• search
राजस्थान न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

'कुतिया मरने पर भी नेता शोक जताते हैं, आंदोलन में मारे गए किसानों पर कोई बोला तक नहीं'-राज्यपाल मलिक

|
Google Oneindia News

झुंझनूं। तीन कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर जारी किसान आंदोलन को लेकर मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने चिंता जताते हुए कहा है कि किसान आंदोलन लंबा चलना किसी के भी हित में नहीं है।

satyapal malik Meghalaya Governor statement on kisan agitation in Jhunjhunu

राजस्थान के झुंझुनूं में एक निजी कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने मीडिया से बातचीत में कहा कि हमारे नेता ऐसे हो गए हैं कि कोई कुतिया भी मर भी जाए तो नेता तुरंत शोक संदेश जारी कर देते हैं, मगर आंदोलन में 250 किसान मारे गए तब कोई बोला तक नहीं। यह बात दर्दनाक है।

Rajasthan Bypolls 2021 : राजस्थान उपचुनाव में कांग्रेस-भाजपा इन चेहरों पर लगा सकती हैं दांवRajasthan Bypolls 2021 : राजस्थान उपचुनाव में कांग्रेस-भाजपा इन चेहरों पर लगा सकती हैं दांव

राज्यपाल मलिक ने कहा कि सरकार यदि एमएसपी को कानून के दायरे में ले आए तो किसान आंदोलन का मसला सुलझ सकता है। ऐसा कोई मामला नहीं है, जिसका कोई समाधान नहीं होता। किसान आंदोलन के मामले में दोनों पक्षों के बीच दूरी भी अधिक नहीं है।

आंदोलन कर रहे किसान न्यूनतम समर्थन मूल्य चाहते हैं। अब यह देशभर के किसानों का मुद्दा बनता जा रहा है। इसलिए किसान आंदोलन के संबंध में जल्द से जल्द समाधान निकाला जाना चाहिए। फिलहाल मैं संवैधानिक पद पर हूं। ऐसे में किसानों, नेताओं को सिर्फ सलाह ही दे सकता हूं। मेरी सिर्फ इतनी ही भूमिका है।

Comments
English summary
satyapal malik Meghalaya Governor statement on kisan agitation in Jhunjhunu
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X