमान ने सपा के पार्षद रविकांत ने कहा कि यूपी में इस बार हुए छात्रसंघ चुनावो में बीजेपी के अंग एबीवीपी को कई यूनिवर्सिटी में करारी शिकस्त मिली है जिससे अब प्रदेश सरकार को डर है कि छात्रसंघ के चुनाव परिणाम उनके निकाय चुनाव के हार का कारण न बने। इसी कारण दबाव बनाकर छात्रों के चुनावों को टाल कर निकाय चुनाव के बाद कराया जा रहा है।

चुनाव स्थगित होने से केबी और बिनानी कालेज में छात्रों में आक्रोश

चुनाव स्थगित होने से केबी और बिनानी कालेज में छात्रों में आक्रोश

वाराणसी के काशी विद्यापीठ के छात्रसंघ छात्रसंघ चुनाव में मारपीट के बाद निकाय चुनाव को देखते हुए चुनाव आयोग ने छात्रसंघ चुनाव पर रोक लगा दी। मिर्जापुर जिले के केबी और बिनानी दो बड़े कालेजों में रविवार को छात्रसंघ का चुनाव होना था। आयोग के निर्देश के बाद जिलाधिकारी बिमल कुमार दुबे ने छात्रसंघ चुनाव पर रोक लगा दी। चुनाव पर रोक लगाए जाने से छात्रों ने नाराजगी प्रकट की। चुनाव आयोग ने शनिवार को ही आदेश जारी कर दिया था।

कॉलेज में फोर्स की मौजूदगी

कॉलेज में फोर्स की मौजूदगी

रविवार को प्रशासन ने कोई सूचना नहीं दी थी। रविवार की सुबह छात्र गाड़ियों से वोट देने कालेज पहुंचने लगे। वहां पर छात्रों को बताया गया कि चुनाव पर आयोग ने रोक लगा दी है। इसके बाद छात्र नेता नाराज हो गया। हंगामा करने लगे। किसी तरह का बवाल न हो इसके लिए फोर्स तैनात कर दी गई है। केबी कॉलेज में हंगामा कर रहे छात्रो ने कहा कि फोर्स की कोई कमी नहीं है। इसके बाद चुनाव को स्थगित करना गलत है।

Read Also: काशी विद्यापीठ छात्र संघ चुनाव में सपा समर्थित राहुल दुबे बने अध्यक्ष, ABVP को मिली करारी हार

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Student union election in UP now after civic polls.
Please Wait while comments are loading...