• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

अल-जवाहिरी को अमेरिका ने मारा तो बौखलाया तालिबान, बाइडेन को दिलाई दोहा समझौते की याद

तालिबान लगातार इनकार करता रहा है कि, अफगानिस्तान में ही अल-जवाहिरी छिपा हुआ है। पिछले दिनों भारत के साथ हुई बैठक के दौरान तालिबान ने कहा था, कि वो ईरान भाग गया है।
Google Oneindia News

काबुल, अगस्त 02: अमेरिकी ड्रोन हमले में अलकायदा प्रमुख अल-जवाहिरी के मारे जाने कुछ घंटे के बाद तालिबान की तरफ से प्रतिक्रिया आ गई है और तालिबान सरकार के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने हमले की निंदा की है और संकेत दिया है कि, इस तरह के हमले अमेरिका और अफगानिस्तान के बीच संबंधों पर प्रभाव डाल सकते हैं। इसके साथ ही तालिबान ने काबुल में अमेरिकी एयरस्ट्राइक को दोहा समझौते का उल्लंघन बताया है।

तालिबान ने की जवाहिरी के मारे जाने की निंदा

तालिबान ने की जवाहिरी के मारे जाने की निंदा

तालिबान सरकार के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने कहा कि, "अफगानिस्तान के इस्लामिक अमीरात की सरकार इस हमले की कड़ी निंदा करता है और इसे अंतर्राष्ट्रीय सिद्धांतो और दोहा समझौते का स्पष्ट उल्लंघन मानता है। इस तरह की कार्रवाई पिछले 20 वर्षों मे अफगानिस्तान में असफल अनुभवों की पुनरावृत्ति है और संयुक्त राज्य के हितों के खिलाफ है। तालिबान के प्रवक्ता ने कहा कि, ये हवाई हमला काबुल शहर के शेरपुर इलाके में एक रिहायशी मकान पर किया गया लेकिन हमले की प्रकृति का पहले खुलासा नहीं हुआ। जबीहुल्ला मुजाहिद ने आगे कहा कि, 'इस्लामिक अमीरात की सुरक्षा और खुफिया एजेंसियों ने घटना की जांच की और पाया है कि ये हमला अमेरिकी ड्रोन द्वारा किया गया था और इस तरह की कार्रवाइयों को दोहराने से उपलब्ध अवसरों को नुकसान होगा"।

तालिबान करता था इनकार

तालिबान करता था इनकार

आपको बता दें कि, तालिबान लगातार इनकार करता रहा है कि, अफगानिस्तान में ही अल-जवाहिरी छिपा हुआ है। पिछले दिनों भारत के साथ हुई बैठक के दौरान तालिबान के गृहमंत्री सिराजुद्दीन हक्कानी ने कहा था, कि अल-जवाहिरी भागकर ईरान चला गया है। हालांकि, भारत ने उसकी बातों पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया था। लेकिन, अब पता चल रहा है, कि जिस मकान में अल-जवाहिरी मारा गया है वो मकान हक्कानी का ही था और कुछ रिपोर्ट्स में यहां कर कहा गया है, कि हमले में सिराजुद्दीन हक्कानी का भाई और उसके दो सहयोगी भी मारे गये हैं। हालांकि, इसकी अभी पुष्टि नहीं हुई है। वहीं, इस हमले के बारे में बात करते हुए समाचार एजेंसी रॉयटर्स से अमेरिकी खुफिया एजेंसी रॉयटर्स के एक बड़े अधिकारी ने बताया कि, अमेरिका की आर9एक्स निंजा मिसाइल के सटीक हमले में ये मोस्ट वांटेड आतंकी मारा गया है, जिसे ड्रोन से फायर किया गया था।

तालिबान ने किया दोहा समझौते का उल्लंघन

तालिबान ने किया दोहा समझौते का उल्लंघन

हालांकि, तालिबान इसे दोहा समझौते का उल्लंघन बता रहा है, लेकिन एक्सपर्ट्स बताते हैं, कि अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में अमेरिकी ड्रोन हमले में अल-कायदा प्रमुख अयमान अल-जवाहिरी का मारा जाना 2020 के दोहा समझौते में अपनी आतंकवाद-रोधी गारंटी को पूरा करने में तालिबान सेटअप की पूर्ण विफलता को उजागर करती है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने मंगलवार को घोषणा की कि 71 वर्षीय जवाहिरी शनिवार को काबुल शहर में "सटीक हमले" में मारा गया है। बाइडेन ने कहा कि, अमेरिकी खुफिया विभाग ने इस साल की शुरुआत में मिस्र में जन्मे आंखों के इस सर्जन के बारे में पता लगा लिया था और उन्होंने एक सप्ताह पहले एयरस्ट्राइक को मंजूरी दी थी।

अयमान अल-जवाहरी का 'प्रोजेक्ट इंडिया' क्या था? दो वीडियो में बताया था भारत में जिहाद का फॉर्मूलाअयमान अल-जवाहरी का 'प्रोजेक्ट इंडिया' क्या था? दो वीडियो में बताया था भारत में जिहाद का फॉर्मूला

Comments
English summary
Taliban have condemned the US drone airstrike on Kabul and reminded Biden of the Doha Agreement.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X