भारतीय मूल की अमेरिकी CEO पर नौकरानी को कुत्ते के साथ सुलाने का आरोप

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्‍ली। एक अमेरिकी आईटी स्टाफिंग एंड कंसल्टिंग कंपनी की भारतीय मूल की CEO हिमांशु भाटिया पर अपनी नौकरानी को तंग और दुर्व्यवहार करने का आरोप लगा है। उनपर आरोप है कि उन्होंने नौकरानी को बीमारी के दौरान गैराज में पालतू कुत्ते के बगल में सोने के लिए मजबूर किया।

Indian-American CEO ‘starved maid, made her sleep in garage near dogs'

इतना ही नहीं वो नौकरानी को खाना भी नहीं देती थी। महिला का नाम शीला निंगवाल बताया जा रहा है और उसे हिमांशु भारत से लेकर गईं थीं। इस संबंध में यूएस डिपार्टमेंट ऑफ लेबर में शिकायत दर्ज कराया गया है। शिकायत में कहा गया है कि हिमांशु भाटिया अपनी नौकरानी से रोज साढ़े 15 घंटे काम करवाती थीं।

तस्‍वीरों में जानिए हरियाणा की डांसर-सिंगर सपना चौधरी के बारे में

भाटिया उसे अपने मियामी, लास वेगास और कैलिफोर्निया के लॉन्ग बीच स्थित आलीशान घरो में भी काम के लिए ले जाती थीं। लेबर डिपार्टमेंट ने यह शिकायत 22 अगस्त को फाइल की है।

शिकायत में कहा गया है कि जब निगंवाल बीमार हो जाती थी तो भाटिया उन्‍हें अपने गैराज में एक चटार्अ पर अपने कुत्ते के बगल में सोने के लिए मजबूर करती थीं। भाटिया पर यह भी आरोप लगाया गया है कि जब वो कई दिनों के लिए बाहर जाती थीं तो निगंवाल के खाने का इंतजाम तक नहीं करके जाती थीं।

पासपोर्ट कर लिया था जब्‍त

आरोपों के मुताबिक हिमांशु भाटिया ने निगंवाल का पासपोर्ट अपने कब्‍जे में कर लिया था। वो उन्हें कहीं आने-जाने नहीं देती थीं। निगंवाल के मुताबिक उन्‍हें घर से बाहर उसी वक्‍त निकला जाता था जब उन्‍हें हिमांशु के मियामी, लास वेगास या फिर कैलिफोर्निया वाले घरों में काम कराने ले जाया जाता था।

कौन हैं हिमांशु भाटिया?

  • भाटिया दिल्ली की रहने वाली हैं। 
  • उन्होंने टेक्नोलॉजी में ग्रेजुएशन किया था। 
  • बाद में 1987 में वे अमेरिकी चली गईं। 
  • यहां नौकरी शुरू किया।
  • 1993 में उन्होंने रोज इंटरनेशनल कंपनी बनाई। 
  • साल 2011 में रोज इंटरनेशनल का सालाना राजस्व 2300 करोड़ रुपये से ज्यादा था।
देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
An Indian-American CEO of an IT staffing and consulting firm has been charged in the US with callous treatment of a domestic worker who had come from India to work for her.
Please Wait while comments are loading...