• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

मुजफ्फरनगर दंगा: हर बंद दरवाजे के पीछे मौत की फैक्‍ट्री

|

[अंकुर कुमार श्रीवास्‍तव]''बहुत बर्बाद कर डालेगी हम दोनों को ये नफरत,
उठो लफ्जे मोहब्‍बत करके सज़दा कर लिया जाये''

मशहूर शायर अनवर जलालपुरी का ये शेर मुजफ्फरनगर जिले में नफरत फैलाने वालों के लिये नसीहत भी है और लगे हाथ भाईचारे की दावत भी दे रहा है। इसके बावजूद भी गंगा-जमुनी तहजीब वाला जिला मुजफ्फरनगर हिंसा की आग में झुलसकर लहूलुहान हो गया है। इस शहर के जिस्‍म पर इसकी जिस आदत ने सबसे ज्‍यादा जख्‍म दिए हैं, वो है यहां के लोगों का असलहों से लगाव। जायज और नाजायज हथियारों से अपना नाता जोड़ कर खुश होने, ब्‍लू जिंस-व्‍हाइट शॅार्ट शर्ट के साथ नंगी पिस्‍टल रखकर खुद को जगलर साबित करने और असलहों में स्‍टेटस सिंबल ढूंढ़ने वाले जिला मुजफ्फरनगर की सिसकियां तो वक्‍त के साथ थम जाएंगी, मगर हथियारों की ये भूख कब और कैसे थमेगी कोई नहीं जानता।

कहा जाता है कि इस देश में जिला मुजफ्फरनगर ही वो एक मात्र जगह है जहां हर गांव और हर घर में कोई ना कोई हथियार जरूर मिल जायेगा। कहा तो यहां तक जाता है कि इस शहर के ज्‍यादातर बंद दरवाजों के भीतर मौत की फैक्ट्री (असल‍हे बनाने की फैक्‍ट्री) चलती है। और जब से यहां खूनखराबा शुरु हुआ है इस फैक्‍ट्री ने ज्‍यादा ही आग उगलना शुरु कर दिया है। इस बात पर सच्‍चाई की मुहर वो लाशें लगा रही हैं जिनपर नाजायज असलहों के गोलियों के निशान हैं। जी हां लाशों के पोस्‍टमार्टम कर रहे डॉक्‍टरों ने कई शवों के पेट में से AK-47 की कारतूस निकाली है।

उuzaffarnagar Violence

बता दें कि AK-47 राइफल रखने की अनुमति सिर्फ सेना के जवानों को है। उल्‍लेखनीय है कि मुजफ्फरनगर में नाजायज असलहे की केवल एक ही फैक्ट्री नहीं है, बल्कि सैकड़ों फैक्ट्रियां हैं जो सालों दर सालों से इस इलाके में लोगों के बीच मौत बांटती रही हैं। अफसोस तो इस बात का है कि तमाम तरक्की और तहजीब के दावे करने वाले इस इलाके में आज भी हथियारों का शौक लोगों को जिंदगी से भी ज्यादा अजीज है। मुजफ्फरनगर में फैले इस दंगे में 48 से ज्‍यादा लोगों ने जिंदगी गंवाई है। हिंसा के बाद मौत का मातम दरअसल इन्हीं फैक्ट्रियों के निकले प्रोडक्ट का अंजाम है।

जाहिर है मौत की इन फैक्ट्रियों का असर अब दिख रहा हो, लेकिन इसकी जमीन तभी तैयार हो गई थी, जब कुकुरमुत्तों की तरह ये फैक्ट्रियां मुजफ्फनगर में उगती रहीं और प्रशासन कान में तेल डाल कर सोता रहा। इस नरसंहार के बाद अब यहीं कहा जा सकता है कि काश! उस वक्‍त कार्रवाई हुई होती तो मुजफ्फरनगर में मातम ना होता। अभी भी वक्‍त है कि सरकार जाग जाये क्‍योंकि मुजफ्फरनगर दंगों का कनेक्‍शन जिला गाजियाबाद से जुड़ता दिख रहा है। ऐसा इसलिये कि दंगा वहां हुआ और यहां अचानक कारतूसों की बिक्री में तेजी आ गई है। गाजियाबाद में असलहों की कुल 15 दुकानें हैं। और इनमें से आठ दुकानों में कारतूसों की बिक्री अचानक से बढ़ी है। बल्कि ना सिर्फ बढ़ी है, सबसे ज्यादा मांग 315 बोर और 12 बोर के कारतूसों की हो रही है जो मुजफ्फरनगर में खूब गरजे थे।

आज आलम ये है कि सड़कों पर ना हिंदू चैन से घूम सकते हैं और ना ही मुसलमान। वक्‍त आ गया है इस बात पर विचार करने का कि इसके लिये जिम्‍मेदार कौन है? इसका सबसे ज्‍यादा नुकसान जनता को है मगर फायदा किसका है? एकांत में सोचा जाये तो सिर्फ वो ही चेहरे नजर आयेंगे जो इंसान नहीं वोट समझते हैं। अहम सवाल ये भी है कि इंसानियत की डोर कहां कमजोर पड़ जाती है कि 5 फीसदी दंगाई 95 फीसदी अमनपरस्‍तों पर हावी हो जाते हैं? संभलने और सोचने के लिये अभी वक्‍त और मौका दोनो है। मासूमों के खौफजदा चेहरे और औरतों के दिल में बसा अनजाना दर्द पढ़ लिया जाये तो शायद ये काली रात बीत जाये। तो आईए कवि गोपाल दास नीरज की इस दो लाइनों से अवगत करा दें जो बहुत कुछ कह रह हैं, समझने की देर है-

है बहुत अंधियार अब सूरज निकलनी चाहिए,
जिस तरह से भी हो ये मौसम बदलनी चाहिए।

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

lok-sabha-home

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Aftermath of Muzaffarnagar riots. According to the reports there is a huge supply of highly destructive arms in Muzaffarnagar district.
For Daily Alerts

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more