• search

अब और मिसाइल टेस्ट की ज़रूरत नहीं: उत्तर कोरिया

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने कहा है कि अब और परमाणु मिसाइलों का परीक्षण करने की ज़रूरत नहीं है.

    उत्तर कोरिया की सरकारी मीडिया से मिल रही ख़बरों में ऐसा दावा किया गया है.

    दक्षिण कोरिया की न्यूज़ एजेंसी योन्हप के मुताबिक, "21 अप्रैल से उत्तर कोरिया परमाणु मिसाइलों और अंतरमहाद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइलों को परीक्षण रोक देगा."

    ख़बरों के मुताबिक उत्तर कोरिया की सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी की बैठक के बाद ये फ़ैसला लिया गया.

    https://twitter.com/realDonaldTrump/status/987463564305797126

    अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरिया के इस कदम पर प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया है, "उत्तर कोरिया सभी परमाणु परीक्षणों और एक बड़ी टेस्ट साइट को बंद करने के लिए तैयार हो गया है. ये उत्तर कोरिया और दुनिया के लिए एक बहुत ही अच्छी ख़बर है. ये बड़ी सफलता है. हम आगामी मुलाकात को लेकर आशावान हैं."

    परमाणु हथियार कार्यक्रम चलाने के कारण उत्तर कोरिया पर संयुक्त राष्ट्र ने अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध लगा रखे हैं.

    पिछले साल नवंबर में उत्तर कोरिया ने अंतरमहाद्वीपीय बैलेस्टिक मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण करने का दावा किया था और ये भी कहा था कि ये मिसाइल अमरीका तक मार करने में सक्षम है.

    इस परीक्षण की संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेश ने कड़ी निंदा की थी और कहा था कि उत्तर कोरिया ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय की एकजुट राय का अपमान किया है.

    माइक पोम्पियो, किम जोंग उन और डोनल्ड ट्रंप
    Reuters
    माइक पोम्पियो, किम जोंग उन और डोनल्ड ट्रंप

    इससे पहले, अमरीकी मीडिया ने उच्चस्तरीय सरकारी सूत्रों के हवाले से ख़बर दी थी कि अमरीकी ख़ुफिया एजेंसी के निदेशक माइक पोम्पियो ईस्टर के मौके पर (31 मार्च और 1 अप्रैल) उत्तर कोरिया के गुप्त दौरे पर गए थे.

    पोम्पियों के दौरे का मक़सद अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप और किम जोंग उन के बीच सीधी बातचीत का रास्ता साफ़ करना था.

    इससे पहले ट्रंप ने खुद कोरिया के साथ वार्ता को उच्चस्तरीय बताते हुए कहा था कि किम के साथ आगामी बैठक के लिए पांच संभावित जगहों पर विचार किया जा रहा है.

    उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के बीच पिछले कुछ दिनों में संबंधों में सुधार हुआ है.

    किम जोंग और दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति के बीच टेलीफोन हॉटलाइन स्थापित की गई है और दोनों नेताओं का अगले हफ्ते मिलने का कार्यक्रम भी है. ये बैठक एक दशक में पहली बार होने जा रही अंतर कोरियाई सम्मेलन के सिलसिले में होगी.

    इसके अलावा, किम की जून में अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप से मिलने का भी संभावना है. अगर ये मुलाक़ात होती है तो उत्तर कोरिया के किसी नेता की ये पदस्थ अमरीकी राष्ट्रपति के साथ पहली मुलाक़ात होगी.

    अमरीका-उत्तर कोरिया की सीक्रेट मीटिंग, चार ज़रूरी सवाल

    यहां से आता है उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम के लिए पैसा

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    No more missile tests North Korea

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X