VIDEO: बरसात में सांप बने हैं आफत, अस्पताल में बढ़ गए हैं सांप के काटे हुए मरीज

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

शाहजहांपुर। इंसानों पर सांपों के तेज होते हमले अब लोगों के लिए आंतक की वजह बन गए हैं। आलम ये है कि सरकारी अस्पतालों में पिछले एक हफ्ते में तीन दर्जन से ज्यादा सांप काटने के मामले दर्ज किए गए हैं। जिनमें लगभग आधा दर्जन लोग मौत के मुंह में जा चुके हैं। डॉक्टरों की माने तो सांप के काटे जाने पर तुरंत चिकित्सा न मिलने पर मौत हो सकती है। फिलहाल सांपों की तादाद बढ़ने और सांप के काटने की घटनाओं में बढ़ोत्तरी के चलते लोगों में दहशत बरकरार है।

VIDEO: बरसात में सांप बने हैं आफत, अस्पताल में बढ़ गए हैं सांप के काटे हुए मरीज

बरसात के मौसम में बाढ़ आने की संभावना भी काफी बढ़ जाती है। जब हम कलान कस्बे मे बाढ़ की कवरेज करने पहुंचे तो एक छोटे से पेड़ पर सांप आराम फरमा रहा था जो कैमरे में कैद हो गया। इसी तरह से गांव में ही एक शख्स के घर के अंदर सांप निकल आया। जिससे लोगों में दहशत का माहौल बन गया। वहीं नदी में भी पानी में तैरता सांप देखने को मिला जो नांव का पीछा करने लगा।

'सांप' जिसका नाम सुनते ही इंसान डर जाता है। यही सांप इन दिनों बरसात के मौसम में सबसे ज्यादा हमलावर हो जाते हैं। यही वजह है कि सांपों के डंसे जाने के मामले में तेजी से बढ़ोत्तरी दर्ज की जा रही है। शाहजहांपुर जिला अस्पताल में सांप के काटे मरीजों की तादाद लगातार बढ़ती जा रही है। यहां दर्ज आंकड़ों पर नजर डालें तो पिछले एक हफ्ते में सांप के काटे जाने के 35 मरीजों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जिनमें लगभग आधा दर्जन लोगों की मौत तक हो चुकी है। कई ऐसे लोग भी हैं जो प्राइवेट तौर पर भी सांप काटे जाने का इलाज करा रहे हैं। सांप पकड़ने वाले जानकारों की माने तो सांप बरसात के मौसम में चूंहों और मेढकों के शिकार की तलाश में घरों में घुस जाते हैं और अपने बचाव में लोगों को डंस लेते हैं।

कलान के रहने वाले आदर्श नाम के युवक को खेत में फसल लगाते समय सांप ने काट लिया था। जिसके बाद खेत में दूसरे शख्स ने उसके पैर पर कपड़ा बांध दिया जिससे की सांप का जहर शरीर में न फैल सके। उसके बाद आदर्श को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसका इलाज किया जा रहा है। बंडा थाना क्षेत्र की रहने वाली पिंकी के घर में भी एक अलमारी मे सांप बैठा था। पिंकी ने बताया कि अलमारी से कुछ लेने गई तो उसने बगैर देखे अलमारी में हाथ डाल दिया। जिससे सांप ने उसके हाथ पर काट लिया। उसके बाद उसको अस्पताल में भर्ती कराया गया।

इमरजेंसी मेडिकल अफसर, अनुराग पराशर का कहना है कि जिला अस्पताल में सांप के काटे जाने वाली खास दवा एंटीवेनम प्रयाप्त मात्रा में मौजूद है। लेकिन जरूरत है कि सांप काटे जाने पर जल्द से जल्द एंटीवेनम की डोज मरीज को मिल जाए वर्ना मरीज की जान जा सकती है। उनका कहना है कि इस मौसम में बिलों में पानी भर जाता है जिससे सांप बाहर आ जाते हैं और सूखी जगह की तलाश में वो घर मे घुस जाते हैं। सांप के ऊपर जब पैर पड़ता है को वो दब जाने पर उस परिस्थिति में पलटकर काट लेता है। ऐसा ज्यादातर अंधेरे में होता है। साथ ही डॉक्टर का कहना है कि सांप के कांटे जाने के बाद मरीज झांड़-फूंक करने वालों के पास न जाकर सीधे अस्पताल आएं।

बरसात के मौसम में सांपों के बिलों में पानी भर जाता है और शिकार की संभावनाएं भी कम हो जाती हैं। यही वजह है कि सांप इंसानों के बीच में बड़ी तादात में पहुंच रहे हैं। ऐसे में ये सांप लोगों के लिए किसी आतंक से कम साबित नहीं हो रहा है। क्योंकि ये लोगों के लिए एक ऐसा दुश्मन है जो कभी भी कहीं भी हमला कर सकता है। ऐसे में जरूरी है कि सांप के काटे जाने पर जितनी जल्दी हो सके मरीज को अस्पताल ले जाएं ताकि उसकी जान बचाई जा सके।​

Read more: नाग से मौत की लड़ाई लड़ा कुत्ता, वफादारी से बचा ली 7 जवानों की जिंदगियां

देखिए VIDEO...

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Snakes are fear for the Village
Please Wait while comments are loading...