• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

क्या Facebook, Twitter, Google सब डोनाल्ड ट्रंप के दुश्मन हैं?

|

वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप मंगलवार को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक और ट्विटर से लेकर दुनिया के सबसे सर्च इंजन गूगल को धमकी देते हुए, उन्हें सावधान रहने के लिए कहा है। ट्रंप का कहना है कि फेसबुक, ट्विटर और गूगल जैसे प्लेटफॉर्म बहुत ही खतरनाक क्षेत्र पर चल रहे हैं और उन्हें सावधान रहना होगा। इससे पहले ट्रंप ने ट्वीट कर गूगल पर अपनी भड़ास निकालते हुए उनके खिलाफ फर्जी खबरे दिखाने का आरोप लगाया था। ट्रंप का कहना है कि गूगल सिर्फ लेफ्ट विंग की स्टोरीज और न्यूज को प्राथमिकता देता है। इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति कई बार अपने देश की मीडिया के लिए 'फेक न्यूज की फैक्ट्री' जैसे शब्दों का प्रयोग कर चुके हैं।

व्हाइट हाउस करेगा Google के खिलाफ जांच

व्हाइट हाउस करेगा Google के खिलाफ जांच

फीफा प्रेसिडेंट से मीटिंग करने के बाद ऑवल ऑफिस में डोनाल्ड ट्रंप ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि गूगल बहुत लोगों से फायदा उठा रहा है और यह एक बहुत ही गंभीर बात है। ट्रंप ने कहा, 'अच्छा होगा कि वे सावधान हो जाएं, क्योंकि वे लोगों के साथ ऐसा नहीं कर सकते।' ट्रंप के अनुसार, गूगल 'ट्रंप न्यूज' की सिर्फ नेगेटिव न्यूज ही दिखाता है और अच्छी खबरों को छिपाता है। ट्रंप के इस आरोप के बाद व्हाइट हाउस ने कहा है कि वे इस मामले की जांच करेंगे कि क्या वाकय में गूगल राष्ट्रपति से जुड़े पॉजिटिव आर्टिकल को छिपा रहा है।

Facebook और Twitter को भी धमकाया

Facebook और Twitter को भी धमकाया

गूगल के साथ-साथ ट्रंप ने अपनी भड़ास फेसबुक और ट्विटर पर भी निकाली है। उन्होंने कहा, 'अगर आप देखेंगे कि ट्विटर और फेसबुक पर क्या चल रहा है, उन्हें सावधान रहना होगा, क्योंकि वे लोगों के साथ ऐसा बिल्कुल भी नहीं कर सकते। हमारे पास बहुत सारी, हजारों शिकायतें आ रही हैं, और तुम यह बिल्कुल नहीं कर सकते। तो मुझे लगता है कि गूगल, फेसबुक और ट्विटर बहुत ही खतरनाक क्षेत्र पर चल रहे हैं और उन्हें सावधान रहना होगा। बड़े स्तर की आबादी के साथ ये सही नहीं है। ठीक है?'

ट्रंप नहीं बता पाए कि आखिर सोशल मीडिया से उन्हें समस्या क्या है?

ट्रंप नहीं बता पाए कि आखिर सोशल मीडिया से उन्हें समस्या क्या है?

ट्रंप के इन आरोपों का ट्विटर और फेसबुक ने तो फिलहाल जवाब नहीं दिया, लेकिन गूगल ने कहा कि वे किसी भी राजनीतिक भावनाओं को हेरफेर करने के लिए सर्च रिजल्ट को इधर-उधर नहीं करते हैं। हालांकि, यह अलग बात है कि ट्रंप यह नहीं बता पाए कि आखिर उन्हें सोशल मीडिया से क्या समस्या है और लोगों से उन्हें किस प्रकार की शिकायतें मिल रही है। ट्रंप ने इससे पहले आरोप लगाया था कि ट्विटर उनकी पार्टी रिपब्लिकन के साथ भेदभाव कर रहा है और सीमित सर्च रिजल्ट दिखा रहा है। बाद में ट्विटर ने ट्रंप के इन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया था।

राइट विंग का भड़काऊ कंटेंट पॉलिसी के खिलाफ...

राइट विंग का भड़काऊ कंटेंट पॉलिसी के खिलाफ...

बता दें कि इसी माह एपल, फेसबुक, ट्विटर, गूगल यू ट्यूब, पिंटररेस्ट और स्पॉटिफी ने राइट विंग के कई आर्टिकल व पॉडकास्ट को इसलिए हटा दिया था, क्योंकि वे उनकी पॉलिसी व नियम और शर्तों का उल्लंघन कर रहे थे। एपल ने अपने बयान में कहा था कि हम ऐसे किसी भी नफरत भरे भाषणों को बर्दाशत नहीं कर सकते, जो हमारी पॉलिसी के खिलाफ काम करता है। एपल ने स्पष्ट कहा था कि हमारे प्लेटफॉर्म पर क्रिएटर्स और डेवलेपर्स को यहां के सुरक्षित वातावरण के बारे में पूरा पता होना चाहिए।

यह भी पढ़ें: मीडिया के बाद गूगल पर भड़के ट्रंप, फेक न्यूज दिखाने का लगाया आरोप

English summary
Why Donald Trump thinks Facebook, Twitter, Google all are his enemy?
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X