• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Good News: अंतिम चरण में है एंटी कोरोना ऑक्सफोर्ड वैक्सीन, 2020 के अंत तक उपलब्ध हो सकती है वैक्सीन

|

नई दिल्ली। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका की संभावित एंटी Covid-19 वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल के अंतिम चरण पहुंची गई है। अंतिम चरण में यह टेस्ट किया जाना है कि संभावित वैक्सीन वायरस से इंफेक्टेड होने से बचाने में कितना काम करती है। अंतिम चरण का क्लिीनिकल ट्रायल ब्रिटेन में वयस्कों और बच्चों पर किया जाना है।

    Covid-19 Vaccine पर अच्छी ख़बर, Trial के आखिरी दौर में Oxford की Corona वैक्सीन | वनइंडिया हिंदी

    vaccine

    हालांकि भारत समेत पूरी दुनिया भर के वैज्ञानिक जानलेवा नोवल कोरोनावायरस के खिलाफ वैक्सीन बनाने की जद्दोजहद में जुटे हैं, लेकिन ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के अंतिम ट्रायल में पहुंचने से उम्मीद बढ़ गई है कि जल्द कोरोना के खिलाफ हथियार हमारे बीच होगा।

    vaccine

    क्या कोरोना की लड़ाई में साख दांव पर लगा बैठे हैं बाबा रामदेव? योग और आयुर्वेद में रचा है बड़ा कीर्तिमानक्या कोरोना की लड़ाई में साख दांव पर लगा बैठे हैं बाबा रामदेव? योग और आयुर्वेद में रचा है बड़ा कीर्तिमान

    गौरतलब है अब तक नोवल कोरोनावायरस की चपेट में आकर पूरी दुनिया में करीब 5 लाख लोग अपनी जान गंवा चुके हैं, जबकि करीब 95 लाख से ज्यादा लोग इसकी चपेट में हैं। दुनिया भर के 200 से ज्यादा देश कोरोनावायरस में फैल चुका है। इसमें अमेरिका, ब्राजील, और रूस के बाद भारत सर्वाधिक रूप से प्रभावित राष्ट्र हैं, जहां सर्वाधिक कोरोना संक्रमित मरीज हैं।

    vaccine

    Pakistan: पीएम इमरान खान के मंत्री बोले-टिड्डी खाने से खत्‍म हो जाएगी कोरोना वायरस महामारी-VideoPakistan: पीएम इमरान खान के मंत्री बोले-टिड्डी खाने से खत्‍म हो जाएगी कोरोना वायरस महामारी-Video

    रिपोर्ट के मुताबिक ब्रिटेन में अगले चरण में ChAdOx1 nCoV-19 नामक यह वैक्सीन ब्रिटेन में 10,260 वयस्कों और बच्चों को दी जाएगी और अगर यह परीक्षण कामयाब होता है, तो ऑक्सफोर्ड इस साल के आखिर तक कोविड -19 वैक्सीन लॉन्च कर सकता है।

    vaccine

    भारत ने अंतर्राष्ट्रीय वैक्सीन गठबंधन गावी को दिए 15 मिलियन डॉलरभारत ने अंतर्राष्ट्रीय वैक्सीन गठबंधन गावी को दिए 15 मिलियन डॉलर

    ऑक्सफोर्ड के प्रमुख प्रोफेसर एंड्रयू पोलार्ड ने कहा कि क्लीनिकल ​​ट्रायल बहुत अच्छी तरह से आगे बढ़ रहा है और अब हम यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि वैक्सीन बुजुर्गों पर कितना असर करती है। वैक्सीन के परीक्षण इसी सप्ताह ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका में भी शुरू हुए हैं।

    vaccine

    खुशखबरी: Covid-19 वैक्सीन के मानव परीक्षण शुरू करने के लिए चीनी कंपनी को मंजूरी मिलीखुशखबरी: Covid-19 वैक्सीन के मानव परीक्षण शुरू करने के लिए चीनी कंपनी को मंजूरी मिली

    उल्लेखनीय है दुनिया भर में 140 से ज्यादा वैक्सीन पर इन दिनों काम चल रहा है. जिसमें से 13 वैक्सीन क्नीनिकल ट्रायल के दौर में है, जबकि बाकी वैक्सीन का अभी शुरुआती दौर का काम चल रहा है। कहा जाता है कि किसी वैक्सीन को तैयार करने में 10 साल का वक्त लग जाता है।

    vaccine

    कोरोना से लड़ने के लिए कई भारतीय वैज्ञानिक कर रहे वैक्सीन पर काम: नितिन गडकरीकोरोना से लड़ने के लिए कई भारतीय वैज्ञानिक कर रहे वैक्सीन पर काम: नितिन गडकरी

    सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि किसी भी वैक्सीन की कामयाबी की गारंटी भी सिर्फ 6 फीसदी होती है। कोरोना जैसी महमारी से निपटने के लिए दुनिया भर के डॉक्टर और वैज्ञानिक युद्ध स्तर पर काम कर रहे हैं, ऐसे में एंटी कोरोना वैक्सीन जल्दी तैयार हो सकता है।

    वैज्ञानिकों का दावा- इस उम्र के लोगों पर नहीं काम करेगी कोरोना वायरस की वैक्सीनवैज्ञानिकों का दावा- इस उम्र के लोगों पर नहीं काम करेगी कोरोना वायरस की वैक्सीन

    ChAdOx1 वायरस से बना है वैक्सीन

    ChAdOx1 वायरस से बना है वैक्सीन

    यह वैक्सीन ChAdOx1 वायरस से बना है, जो एक सामान्य कोल्ड वायरस (एडेनोवायरस) का कमजोर वर्जन है, जो चिंपांज़ी में संक्रमण का कारण बनता है। इसे जेनेटिकली रूप से बदल दिया गया है, इसलिए यह मनुष्यों में संक्रमण का कारण नहीं बन सकता है।

    2020 के अंत तक लॉन्च हो सकता है ऑक्सफोर्ड वैक्सीन

    2020 के अंत तक लॉन्च हो सकता है ऑक्सफोर्ड वैक्सीन

    ऑक्सफोर्ड वैक्सीन का अंतिम क्लिीनिकल ट्रायल ब्रिटेन में होना है, जहां यह वैक्सीन 10,260 वयस्कों और बच्चों को दी जाएगी। अगर यह परीक्षण कामयाब होता है, तो ऑक्सफोर्ड इस साल के आखिर तक कोविड -19 वैक्सीन लॉन्च कर सकता है। इसी सप्ताह में ब्राजील और दक्षिण अफ्रीका में भी परीक्षण शुरू हुए हैं।

    भारतीय कंपनी ने भी 100 मिलियन डॉलर किया है निवेश

    भारतीय कंपनी ने भी 100 मिलियन डॉलर किया है निवेश

    हिन्दुस्तान के लिए सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया ने भी भारी तादाद में वैक्सीन के निर्माण के लिए 100 मिलियन डॉलर का निवेश किया है। वर्ल्‍ड हेल्‍थ ऑर्गनाइजेशन ने 22 जून को कोविड-19 वैक्‍सीन्‍स का ड्राफ्ट जारी किया था। इसके अनुसार 13 वैक्‍सीन क्लिीनिकल ट्रायल की चरण में पहुंच चुके हैं, जिसमें दुनिया में कुछ संस्थान वैक्सीन निर्माण के काफी करीब पहुंच चुके हैं।

    दुनिया में अलग-अलग वैक्सीन पर हो रहा है रिसर्च

    दुनिया में अलग-अलग वैक्सीन पर हो रहा है रिसर्च

    यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्‍सफोर्ड के शोधकर्ता इंसानों पर इस वैक्सीन का ट्रायल पहले ही शुरू कर चुके हैं जबकि लंदन के इम्‍पीरियल कॉलेज में भी जल्द ही कोरोना वैक्‍सीन का मानव परीक्षण भी जल्‍द शुरू होने वाला है। इसके अलावा बीजिंग इंस्‍टीट्यूट ऑफ टेक्‍नोलॉजी और कैनसिनो बायोलॉजिकल इंक के वैक्सीन का भी क्लिीनिकल ट्रायल दूसरे चरण में हैं। वहीं, अमेरिका के नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ एलर्जी एंड इन्‍फेक्शियस डिजीजेज और बायोटेक कंपनी Moderna Inc के वैक्सीन का ट्रायल भी दूसरे स्टेज पर है।

    English summary
    The final stages of a potential anti-Covid-19 vaccine clinical trial of Oxford University and AstraZeneca have been reached. The final step is to test how much the potential vaccine works to prevent the virus from getting infected. The final phase of the clinical trial is to be conducted in the UK on adults and children.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X