सपा विधायक की दबंगई! रातभर होता रहा अवैध खनन, रोकने नहीं आई पुलिस

Subscribe to Oneindia Hindi

बांदा। उत्तर प्रदेश के बांदा जिले के अधिकारियों के लिए आदर्श आचार संहिता का कोई मतलब नहीं है। इसका ताजा उदाहरण बुधवार की रात उस समय देखने को मिला, जब बबेरू कस्बे में सत्तापक्ष के एक विधायक के प्लॉट की पुराई के लिए जेसीबी मशीन से अवैध तरीके से मिट्टी की खोदाई होती रही और जिले के वरिष्ठ अधिकारी सूचना के बाद भी टस से मस नहीं हुए। Read Also: शाहजहांंपुर: मां के अपराध की सजा जेल में भुगतेंगे मासूम बच्चे

 

सपा विधायक की दबंगई! रातभर होता रहा अवैध खनन, रोकने नहीं आई पुलिस

हुआ यह कि जिले के बबेरू कस्बे के औगासी रोड़ पर बिसड़ाखेर एक धार्मिक स्थल है, जहां सत्तापक्ष के एक विधायक ने अपने नए प्लॉट की पुराई में जेसीबी मशीन और छह ट्रैक्टर-ट्राली भेज कर बुधवार की रात दस बजे से मिट्टी की खोदाई का काम शुरू करा दिया। वहीं के ग्रामीण देशराज यादव ने पहले उपजिलाधिकारी बबेरू, फिर जिलाधिकारी, कमिश्नर और अनसुना करने पर बाद में पुलिस अधीक्षक को फोन कर अवैध खनन की सूचना दी। एसपी ने तीन बार शिकायतकर्ता से मौके पर पुलिस बल भेजने की बात कही, लेकिन वहां कोई नहीं पहुंचा और दो बजे रात तक में करीब तीन सौ ट्राली मिट्टी की खोदाई हो गई।

कार्रवाई न होते देख शिकायतकर्ता ने डायल-100 में भी फोन किया, लेकिन यह फोन डेड साबित हुआ। रात करीब दस बजे इस संवाददाता ने भी उपजिलाधिकारी बबेरू को फोन पर सूचना दी, लेकिन उपजिलाधिकारी सुरेन्द्र प्रसाद यादव का कहना था कि 'वह इस समय बांदा में सरकारी बैठक में हैं, मौके पर बबेरू पुलिस को भेज दिया गया है।' किन्तु सच यह था कि पुलिस भेजी ही नहीं गई थी।

शिकायतकर्ता देशराज ने बताया कि 'कई बार फोन करने पर जिलाधिकारी और कमिश्नर का सरकारी फोन रिसीव ही नहीं हुआ और एसपी से तीन बार रात में बात हुई, पर अवैध खनन रोकने कोई होम गार्ड तक नहीं पहुंचा। इसे सत्ता की हनक और विधायक की दबंगई ही माना जाएगा कि आचार संहिता के बाद भी प्रशासन ने अवैध खनन रोकने की जरूरत नहीं समझाी।'

इस मामले में बुंदेलखंड़ तिरहार विकास मंच के अध्यक्ष प्रमोद आजाद ने बताया, 'विधायक द्वारा अवैध खनन कराए जाने की सूचना उन्होंने भी एसडीएम को जरिए फोन देना चाहा लेकिन फोन रिसीव ही नहीं हुआ। उन्होंने आरोप लगाया कि 'उपजिलाधिकारी की जानकारी में ही विधायक के गुर्गों ने अवैध खनन किया है।' उन्होंने तो यहां तक कहा, 'एसडीएम ने ही विधायक को रात में मिट्टी खोदाई कराने की इजाजत दी है। तभी सूचना के बाद कोई अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा।'

उधर, बबेरू के सपा विधायक विश्वंभर सिंह यादव से इस बारे में बात की गई तो उनका कहना था, 'मैंने अपने प्लॉट में मिट्टी पुराई के लिए ठेका दिया था, मिट्टी की खोदाई कहां की गई, मुझे नहीं पता है। इस खनन से मेरा कोई लेना-देना नहीं है। Read Also:भाजपा ने आचार संहिता का उड़ाया मजाक, पार्टी ने मंच पर बांटे पैसे

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In Uttar Pradesh, Police did not come to the spot even after information about illegal soil mining by SP MLA.
Please Wait while comments are loading...