• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

NASA Moon Mission: चंद्रमा के किस हिस्से में वैज्ञानिकों को उतारेगा नासा, ऐतिहासिक मिशन की घोषणा

चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर इन क्षेत्रों का चयन उनकी निकटता के कारण किया गया है, और वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि यह संसाधनों के लिहाज से समृद्ध क्षेत्र है और अब तक इंसानों ने इस क्षेत्र पर कोई खोज नहीं की है।
Google Oneindia News

वॉशिंगटन, अगस्त 21: चंद्रमा पर वैज्ञानिकों को उतारने के लिए नासा का मिशन अब आखिरी चरण में है और अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर 13 संभावित लैंडिंग साइटों की पहचान की है, जहां पर नासा अपने वैज्ञानिकों को उतारने की योजना बना रहा है। इन क्षेत्रों का चयन वैज्ञानिक उद्देश्यों को ध्यान में रखकर किया गया है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी के इस मिशन पर पूरी दुनिया की नजर है, क्योंकि अमेरिका पहले ही एक बार चंद्रमा पर इंसानों का उतार चुका है, लेकिन इस बार ये मिशन चंद्रमा के उस हिस्से पर अंजाम दिया जाने वाला है, जो काफी खतरनाक है और एक छोटी सी गलती भी चंद्रमा पर जाने वाले वैज्ञानिकों की जिंदगी पर भारी पड़ सकती है।

नासा ने 13 लैंडिंग साइट्स की पहचान की

नासा ने 13 लैंडिंग साइट्स की पहचान की

नासा की रिपोर्ट के मुताबिक, नासा ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास 13 संभावित क्षेत्र की पहचान की है और इस प्रत्येक क्षेत्र में आर्टेमिस III के लिए कई संभावित लैंडिंग साइट हैं, जो कि चंद्रमा की सतह पर चालक दल को लाने के लिए आर्टेमिस मिशनों में से पहला होगा। नासा के इस मिशन में पहली बार महिला स्पेस यात्री भी शामिल हैं। नासा ने जिन लैंडिंग क्षेत्र के नामों की घोषणा की है, उनके नाम इस प्रकार हैं।

  • फॉस्टिनी रिम ए
  • शेकलटन के पास चोटी
  • कनेक्टिंग रिज
  • कनेक्टिंग रिज एक्सटेंशन
  • डे गेर्लाचे रिम 1
  • डे गेर्लाचे रिम 2
  • डे गेर्लाचे-कोचर मासिफ
  • हॉवर्थ
  • मालापर्ट मासिफ
  • लाइबनिट्ज बीटा पठार
  • नोबेल रिम 1
  • नोबेल रिम 2
  • अमुंडसेन रिमो

नासा ने कहा कि 13 लैंडिंग क्षेत्र चंद्र दक्षिणी ध्रुव के अक्षांश के छह डिग्री के भीतर स्थित हैं और सामूहिक रूप से विविध भूगर्भिक विशेषताएं समेटे हुए हैं। ये क्षेत्र सभी संभावित आर्टेमिस III लॉन्च अवसरों के लिए लैंडिंग विकल्प प्रदान करते हैं।

अपोलो के बाद का ऐतिहासिक मिशन

अपोलो के बाद का ऐतिहासिक मिशन

आर्टेमिस अभियान के डिप्टी एसोसिएट एडमिनिस्ट्रेटर मार्क किरासिच ने एक बयान में कहा कि, "इन क्षेत्रों का चयन करने का मतलब है कि हम अपोलो के बाद पहली बार मनुष्यों को चंद्रमा पर भेजने के करीब एक विशाल छलांग लगाने के लिए तैयार हैं। जब हम ऐसा करते हैं, तो यह किसी भी मिशन के विपरीत होगा, जो पहले अंतरिक्ष यात्रियों के अंधेरे क्षेत्रों में उद्यम के रूप में आता है, जो पहले मनुष्यों द्वारा अनदेखा किया गया था और भविष्य के दीर्घकालिक प्रवास के लिए आधार तैयार करता है।"

इन क्षेत्रों का चयन कैसे किया गया?

इन क्षेत्रों का चयन कैसे किया गया?

चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर इन क्षेत्रों का चयन उनकी निकटता के कारण किया गया है, और वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि यह संसाधनों के लिहाज से समृद्ध क्षेत्र है और अब तक इंसानों ने इस क्षेत्र पर कोई खोज नहीं की है। चंद्रमा का दक्षिणी ध्रुव एक ऐसा क्षेत्र है, जो सूर्य से दूर स्थायी रूप से छाया हुआ है। चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर पुष्टि की गई पानी की बर्फ की गहराई, वितरण और संरचना के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए चालक दल नमूने एकत्र करेगा और एक असम्बद्ध क्षेत्र में वैज्ञानिक विश्लेषण करेगा। नासा ने अपने बयान में कहा है, कि इन क्षेत्रों का चयन इस लिहाज से किया गया है, कि वे स्थायी रूप से छाया वाले क्षेत्रों से निकटता सुनिश्चित करके और अन्य प्रकाश व्यवस्था की स्थिति को भी सुनिश्चित करके मूनवॉक के उद्देश्यों को पूरा कर सकते हैं। इन क्षेत्रों में ऐसी साइटें हैं, जहां एक हफ्ते में 6.5 दिन की अवधि में सूर्य के प्रकाश की निरंतर पहुंच प्रदान करती हैं, जो चंद्रमा पर लंबे समय तक रहने के लिए महत्वपूर्ण है।

चंद्रमा पर पानी की होगी खोज

चंद्रमा पर पानी की होगी खोज

नासा के मुख्य अन्वेषण वैज्ञानिक जैकब ब्लीचर ने कहा कि, "सौर प्रणाली की खोज के लिए एक ब्लूप्रिंट विकसित करने का अर्थ है, कि हमारे पास उपलब्ध संसाधनों का उपयोग कैसे करना है, इसके साथ ही उनकी वैज्ञानिक अखंडता को संरक्षित करना भी सीखना है। चंद्र जल बर्फ वैज्ञानिक दृष्टिकोण से और एक संसाधन के रूप में भी मूल्यवान है क्योंकि इससे हम जीवन समर्थन प्रणालियों और ईंधन के लिए ऑक्सीजन और हाइड्रोजन निकाल सकते हैं।" अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी अंतरिक्ष अन्वेषण में एक नए युग की शुरुआत करने के कगार पर है क्योंकि यह आर्टेमी- I को लॉन्च करने की योजना बना रही है, जो एक मानव रहित डेमो मिशन है जो ओरियन अंतरिक्ष यान को चंद्रमा से परे और 42 दिनों की लंबी यात्रा में वापस ले जाएगा। इसकी लॉन्चिंग 29 अगस्त को होनी है।

चीन की 'चिप इंडस्ट्री' भ्रष्टाचार की वजह से कैसे सड़ गई? फेल हुआ दुनिया को मुट्ठी में करने वाला प्रोजेक्टचीन की 'चिप इंडस्ट्री' भ्रष्टाचार की वजह से कैसे सड़ गई? फेल हुआ दुनिया को मुट्ठी में करने वाला प्रोजेक्ट

Comments
English summary
NASA has announced 13 possible locations for where it will land its astronauts on the Moon.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X