• search

बिल नहीं चुकाया तो अस्पताल ने पांच महीने तक बेबी को बंधक बनाया

By Bbc Hindi
गबोन
BBC
गबोन

अफ़्रीका के एक देश गबोन में एक मां ने जन्म के पांच महीने बाद अपनी नन्ही सी जान को एक निजी अस्पताल के चंगुल से आज़ाद कराने के बाद राहत की सांस ली है.

गबोन के एक निजी अस्पताल ने बिल बकाया रहने की वजह से बेबी ऐंजल को उसकी मां से दूर रखा हुआ था.

'ज़िन्दा शिशु को मृत बताने की जांच के आदेश'

इलाज के नाम पर अस्पताल 'लूटे' तो क्या करें?

ये मामला सामने आने के बाद पूरे देश में इस परिवार के लिए एक अभियान चलाया गया.

इसके तहत $3,630 की राशि जमा करके अस्पताल का बिल चुकाया गया.

ख़ास बात ये है कि गबोन के राष्ट्रपति अली बोंगो ने भी इस अभियान के तहत कुछ राशि जमा की थी.

''मेरे ज़िंदा बच्चे को मेरी मरी हुई बच्ची के साथ सुला रखा था''

गबोन की राजधानी लिबरविले में मौजूद बीबीसी संवाददाता चार्ल्स स्टीफन मवोनगोऊ बताते हैं, "बीते सोमवार इस मामले से जुड़े निजी अस्पताल के निदेशक पर बच्चे के अपहरण का मामला दर्ज करके उन्हें गिरफ़्तार किया गया था. लेकिन एक दिन बाद ये आरोप वापस ले लिए गए."

बेबी ऐंजल को अब आख़िरकार पांच महीने बाद क्लिनिक से बाहर निकलने दिया जा रहा है.

बच्ची की मां सोनिया ओकोमे ने बीबीसी से बात करते हुए कहा, "मैं अपनी बच्ची को वापस पाकर खुश हूं लेकिन मुझे ख़ेद है कि मैं इसे अपना दूध नहीं पिला सकती. क्योंकि बीते पांच महीनों में मेरा पूरा दूध चला गया है."

गबोन की स्थानीय मीडिया के मुताबिक़, प्रीमेच्योर स्थिति में पैदा होने की वजह बेबी ऐंजल को 35 दिनों तक इनक्यूबेटर में रखना पड़ा था और ये बिल इसी चीज़ का था.

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
He didn't pay bill then hospital made his wife mortgage

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X