• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

Prayagraj News: Dengue के आंकड़ों ने तोड़ा 5 सालों का रिकॉर्ड, ज़िला प्रशासन की मुश्किलें बढ़ीं

Google Oneindia News

Dengue in Prayagraj: उत्तर प्रदेश में डेंगू के मामलों में लगातार इजाफा होता जा रहा है। योगी सरकार डेंगू से निपटने के लिए तमाम कोशिश कर रही है लेकिन कई शहरों में मामलों में बढ़ोत्तरी दर्ज की जा रही है। ऐसा ही कुछ नजारा यूपी के प्रयागराज में सामने आया है। प्रयागराज में पिछले पांच सालों में सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं। इन आंकड़ो को देखते हुए सरकार की टेंशन बढ़ गई है। अधिकारियों का कहना है कि जब तक स्थानीय लोगों का सहयोग नहीं मिलेगा तब तक इससे पूरी तरह से निपटना बहुत मुश्किल है।

डेंगू

पांच सालों में सबसे ज्यादा मामले आए

अधिकारियों की माने तो यूपी की इस संगम सिटी में पिछले पांच वर्षों की तुलना में 2022 में डेंगू के सबसे अधिक मामले देखे गए हैं, जैसा कि स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों से पता चलता है। 2021 में केसलोड 1,299 था जबकि 2019, 2018 और 2017 में यह 1000 से कम था। हैरानी की बात यह है कि ज्यादातर मामले पॉश रिहायशी इलाकों से सामने आए हैं, जिनमें तेलियारगंज, राजापुर, सुलेमसराय, जॉर्ज टाउन, नैनी, सिविल लाइंस और अशोक नगर आदि शामिल हैं।

प्रयागराज में एक लाख से अधिक घरों में हुआ सर्वेक्षण

1 लाख से अधिक घरों के सर्वेक्षण से यह भी पता चला है कि उनमें से लगभग 20% में एड्स मच्छरों के लार्वा थे जो डेंगू पैदा करने वाले वायरस को ले जाते हैं। इस बीच, संगम शहर ने शुक्रवार को डेंगू के नौ नए मामले दर्ज किए, जिससे मामलों की संख्या 1,408 हो गई। स्वास्थ्य अधिकारियों ने दावा किया कि जबकि 1,378 मरीज ठीक हो चुके हैं, 30 का अस्पताल (11) और घरों (19) में इलाज चल रहा है। शहर में अब तक सात मौतें भी हुई हैं।

जल जमाव और लगातार बारिश से बिगड़ी हालत

जिला मलेरिया अधिकारी (प्रयागराज) एके सिंह ने इस साल डेंगू के सबसे ज्यादा मामलों के पीछे मानसून के देर से आने, लगातार बारिश, सुनसान इलाकों में बारिश के पानी के जमाव और घरों के अंदर लार्वा की मौजूदगी को जिम्मेदार ठहराया। डेंगू के मामलों के फैलने के मद्देनजर स्वास्थ्य विभाग ने जिले में अपने चरम के दौरान 60 से अधिक हॉटस्पॉट को अपने दायरे में लिया था। उन्होंने कहा, "अब पिछले एक सप्ताह में 10 से भी कम मामले सामने आए हैं।"

सर्वेक्षण के दौरान अधिकांश घरों में मिले लार्वा

एक वरिष्ठ स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि निवासियों ने अपने आस-पास पानी को जमा होने दिया और इसे बाहर निकालने की जहमत नहीं उठाई, जिससे समस्या हो रही है। हालांकि, स्थानीय लोगों ने कहा कि नगर निगम के अधिकारियों के आवासीय क्षेत्रों में धूमन सुनिश्चित करने के दावे के बावजूद, सर्वेक्षण के दौरान घरों के अंदर डेंगू फैलाने वाले मच्छरों के लार्वा बहुतायत में पाए गए।

लोगों को जागरूक करने के लिए 60 टीमों का गठन

शहर में खाली पड़े मकानों ने भी अधिकारियों की परेशानी बढ़ा दी है। इस मुद्दे के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए जिले में 60 से अधिक टीमों का गठन किया गया था। लगभग 20 टीमें अकेले शहर के पॉश इलाकों में रहने वालों को शिक्षित और जागरूक कर रही थीं, जहां शहर से डेंगू के अधिकांश मामले सामने आए थे। अधिकारियों ने दावा किया कि उचित स्वच्छता सुनिश्चित करने के लिए सभी उपाय किए जा रहे हैं और शहर में नियमित रूप से फॉगिंग भी की जाती है।

ह भी पढ़ें-Uttar Pradesh में डेंगू को लेकर सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम, कोविड से ये है इसका कनेक्शनह भी पढ़ें-Uttar Pradesh में डेंगू को लेकर सरकार ने उठाया ये बड़ा कदम, कोविड से ये है इसका कनेक्शन

Comments
English summary
Prayagraj News: Dengue figures broke the record of the last 5 years
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X