• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

‘देखो, मोदी ने तेल के दाम घटा दिए, उन्हें अमेरिका का डर नहीं है’, इमरान खान ने फिर दी भारत की मिसाल

|
Google Oneindia News

इस्लामाबाद, मई 22: साढ़े तीन साल तक सरकार में रहने के दौरान इमरान खान ने लगातार भारत के खिलाफ जहर उगलते रहे, लेकिन जब से इमरान खान की सत्ता पर आंच आई, उन्होंने भारत की तारीफें करनी शुरू कर दी और इमरान खान का भारत को लेकर प्रेम अभी भी चल ही रहा है। भारत में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पेट्रोल और डीजल के दाम क्या घटाए, एक बार फिर से इमरान खान ने भारत की विदेश नीति की तारीफ करनी शुरू कर दी।

Petrol Diesel Price: India में दाम घटे, PAK में बवाल हो गया | वनइंडिया हिंदी
फिर से भारत की तारीफ

फिर से भारत की तारीफ

भारत सरकार ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों पर उत्पाद शुल्क कम करने के बाद भारत में पेट्रोलियम तेलों के दाम कम कर दिए हैं, जिसके बाद पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने रियायती दर पर रूसी तेल खरीदने के भारत के फैसले की सराहना की है। उन्होंने कहा कि भारत ने अमेरिका के दबाव के बावजूद जनता को राहत देने के लिए रियायती रूसी तेल खरीदा और ये भारत की सफल विदेश नीति का उदाहरण है। उन्होंने कहा कि, वो भी पाकिस्तान में ऐसा ही करना चाहते थे, लेकिन उन्हें ऐसा नहीं करने दिया गया और उनकी सरकार को साजिशन गिरा दिया गया। इमरान खान ने ट्विटर पर कहा कि, ‘क्वाड का हिस्सा होने के बावजूद, भारत ने अमेरिका पर दबाव बनाए रखा और जनता को राहत देने के लिए रियायती रूसी तेल खरीदा'।

‘पाकिस्तान की विदेश नीति स्वतंत्र नहीं’

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने ट्वीट करते हुए कहा कि, पाकिस्तान में उनकी सरकार भी यही हासिल करने के लिए काम कर रही थी। इमरान खान ने कहा, ‘यह वही है जो हमारी सरकार एक स्वतंत्र विदेश नीति की मदद से हासिल करने के लिए काम कर रही थी'। इमरान खान ने वर्तमान की पाकिस्तान मुस्लिम लीग (एन) के नेतृत्व वाली सरकार को ‘बिना सिर वाले मुर्गे की तरफ इधर-ऊधर भागने' वाली सरकार बताया है। उन्होंने कहा कि "मीर जाफ़र्स और मीर सादिक" ने पाकिस्तान में सत्ता परिवर्तन को मजबूर करने के लिए बाहरी दबाव से उनकी सरकार को झुकाया और उन पर "एक पूंछ में अर्थव्यवस्था के साथ बिना सिर के मुर्गे की तरह इधर-उधर भागने" का आरोप लगाया। इमरान खान की प्रतिक्रिया पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भारत सरकार द्वारा पेट्रोल की कीमत में 9.5 रुपये प्रति लीटर और डीजल की कीमत में 7 रुपये प्रति लीटर की कमी के बाद आई है।

पाकिस्तान में मचा है हाहाकार

पाकिस्तान में मचा है हाहाकार

आपको बता दें कि, भारत सरकार ने 21 मई को पेट्रोल और डीजल पर उत्पाद शुल्क में क्रमशः 8 रुपये और 6 रुपये प्रति लीटर की कटौती की। भारतीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि, ‘इससे (उत्पाद शुल्क में कटौती) सरकार के लिए लगभग एक लाख करोड़ रुपये / वर्ष का राजस्व निहितार्थ होगा'। 22 मई से दिल्ली में एक्साइज टैक्स कम होने से पेट्रोल की कीमत 95.91 रुपये प्रति लीटर चुकी है, जबकि डीजल की कीमत 89.67 रुपये प्रति लीटर होगई है। वहीं, पाकिस्तान में हाहाकार मचा हुआ है और डीजल, पेट्रोल के साथ साथ बिजली की कीमतें भी काफी ज्यादा हैं। वहीं, डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रूपया 200 प्वाइंट को भी पार कर गया है, जिसकी वजह से स्थिति और भी ज्यादा खराब हो गई है और शहबाज शरीफ की सरकार लगातार विदेशी कर्ज लेने के लिए हाथ-पैर मार रही है।

लग्जरी सामानों के आयात पर बैन

लग्जरी सामानों के आयात पर बैन

पाकिस्तान का चालू खाता घाटा नियंत्रण से बाहर हो गया है और उसके विदेशी मुद्रा भंडार में काफी तेज गिरावट आई है जबकि पाकिस्तानी रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले ऐतिहासिक निचले स्तर पर आ गया है। जिसे देखते हुए पाकिस्तान की केन्द्रीय मंत्री मरियम औरंगजेब ने कहा कि, 'वे सभी गैर-जरूरी विलासिता की वस्तुएं जिनका व्यापक जनता द्वारा उपयोग नहीं किया जा है, उनके आयात पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया गया है'। उन्होंने कहा कि, ये उपाय राजकोषीय अस्थिरता को दूर करने के लिए हैं, जिसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री इमरान खान की पिछली सरकार को दोषी ठहराया है। आपको बता दें कि, इमरान खान को पिछले महीने अविश्वास मत में देश की अर्थव्यवस्था को गलत तरीके से चलाने के आरोप में बाहर कर दिया गया था।

आपातकालीन स्थिति में देश- सरकार

आपातकालीन स्थिति में देश- सरकार

पाकिस्तान की सूचना मंत्री मरियम औरंगजेब ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि, "देश में एक आपातकालीन स्थिति है।" जिन आयातों पर प्रतिबंध लगाया गया है, उनमें कार, सेल्युलर फोन, घरेलू उपकरण और सौंदर्य प्रसाधन शामिल हैं। हालांकि, अभी तक पाकिस्तान सरकार की तरफ से ये साफ नहीं किया गया है कि, ये प्रतिबंध कब तक रहेगा, लेकिन मरियन औरंगजेब ने कहा कि, अन्य वित्तीय उपायों के साथ-साथ यह कदम अगले दो महीनों के लिए महत्वपूर्ण विदेशी मुद्रा भंडार को बचाने में मदद करेगा। उन्होंने कहा कि, पाकिस्तान सरकार का मकसद इस साल विदेशी मुद्रा भंडार में 6 अरब डॉलर बचाने की है। हालांकि, पाकिस्तान पेट्रोलियम तेल और खाद्य तेल का आयात जारी रखेगा।

पाकिस्तान को BRICS ब्लॉक में शामिल करना चाहता है चीन, क्या भारत को देनी चाहिए सहमति?पाकिस्तान को BRICS ब्लॉक में शामिल करना चाहता है चीन, क्या भारत को देनी चाहिए सहमति?

Comments
English summary
Imran Khan has once again praised India's independent foreign policy.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X