• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

मेलबर्न टेस्ट डेब्यू के दौरान सिराज के मन में थी सिर्फ एक बात- पिता को यहां होना चाहिए था

Google Oneindia News

बेंगलुरु, 7 जून: भारत के गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने अपने टेस्ट डेब्यू के दौरान ऑस्ट्रेलिया में एक बेहद सफल अभियान में हिस्सा लिया था जहां भारत ने 2-1 से श्रृंखला जीत दर्ज की। सिराज तब अपने पिता के बारे में सोच रहे थे, जिनका कुछ दिन पहले निधन हो गया था, तब सिराज सोच रहे थे कि उनके 'पिता को यहां होना चाहिए था।'

परिवार के साथ, नस्लवाद और कड़े कोविड -19 प्रोटोकॉल से भी जूझ रहे थे

परिवार के साथ, नस्लवाद और कड़े कोविड -19 प्रोटोकॉल से भी जूझ रहे थे

सिराज ने उस सीरीज में बढ़िया प्रदर्शन किया और 13 विकेट हासिल किए, जिनमें से पांच प्रतिष्ठित गाबा में अंतिम टेस्ट में आए थे और भारत ने ऑस्ट्रेलिया के लगभग अभेद्य किले को तोड़ दिया था। वह श्रृंखला, सिराज के करियर में एक निर्णायक मोड़ की तरह आई पर उसी सीरीज से ठीक पहले अपने पिता को खो दिया था। आरसीबी की वेबसाइट के मुताबिक सिराज ने कहा कि अपने परिवार के साथ, नस्लवाद और कड़े कोविड -19 प्रोटोकॉल से भी जूझ रहे थे।

आज ही के दिन सुनील गावस्कर ने खेली थी करियर की सबसे 'बदनाम' पारीआज ही के दिन सुनील गावस्कर ने खेली थी करियर की सबसे 'बदनाम' पारी

 मुझे पिताजी की मृत्यु के बारे में पता चला

मुझे पिताजी की मृत्यु के बारे में पता चला

सिराज ने आरसीबी के हवाले से कहा, "यह मेरे लिए वास्तव में कठिन था। मेरे पिताजी आईपीएल के दौरान भी बीमार थे। लेकिन परिवार के सदस्यों ने मुझे यह नहीं बताया था कि मामला गंभीर है। मुझे उनकी स्थिति के बारे में तब पता चला जब मैं ऑस्ट्रेलिया में उतरा।"

"कोविड -19 प्रोटोकॉल भी था। हमें क्वारंटाइन करना पड़ा। जब हमारी प्रैक्टिस हुई, तो मुझे पिताजी की मृत्यु के बारे में पता चला। मेरी मां ने उस अवधि के दौरान मुझे मजबूत बनाया। उन्होंने मुझसे कहा, 'अपने पिताजी के सपने को पूरा करो और अपना नाम बनाओ। देश को गौरव दिलाओ।' यही मेरी एकमात्र प्रेरणा थी। मुझे यह भी नहीं पता था कि मुझे खेलने का मौका मिलेगा या नहीं। टीम में सीनियर गेंदबाज थे।"

 मुझे लगा कि पिताजी को यहां होना चाहिए था

मुझे लगा कि पिताजी को यहां होना चाहिए था

लेकिन सिराज मौका मिला और बाकी जैसा कि सब कहते हैं, इतिहास बन चुका है। लेकिन उस अवसर पर, सिराज के दिमाग में एकमात्र व्यक्ति उनके पिता थे, जिनके अंतिम संस्कार में वह उस समय सख्त कोविड -19 महामारी प्रोटोकॉल के कारण शामिल नहीं हो सके।

सिराज आगे कहते हैं, "आखिरकार मुझे दूसरे टेस्ट में मौका मिला... जब मैंने मेलबर्न में अपना डेब्यू पहनी, तो मुझे लगा कि पिताजी को यहां होना चाहिए था। मोहम्मद शमी के चोटिल होने के बाद, मुझे भारत के लिए खेलने का मौका मिला। एक बात थी मेरा दिमाग है कि मैंने भारत ए के लिए अच्छा प्रदर्शन किया था और ऑस्ट्रेलिया ए के खिलाफ आठ विकेट लिए थे। इसलिए इसने मुझे भारत के लिए अपनी पहली टेस्ट श्रृंखला में अच्छा प्रदर्शन करने का विश्वास दिलाया।"

सिराज अब आगामी दौरे में इंग्लैंड के खिलाफ तैयार हो रहे हैं

सिराज अब आगामी दौरे में इंग्लैंड के खिलाफ तैयार हो रहे हैं

निराशाजनक आईपीएल 2022 के बाद, सिराज अब आगामी दौरे में इंग्लैंड के खिलाफ एकमात्र टेस्ट के लिए तैयार हो रहे हैं और उम्मीद कर रहे है कि वह अपनी फॉर्म वापस ले ले और भारत को विदेश में एक और सीरीज जीतने में मदद करे। भारत इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज में 2-1 से आगे चल रहा है।

Comments
English summary
Mohammed Siraj recalls how did he missed his father in Australia test series
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X