• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

राम मंदिर के बाद BJP-RSS को मिला ज्ञानवापी विवाद के रूप में बड़ा मुद्दा, जानिए इसके पीछे की सियासत

|
Google Oneindia News

वाराणसी, 12 मई: उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में प्रचंड जीत हासिल करने के बाद अब भारतीय जनता पार्टी (BJP) और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) को ज्ञानवापी मस्जिद विवाद ने बैठे बिठाए एक ऐसा मुद्दा दे दिया है जो इनके कोर एजेंडे में शामिल रहा है। हालांकि ज्ञानवापी मस्जिद विवाद से अभी बीजेपी और आरएसस ने दूरी बनाई हुई है लेकिन सूत्रों की माने तो राम मंदिर निर्माण के बाद आरएसएस और उसके समवैचारिक संगठन ज्ञानवापी मस्जिद के मुद्दे को उठाकर हिन्दुत्व के एजेंडे को और धार देने की कोशिश करेंगे। इस बीच विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने कहा है कि वह वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी मस्जिद मुद्दे पर तब तक कदम नहीं उठाएगी, जब तक कि वह अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण नहीं हो जाता।

मंदिर निर्माण तक अभी इस मुद्दे से दूर रहेगी VHP

मंदिर निर्माण तक अभी इस मुद्दे से दूर रहेगी VHP

विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार कहते हैं कि, "हमने (केवीटी-ज्ञानवापी मस्जिद) के मुद्दे को तब तक के लिए रोक दिया है जब तक कि रामलला मंदिर का निर्माण नहीं हो जाता।" कुमार की टिप्पणी उस समय आई है जब वाराणसी की एक स्थानीय अदालत ने अदालत द्वारा नियुक्त अधिवक्ता आयुक्त अजय कुमार मिश्रा की देखरेख में मंदिर-मस्जिद परिसर के सर्वेक्षण का आदेश दिया था। अंजुमन इंतेज़ामिया मस्जिद कमेटी की ओर से बनाई गई ज्ञानवापी मस्जिद की प्रबंध समिति की तरफ से मुस्लिम पक्ष ने अदालत में एक आवेदन दायर कर मिश्रा को हटाने की मांग की, जिसमें उन पर "पक्षपातपूर्ण" होने का आरोप लगाया गया।

हरिद्वार में होने वाली बैठक में उठेगा ज्ञानवापी का मुद्दा

हरिद्वार में होने वाली बैठक में उठेगा ज्ञानवापी का मुद्दा

विहिप से जुड़े सूत्रों के मुताबिक कहा कि आरएसएस की धार्मिक शाखा मानी जाने वाली विहिप अभी इस मुद्दे पर किसी तरह की जल्दबाजी दिखाने के मूड में नहीं है। विहिप अभी देशभर के संतों का मंतव्य जानने के लिए अभी और इंतजार करेगी। ज्ञानवापी मस्जिद का मामला जून में हरिद्वार में होने वाली मार्गदर्शी मंडल की आगामी बैठक में सामने आ सकता है। विहिप के एक नेता ने कहा, 'इसके बाद आगे कोई कार्रवाई की जाएगी।

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद से विहिप का कोई लेना देना नहीं

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद से विहिप का कोई लेना देना नहीं

विहिप ने स्पष्ट रूप से कहा कि केवीटी-ज्ञानवापी मस्जिद मामले का मस्जिद के अंदर किसी चीज से कोई लेना-देना नहीं है। "महिलाएं श्रृंगार गौरी स्थल तक अप्रतिबंधित पहुंच चाहती हैं जो मस्जिद की पश्चिमी दीवार के पीछे स्थित है। वे मस्जिद में प्रवेश की मांग नहीं कर रहे हैं। चैत्र नवरात्रि के चौथे दिन महिलाओं को वर्ष में एक बार देवता की पूजा करने की अनुमति है। पहले की प्रथा के अनुसार, केवीटी से बाहर आने वाली महिलाएं नियमित रूप से श्रृंगार गौरी की पूजा करती थीं। 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंस के बाद सुरक्षा कड़ी किए जाने के बाद इस प्रथा को बंद कर दिया गया था।

सबको अदालत के आदेश का पालन करना चाहिए

सबको अदालत के आदेश का पालन करना चाहिए

विहिप अध्यक्ष ने कहा कि यह "दुर्भाग्यपूर्ण" है कि दूसरी पार्टी (एआईएमसी) अदालत के आदेश का पालन नहीं कर रही है। सर्वेक्षण 1991 में दायर एक मुकदमे के साथ अदालतों में दशकों पुराने विवाद से संबंधित है, जिसमें मस्जिद परिसर में एक प्राचीन मंदिर में पूजा करने की अनुमति मांगी गई थी। पिछले साल 8 अप्रैल को, दिल्ली स्थित राखी सिंह ने अन्य लोगों के साथ ज्ञानवापी मस्जिद की बाहरी दीवार पर स्थित हिंदू देवताओं - श्रृंगार गौरी, गणेश, हनुमान और नंदी की मूर्तियों की दैनिक पूजा की अनुमति की मांग करते हुए एक मामला दर्ज किया था। वाराणसी के सीनियर डिवीजन सिविल कोर्ट ने तब आदेश दिया था कि परिसर का पुरातात्विक सर्वेक्षण किया जाए।

4 दिनों की बहस के बाद कोर्ट ने सुनाया फैसला

4 दिनों की बहस के बाद कोर्ट ने सुनाया फैसला

श्री काशी विश्वनाथ मंदिर ज्ञानवापी प्रकरण में श्रृंगार गौरी मामले को लेकर नियमित दर्शन की याचिका पर आज कोर्ट ने 4 दिनों तक बहस के बाद फैसला सुनाया है कोर्ट ने इस प्रकरण में अंजुमन इंतजा मियां मस्जिद की तरफ से दायर याचिका में वकील क्षण को बदले जाने की मांग पर सुनवाई करते हुए दो अन्य वकील कमिश्नर को सहायक के तौर पर नियुक्त किया है इसमें एक विशाल सिंह और दूसरे अजय सिंह के तौर पर पूर्व के वकील कमिश्नर अजय मिश्रा का सहयोग करेंगे इसके अतिरिक्त कोर्ट ने सर्वे मामले पर फैसला सुनाते हुए 17 मई को सर्वे की रिपोर्ट कोर्ट में दाखिल करने का आदेश दिया है।

यह भी पढ़ें-ज्ञानवापी मस्जिद केस: कोर्ट कमिश्नर को हटाने से कोर्ट का इनकार, 17 मई तक करना होगा सर्वेयह भी पढ़ें-ज्ञानवापी मस्जिद केस: कोर्ट कमिश्नर को हटाने से कोर्ट का इनकार, 17 मई तक करना होगा सर्वे

Comments
English summary
After Ram temple, BJP-RSS got a big issue in the form of Gyanvapi controversy
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X