• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी: क़तर का वो शहज़ादा जो संयुक्त अरब अमीरात में 'हिरासत' में लिया गया

By Bbc Hindi

क़तर पर हुकूमत करने वाले अल-थानी खानदान के शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी के बारे में ये कहा जा रहा है कि उन्हें संयुक्त अरब अमीरात में उनकी मर्जी के ख़िलाफ़ हिरासत में रखा गया है.

पिछले साल शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी ने क़तर संकट के समय सऊदी अरब से बातचीत में प्रमुख भूमिका निभाई थी.

रविवार को शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी ने यूट्यूब पर एक वीडियो संदेश जारी किया. इसमें उन्होंने कहा कि संयुक्त अरब अमीरात में उन्हें उनकी मर्ज़ी के ख़िलाफ़ रखा जा रहा है.

उन्होंने ये भी दावा किया है कि अबू धाबी के क्राउन प्रिंस ने उन्हें क़ैद कर रखा है और अगर उनके साथ कुछ होता है तो क्राउन प्रिंस ही इसके लिए ज़िम्मेदार होंगे.

संयुक्त अरब अमीरात के एक अधिकारी ने इन आरोपों से इनक़ार किया है. वीडियो संदेश में क़तर के मौजूदा आमिर के रिश्तेदार शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी एक कुर्सी पर बैठे कैमरे से मुखातिब हैं.

प्रतिबंधों के बाद क़तर पर अरबों डॉलर का बोझ

फ़ोन कॉल पर बिगड़ी सऊदी अरब-क़तर की बात!

शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी
Reuters
शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी

वीडियो संदेश

शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी ने वीडियो संदेश में कहा, "मैं फिलहाल अबू धाबी में हूं. शेख मोहम्मद मेरी मेजबानी कर रहे हैं. लेकिन मैं कोई मेहमान नहीं हूं बल्कि एक बंदी हूं. उन्होंने मुझे कहीं आने-जाने से मना किया है. मैं आपको ये बताना चाहता हूं कि अगर मुझे कुछ होता है तो क़तर इसके लिए ज़िम्मेदार नहीं होगा."

उनके आरोपों का जवाब देते हुए अबू धाबी के शिक्षा विभाग और चरमपंथरोधी सेंटर के प्रमुख अली राशिद अल-नुआइमी ने कहा कि शेख अबदुल्ला जब भी जाना चाहें, जाने के लिए आज़ाद हैं.

शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी की कोशिशों के बाद ही सऊदी अरब ने क़तर के तीर्थयात्रियों को हज जाने के लिए इजाज़त दिलवाई थी. जून, 2017 में खाड़ी के अरब देशों ने क़तर के साथ राजनयिक संबंध तोड़ लिए थे.

बीबीसी के अरब मामलों के संपादक सेबास्टियन उशर का कहना है कि पिछले साल क़तर संकट के समय शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी का अचानक फलक पर उभरे और अब हालात बिलकुल ही बदले हुए लग रहे हैं. ऐसा लग रहा था कि शेख अब्दुल्ला सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात की शह पर काम कर रहे थे और अफवाहें इस बात को लेकर भी थी कि उन्हें क़तर के मौजूदा आमिर के विकल्प के तौर पर देखा जा रहा है.

कौन हैं शेख अब्दुल्ला बिन अल थानी

उनके दादा क़तर पर हुकूमत करने वाले तीसरे अमीर शेख अब्दुल्ला बिन जासिम अल-थानी थे. उनके पिता शेख अली बिन अब्दुल्ला अल-थानी क़तर के चौथे अमीर बने और भाई शेख अहमद बिन अली अल-थानी क़तर के पांचवें अमीर थे.

लेकिन जिस तरह से इस शहज़ादे की सऊदी अरब की मीडिया में तारीफ हो रही है, उससे ये लगता है कि आने वाले वक्त में क़तर संकट को सुलझाने की दिशा में शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी के लिए अहम भूमिका की ज़मीन तैयार की जा रही है.

18 सितंबर को सऊदी अख़बार 'अल-हयात' ने शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी पर एक लंबा लेख छापा. लेख में उनके बयान और अल-थानी खानदान की इस मुद्दे पर बातचीत की अपील पर खासा जोर दिया गया.

क़तर और सऊदी के नेता बातचीत के लिए तैयार

क्या बदहाली की तरफ़ बढ़ता जा रहा है क़तर?

