• search
राजस्थान न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

'मौत' के 37 दिन बाद जिंदा लौटा प्रकाश, पत्नी ने बनवा लिया था मृत्यु प्रमाण पत्र, जानिए इतने दिन कैसे गुजरे?

|

बारां, 7 जून। राजस्थान की यह खबर भले ही आपको आश्चर्य चकित कर देगी ,परन्तु यह सच है कि जिस शख्स को खुद नगरपरिषद करीब 37 दिन पूर्व मृतक मान चुकी अब वह जिंदा लौट आया है।

ओमप्रकाश वाल्मीकि जिंदा लौटा

ओमप्रकाश वाल्मीकि जिंदा लौटा

मामला राजस्थान के बारां शहर का है। यहां युवक ओमप्रकाश वाल्मीकि एक माह पूर्व अपने घर से बिना बताए रामगढ़ अपने रिश्तेदारों के यहां चला गया था। ओमप्रकाश आरोप है कि वो उसकी पत्नी के अत्याचारों से परेशान है।

 पत्नी से परेशान था ओमप्रकाश

पत्नी से परेशान था ओमप्रकाश

उसकी पत्नी उसके साथ आए दिन मारपीट करती है और उसे पुलिस थाने में बंद करवा देती है। जिस पर वह अपनी पत्नी की यातनाओं से परेशान होकर घर छोड़कर चला गया था। इस बीच पत्नी ने नगरपरिषद में अपने ही पति की मौत की झूठी सूचना देकर उसका मृत्यू प्रमाण पत्र भी बनवा लिया।

राजस्थान में पहली बार : BJP मेयर सौम्या गुर्जर, चेयरमैन व पार्षद को गहलोत सरकार ने क्यों किया सस्पेंड?राजस्थान में पहली बार : BJP मेयर सौम्या गुर्जर, चेयरमैन व पार्षद को गहलोत सरकार ने क्यों किया सस्पेंड?

 मृत्यु प्रमाण पत्र लेकर तब पता चला

मृत्यु प्रमाण पत्र लेकर तब पता चला

जब नगरपरिषद के कर्मचारी मृत्यु प्रमाण पत्र लेकर ओमप्रकाश के मोहल्ले में पहुंचे तो लोग युवक की मौत की सूचना पाकर हक्के बक्के रह गए। बाद में जब ओमप्रकाश की तलाश शुरू की तो वो रामगढ़ में अपने रिश्तेदारों के घर मिले। उसके बाद उन्हें बारां लेकर आए। जिंदा होने के बावजूद पति का मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने पर उसने अपनी पत्नी के खिलाफ बारां कोतवाली पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करवाई।

English summary
baran's Omprakash returned alive 37 days after death wife had got death certificate made
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X