• search

'चीनी सरकार दर्द देने के बजाय उन्हें गोली मार दे'

By Bbc Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    वीगर मुसलमान
    Getty Images
    वीगर मुसलमान

    चीन में रह रहे मुसलमानों के प्रति वहां सुरक्षा बलों के बर्ताव पर ब्रिटिश सरकार ने चिंता जताई है.

    वहां के शिनजियांग प्रांत में कई लोगों को बिना मुक़दमे के हिरासत में लेने की बात सामने आई हैं. अप्रैल 2017 की शुरुआत में भी शिनजियांग में सरकार ने इस्लामी चरमपंथ के ख़िलाफ़ अभियान के तहत वीगर मुस्लिमों पर नए प्रतिबंध लगाए थे.

    इनमें 'असामान्य' रूप से लंबी दाढ़ी रखने, सार्वजनिक स्थानों पर नक़ाब लगाने और सरकारी टीवी चैनल देखने से मना करने जैसी पाबंदियाँ शामिल थीं.

    साल 2014 के रमज़ान में मुसलमानों के रोज़े रखने पर रोक लगा दी गई थी.

    लेकिन इसकी वजह क्या है. क्यों डरे हुए हैं चीन में रह रहे मुसलमान.

    बीबीसी संवाददाता जॉन सडवर्थ की ये ख़ास रिपोर्ट

    वैसे तो दूर से देखने पर ये जगह चीन में होने पर भी इराक़ की राजधानी बगदाद जैसी दिखाई देती है, लेकिन ये है पश्चिमी चीन का शिनजियांग प्रांत, जहाँ रहने वालों पर सुरक्षा बलों की पैनी निगाह है.

    यहाँ वीगर समुदाय के लोग रहते हैं, जो कि मुस्लिम अल्पसंख्यक हैं. वो यहां डर के माहौल में रह रहे हैं. सरकारी जासूसों की निगाह हर पल उन पर पहरा डाले रखती है, उनसे सवाल पूछे जाते हैं तो वो खुलकर इनका जवाब भी नहीं दे पाते हैं.

    यहां के लाखों निवासियों से जबरन डीएनए नमूने लिए जा रहे हैं. उनके मोबाइल खंगाले जाते हैं और पता लगाया जाता है कि कहीं वो सांप्रदायिक या भड़काऊ संदेशों का आदान-प्रदान तो नहीं कर रहे हैं और अगर किसी पर चीन से गद्दारी करने का हल्का सा भी शक हुआ तो उन्हें ख़ुफिया जेलों में भेज दिया जाता है.

    जेलों में डाला

    गैर सरकारी आंकड़ों के अनुसार हज़ारों वीगर मुसलमानों को बिना मुकदमों के जेलों में डाला गया है.

    चीन
    AFP
    चीन

    हम शिनजियांग में जहाँ भी गए, हमें रोका गया, तलाशी ली गई और पीछा होता रहा.

    सैकड़ों वीगर मुसलमानों की तरह अब्दुर्रहमान हसन चीन छोड़ तुर्की चले गए थे.

    उन्हें लगा था कि उनकी मां और पत्नी चीन में सुरक्षित होंगे, लेकिन उन्हें आखिरी बार यही पता लगा कि उनकी मां और पत्नी को जेल भेज दिया गया है.

    अब्दुर्रहमान कहते हैं, "सुबह से शाम तक उन्हें बस एक कुर्सी पर बिठाया जाता है. मेरी मां को इस तरह की सज़ा भुगतनी पड़ रही है. मेरी पत्नी का कसूर सिर्फ़ इतना है कि वो वीगर है और इसकी वजह से वो एक कैंप में रहती है, जहाँ उसे ज़मीन पर सोना पड़ता है. मैं ये भी नहीं पता कि वो ज़िंदा हैं या मर चुके हैं. मैं और बर्दाश्त नहीं कर सकता. मैं चाहता हूं कि चीनी सरकार उन्हें दर्द देने के बजाय उन्हें मार दे. गोलियों के पैसे मैं दूंगा."

    दूसरी ओर, चीन वीगर मुसलमानों पर किसी तरह के जुल्मों से इनकार करती रही है. चीन हाल में दुनिया में हुए चरमपंथी हमलों का हवाला देकर इस्लामिक चरमपंथ को बड़ा ख़तरा बताता है.

    चीन में मुसलमानों को कुरान जमा कराने का आदेश

    चीन में वीगर मुसलमानों की 'लंबी दाढ़ी' पर प्रतिबंध

    चीन
    AFP
    चीन

    कौन हैं वीगर मुसलमान

    चीन के पश्चिमी प्रांत शिनजियांग में चीनी प्रशासन और यहां के स्थानीय वीगर जनजातीय समुदाय के बीच संघर्ष का बहुत पुराना इतिहास है.

    वीगर असल में मुसलमान हैं. सांस्कृतिक और जनजातीय रूप से वे खुद को मध्य एशियाई देशों के नज़दीकी मानते हैं.

    सदियों से इस इलाके की अर्थव्यवस्था कृषि और व्यापार केंद्रित रही है. यहां के काशगर जैसे कस्बे प्रसिद्ध सिल्क रूट के बहुत सम्पन्न केंद्र रहे हैं.

    बीसवीं शताब्दी के शुरुआती दिनों में वीगरों ने थोड़े समय के लिए खुद को आज़ाद घोषित कर दिया था. इस इलाके पर कम्युनिस्ट चीन ने 1949 में पूरी तरह नियंत्रण हासिल कर लिया था.

    दक्षिण में तिब्बत की तरह ही शिनजियांग भी आधिकारिक रूप से स्वायत्त क्षेत्र है.