परिवार का ऐतिहासिक विवाद

शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी के पिता शेख अली बिन अब्दुल्ला अल-थानी के दौर में ही क़तर और दुबई ने साझा मुद्रा की घोषणा की थी और बाद में दुबई संयुक्त अरब अमीरात का हिस्सा बन गया था. उसी दौर में 1971 में क़तर को ब्रिटेन से आज़ादी मिली.

उनके भाई की हुकूमत के वक्त क़तर आर्थिक तरक्की का गवाह बना और खाड़ी में पहले ऑफ़शोर (सागर तटीय इलाके में) तेल के खजाने का पता चला. शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी ने हालुल द्वीप पर एक तेल उत्खनन का प्लांट लगाया और शेख खलीफा की हुकूमत के दौर में 1977 में अबू हनीन में तेल का उत्पादन शुरू हुआ.

1972 में शेख खलीफा बिन हमाद अल-थानी अपने चचेरे भाई शेख अहमद बिन अली की हुकूमत का तख्तापलट कर सत्ता में आए थे. 1995 में उनके बेटे हमाद ने पिता को सत्ता से बेदखल कर मुल्क की बागडोर अपने हाथ में ले ली और 2013 में उन्होंने सत्ता अपने बेटे शेख तामिम को सौंप दी.

सऊदी अरब ने अब क़तर के लोगों को दी ये छूट

अब क़तर और बहरीन के बीच नया संकट

खाड़ी में कारोबारी हित

शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी के बयान को क़तर के लोगों की दिल की आवाज़ कहा जाता है. अल-थानी खानदान में शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी को पसंद किया जाता है और क़तर के लोग भी उनके बारे में अच्छी राय रखते हैं.

लंदन के किंग्स कॉलेज से जुड़े विश्लेषक एंड्रूय क्रेग कहते हैं, "अब्दुल्ला लंदन में रहते हैं और खाड़ी के क्षेत्र में उनके कारोबारी हित जुड़े हुए हैं. उनकी लोकप्रियता ऐसी भी नहीं है कि वे सत्ता की बागडोर संभाल सकें. लेकिन क़तर के शासकों और दुनिया की महाशक्तियों के लिए उनका संदेश साफ़ है कि ये संकट खत्म होता नहीं दिख रहा है."

सिंगापुर यूनिवर्सिटी में मध्य पूर्व मामलों के जानकार जेम्स डोर्से कहते हैं, "सऊदी शहज़ादी से शादी करने वाले शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी अपना ज्यादा वक्त सऊदी अरब में बिताते हैं. वे क़तर के मौजूदा आमिर शेख तामिम के लिए कोई ख़तरा नहीं हैं."

सऊदी अरब के हालिया दौरे के बाद शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी सऊदी मीडिया में सुर्खियों में हैं. जब से वे ट्विटर से जुड़े हैं, उनके फ़ॉलोअर्स की तादाद लगातार बढ़ रही है.

सऊदी अरब: हज के लिए मक्का जा सकेंगे क़तर के मुसलमान

क्या कम हो रही है सऊदी और ईरान की दुश्मनी?

सऊदी अरब में वाहवाही

शेख अब्दुल्ला बिन अली अल-थानी पिछले साल सितंबर में ये कह कर कि "विवाद के समय ख़ामोश रहना हमारी ज़िम्मेदारी है", चर्चा में आ गए थे.

उस समय क़तर संकट पर बातचीत के लिए शेख अब्दुल्ला बिन अली ने अल-थानी खानदान की बैठक बुलाने की बात कही थी.

उनकी इस अपील का मक़सद अरब देशों के बहिष्कार के मद्देनज़र क़तर को संकट से उबारने के लिए खानदान के मर्दों से समस्या के हर पहलू पर बात करना था.

उन्होंने ट्वीट किया था, "मुझे लगता है कि हालात और ख़राब हो रहे हैं. हम ऐसी जगह नहीं पहुंच सकते जहां हम पहुंचना नहीं चाहते."

क्या खिचड़ी पक रही है सऊदी और इसराइल के बीच?

सऊदी अरब और भारत हथियारों के सबसे बड़े ख़रीदार

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Sheikh Abdullah bin Ali al Thani The princess of Qatar who was taken into custody in the United Arab Emirates
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X