• search
जौनपुर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

बुढ़ापे में सऊदी अरब से बेटे की वापसी को तरस रहा पिता, 2 वर्षों से सरकारी दफ्तरों के काट रहा चक्कर

Google Oneindia News

विश्व के विभिन्न देशों की जेलों में 7,000 के लगभग भारतीय कैद हैं जो अपने घर से गए तो बेहतर भविष्य और रोजी-रोटी की तलाश में विदेश गए थे। परंतु किन्हीं कारणों से वहां जेल की सलाखों के पीछे पहुंच गए। इनमें से लगभग 41 प्रतिशत भारतीय तो अकेले खाड़ी के देशों की जेलों में ही कैद हैं। इनमें ऐसे बदनसीब भी हैं जिनको उन्हें नौकरी पर रखने वाले शेखों आदि ने विभिन्न आरोपों में फंसाने की धमकी देकर बंधुआ बनाकर रखा हुआ है और उनका पासपोर्ट तथा वीजा आदि के दस्तावेज भी अपने पास रखे हुए हैं ताकि वे भाग न जाएं। ऐसा ही एक मामला सामने आया है उत्तर प्रदेश के जौनपुर से, जिसमे एक युवक रोजी रोटी की तलाश 2010 में मुंबई से पासपोर्ट बनाकर सऊदी अरब गया था और पासपोर्ट की वैधता 2020 तक थी।

Father is trying to bring his son to India from Saudi Arabia

एक साल से लगा रहे हैं अधिकारीयों के चक्कर
बता दें कि जौनपुर तहसील के मड़ियाहूं थाना बरसठी ग्राम महुवारी में अरविंद कुमार नाम का युवक रहता है। पिता का नाम गंगाघर है। 2010 में अरविन्द रोजी रोटी की तलाश मुंबई से पासपोर्ट बनवाकर सऊदी अरब गया था। पासपोर्ट की वैधता 2020 तक की ही थी। 2018 में अरविन्द अपनी मां के देहांत के बाद वापस भारत आया था। उसके 1 महीने के बाद वापस सऊदी अरब चला गया। बाद में 2020 में पासपोर्ट की वैधता समाप्त होने के बाद से अरविन्द सऊदी अरब से आने की अनुमति मांग रहा है मगर वहां की सरकार उसे आने की अनुमति नहीं दे रही है। वहीं पिता गंगाघर अपने बेटे की भारत वापसी के लिए भारत सरकार से लगातार गुहार लगा रहे हैं। पिता का कहना की है कि वह एक साल से अधिकारियों के चक्कर लगा रहे हैं लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है।
आज बेरोजगारी के जमाने में ये लोग विदेश जाकर न सिर्फ अपना और अपने परिवार तथा माता-पिता को पाल रहे हैं बल्कि किसी सीमा तक विदेशी मुद्रा कमा कर भी देश की अर्थव्यवस्था में योगदान दे रहे हैं। ऐसे में परिवार के अलावा देश और समाज के प्रति उनके योगदान को देखते हुए भारत सरकार को विदेशों में फंसे हुए ऐसे बदनसीबों की अविलम्ब सुध लेनी चाहिए।

Father is trying to bring his son to India from Saudi Arabia

ब्लैकमेल करके वहीं रहने को विवश करते हैं
इन देशों में काम करने वाले भारतीय कामगार जब स्वदेश लौटने के लिए मालिकों को अपना हिसाब चुकता कर देने और छुट्टिïयां एवं वेतन आदि के बकाए देने के लिए कहते हैं तो वे उन्हें उनकी बनती रकम देने की बजाय विभिन्न तरीकों से ब्लैकमेल करके उन्हें वहीं रहने के लिए विवश करते हैं। सजा प्राप्त भारतीयों की स्वदेश वापसी के लिए संयुक्त अरब अमीरात जैसे खाड़ी देशों सहित 30 देशों के साथ एक-दूसरे देश के कैदियों के आदान-प्रदान की संधि के बावजूद उनकी समस्याएं यथावत हैं तथा विदेशों में फंसे भारतीयों को छुड़वाने के सरकारी प्रयास अपर्याप्त सिद्ध हो रहे हैं।

सऊदी में महिलाओं पर नजर रखने के लिए Apple और Google ने बनाया ऐपसऊदी में महिलाओं पर नजर रखने के लिए Apple और Google ने बनाया ऐप

Comments
English summary
Father is trying to bring his son to India from Saudi Arabia
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X