    चीन के शिनजियांग में क्यों भड़क रही है हिंसा?

    'चीनी कम्युनिस्ट पार्टी भगवान से ज़्यादा अहम'

    चीन
    AFP
    चीन

    वीगरों की शिकायतें

    बीजिंग का आरोप है कि राबिया कदीर समेत निर्वासित वीगर समस्या को बढ़ा रहे हैं.

    जबकि सामाजिक कार्यकर्ताओं का कहना है कि केंद्रीय सरकार की नीतियों ने धीरे-धीरे वीगरों के धार्मिक, आर्थिक और सांस्कृतिक गतिविधियों को दरकिनार कर दिया गया.

    बीजिंग पर आरोप है कि 1990 के दशक में शिनजियांग में हुए प्रदर्शनों और दोबारा 2008 में बीजिंग ओलंपिक के रन अप के दौरान हुए प्रदर्शनों के बाद सरकार ने दमन तेज़ कर दिया था.

    पिछले दशक के दौरान अधिकांश प्रमुख वीगर नेताओं को जेलों में ठूंस दिया जाता रहा या चरमपंथ के आरोप लगने के बाद वे विदेशों में शरण मांगने लगे.

    शिनजियांग में चीन के हान समुदाय को बड़े पैमाने पर बसाने की कार्रवाई ने यहां वीगरों को अल्पसंख्यक बना दिया है.

    बीजिंग पर यह भी आरोप लगा कि इस इलाके में अपने दमन को सही ठहराने के लिए वो वीगर अलगवावादियों के ख़तरे को बढ़ा-चढ़ा कर पेश करता है.

    वीगर नेता डॉल्कन ईसा का भारत वीज़ा रद्द

    चीन के 'आतंकी' ने भारत से सुरक्षा गारंटी मांगी

    चीन
    AFP
    चीन

    बीजिंग का नज़रिया

    हालांकि बीजिंग ने शिनजियांग में भारी मात्रा में निवेश किया है, लेकिन इसके साथ ही उसने इस इलाके में सुरक्षा बलों का तांता भी लगा दिया है.

    चीन की सरकार कहता है कि वीगर चरमपंथी अलग होने के लिए बम हमले, अशांति और तोड़ फोड़ की कार्रवाइयों के मार्फत हिंसक अभियान छेड़े हुए हैं.

    अमरीका में 9/11 के हमले के बाद चीन ने वीगर अलगाववादियों को अधिकाधिक रूप से अल-क़ायदा का सहयोगी सिद्ध करने की कोशिश की है.

    चीन कहता रहा है कि उन्होंने अफ़गानिस्तान में प्रशिक्षण हासिल किया है. हालांकि इस दावे के पक्ष में बहुत कम ही सबूत पेश किए जाते रहे.

    अफ़गानिस्तान पर हमले के दौरान अमरीका सेना ने 20 से ज़्यादा वीगरों को पकड़ा था.

    इन्हें बिना आरोप तय किए सालों तक गुआंतामाबोम में बंदी बनाकर रखा गया और इनमें से अधिकांश इधर-उधर बस गए हैं.

    चीन में विवादित आतंकवादरोधी क़ानून पारित

    चीनः हिंसा में 50 लोगों की मौत

    चीन
    AFP
    चीन

    बड़ा हमला

    साल 2009 की जुलाई में शिनजियांग की प्रशासनिक राजधानी उरुमुची में हुए जातीय दंगों में क़रीब 200 लोग मारे गए थे.

    माना जाता रहा है कि इस हिंसा की शुरुआत एक फैक्टरी में हान चीनियों के साथ संघर्ष में दो वीगरों की मुत्यु से हुई.

    चीनी प्रशासन इस अशांति के लिए देश से बाहर के शिनजियांग अलगाववादियों को ज़िम्मेदार ठहराता है और निर्वासित वीगर नेता राबिया क़दीर को दोषी मानता है.

    चीन का कहना है कि राबिया ने हिंसा भड़काई. हालांकि उन्होंने इन आरोपों से इनकार किया था.

    वीगर निर्वासितों का कहना है कि पुलिस ने शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे लोगों पर अंधाधुंध फायरिंग कर दी जिसके कारण हिंसा और मौतें हुईं.

    चीनः जो कहते हैं 'मैं शिनजियांग से हूं'

    चीनः शिनजियांग में रमज़ान में रोज़े पर बैन

    वर्तमान स्थिति

    शिनजियांग को मशहूर सिल्क रूट पर बाहरी चौकी के रूप में शोहरत हासिल है और अभी भी यह हान चीनी पर्यटकों को आकर्षित करता है.

    शिनजियांग में औद्योगिक और ऊर्जा परियोजनाओं में भारी सरकारी निवेश हुआ है और बीजिंग इनको ही भारी उपलब्धि के रूप में गिनाने में यक़ीन रखता है.

    लेकिन ज़्यादातर वीगरों की शिकायत है कि हान उनकी नौकरियों पर कब्ज़ा जमा रहे हैं और उनकी खेती जमीनों को पुनर्विकास के नाम पर जब़्त किया जा रहा है.

    स्थानीय और विदेशी पत्रकारों की गतिविधियों पर सरकार कड़ी निगरानी रखती है और इलाक़े की ख़बरों के बहुत कम ही स्वतंत्र स्रोत हैं.

    हालांकि, चीन को निशाना बनाकर किए जाने वाले ये अधिकांश हमलों से लगता है कि वीगर अलगाववाद आगे भी और काफ़ी हिंसक ताकत बना रहेगा.

    चीन के शिनजियांग में क्यों भड़क रही है हिंसा?

    चीन में 'आतंकवाद' के लिए 700 को सज़ा

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Instead of hurting the Chinese government shoot them

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X