• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कोरोना महामारी के बीच 17 फीसदी तक कम हुआ कार्बन प्रदूषण, लॉकडाउन से पर्यावरण को मिली राहत

|

इंग्लैड। कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए दुनिया के लगभग हर देश में लॉकडाउन लगाया गया। जिसका सकारात्मक असर हमारे पर्यावरण पर भी साफ पड़ा। बीते महीने पूरी दुनिया में रोजाना होने वाले कार्बन उत्सर्जन में 17 फीसदी तक की कमी देखी गई है। अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों ने कार्बन डाइऑक्साइड पर अपने शोध में पाया है कि प्रदूषण का स्तर अब फिर से वापस लौटने लगा है, लेकिन बीते साल के मुकाबले ये 4 से 7 फीसदी के बीच रहेगा।

carbon pollution, coronavirus, coronavirus pandemic, covid19, covid-19, lockdown, study, pollution, climate change, कार्बन प्रदूषण, कोरोना वायरस, कोरोना वायरस महामारी, कोविड-19, कोविड19, शोध, स्टडी, प्रदूषण, जलवायु परिवर्तन, लॉकडाउन

वैज्ञानिकों का ये भी कहना है कि जलवायु परिवर्तन के मामले में प्रदूषण में थोड़े समय के लिए आई कमी समुद्र में एक बूंद के समान होती है। अगर पूरी दुनिया में साल भर सख्ती से लॉकडाउन लगाया जाता है कि तो प्रदूषण का स्तर 7 फीसदी तक रहेगा और अगर पाबंदियां हटा ली जाती हैं तो 4 फीसदी तक रहेगा। वैज्ञानिकों ने ये भी कहा है कि दूसरे विश्व युद्ध के बाद कार्बन उत्सर्जन में यह सबसे बड़ी वार्षिक गिरावट है। इस शोध को नेचर क्लाइमेट चेंज पत्रिका में प्रकाशित किया गया है।

इसके मुताबिक दुनिया में सबसे ज्यादा कार्बन उत्सर्जन करने वाले देश चीन ने फरवरी में कार्बन डाइऑक्साइड में एक चौथाई की कटौती की है। अमेरिका ने अप्रैल माह में करीब एक तिहाई की कटौती की है। भारत में 26 फीसदी की कटौती और यूरोप में 27 फीसदी की कटौती देखी गई है। इस शोध के मुख्य लेखक कोरिन्ने ले क्वेरे हैं, जो यूनिवर्सिटी ऑफ ईस्ट एंग्लिया में जलवायु वैज्ञानिक भी हैं। उन्होंने कहा कि अगर दुनिया दोबारा प्रदूषण के स्तर पर लौट आती है, तो ये गिरावट समुद्र में एक बूंद के बराबर ही होगी।

उन्होंने कहा कि 'इसे बिल्कुल वैसा ही माना जाएगा, जैसे कि आपके पास पानी से भरा एक बाथ टब है और आपने केवल 10 सेकेंड के लिए नल बंद कर दिया है।' इससे साफ पता चलता है कि अगर कार्बन उत्सर्जन को कम करना है, तो उसके लिए पूरी दुनिया को कितनी कोशिशों को करने की जरूरत है। वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर पूरी दुनिया बिना किसी महामारी के ही कार्बन उत्सर्जन में कमी कर लेती है तो धरती के तापमान को एक डिग्री गर्म होने से बचाया जा सकता है। उत्सर्जन में कमी के पीछे ट्रक और कार जैसे परिवहन का कम चलना भी एक कारण है।

लॉकडाउन में अद्भुत नजारा, रुड़की से 312 किलोमीटर दूर दिख रही हिमालय की बर्फीली चोटियां, देखें तस्‍वीरें ,

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
world carbon pollution fell 17 percent at coronavirus pandemic peak says study
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X