• search

'फ्रांस ने राज़ी किया था ट्रंप को सीरिया मत छोड़ो'

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    फ्रांस के राष्ट्रपति ने एक लाइव टीवी इंटरव्यू में तमाम बातें कहीं
    AFP
    फ्रांस के राष्ट्रपति ने एक लाइव टीवी इंटरव्यू में तमाम बातें कहीं

    फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों का कहना है कि उन्होंने ही राष्ट्रपति ट्रंप को राज़ी किया था कि सीरिया से अपने सैनिकों को वापस न बुलाएं और कहा था कि सीरिया में लंबे समय तक रहने की ज़रूरत है.

    इस महीने की शुरुआत में राष्ट्रपति ट्रंप ने घोषणा कर दी थी कि अमरीका बहुत जल्द सीरिया से वापसी करने वाला है.

    लेकिन इसके विपरीत बीते शनिवार अमरीका ने ब्रिटेन और फ्रांस के साथ मिलकर संदिग्ध रासायनिक हमले के जबाव में सीरियाई सरकार के ठिकानों को निशाना बनाया था.

    फ्रांस के राष्ट्रपति का ये भी दावा है कि उन्होंने अमरीका को इस बात के लिए राज़ी किया था कि हालिया हमलों को कुछ ही ठिकानों तक सीमित रखा जाए.

    नए प्रतिबंधों की तैयारी

    ट्रंप
    Getty Images
    ट्रंप

    सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल असद से संबंध रखने वाली रूस की कंपनियों पर अमरीका और प्रतिबंध लगाने की तैयारी कर रहा है.

    संयुक्त राष्ट्र में अमरीकी राजदूत निक्की हैली ने कहा है कि इन नए प्रतिबंधों को सोमवार को सार्वजनिक किया जाएगा.

    शिया-सुन्नी टकराव के कारण है सीरिया में तबाही?

    सीरिया पर अमरीकी हमलों से असद झुक जाएंगे?

    निक्की हैली ने उन ख़बरों से भी इंकार किया जिनमें कहा जा रहा है कि राष्ट्रपति ट्रंप की सीरिया से अमरीकी सैनिकों को छह महीने के भीतर वापस बुलाने की योजना है.

    उन्होंने कहा कि अमरीका ये सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है कि सीरिया में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल आगे ना किया जा सके.

    सीरिया पर हमला: कितना सही, कितना ग़लत

    'सीरिया में ज़रूरत पड़ने पर अमरीका दोबारा हमले के लिए तैयार'

    निक्की हैली ने कहा कि अमरीका सीरियाई क्षेत्र में इस्लामिक स्टेट को हराने और ईरान के प्रभाव को बढ़ने से रोकने के लिए भी प्रतिबद्ध है.

    रूस की चेतावनी

    पुतिन
    Getty Images
    पुतिन

    वहीं रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा है कि सीरिया में पश्चिमी ताकतों की ओर से यदि और अधिक हमले किए गए तो इससे अंतरराष्ट्रीय जगत में अफरा-तफरी मच जाएगी.

    ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी के साथ टेलीफोन पर बातचीत के दौरान सीरियाई सरकार के दोनों सहयोगियों ने इस बात पर सहमति जताई कि पश्चिमी ताकतों के हमले की वजह से सीरिया में राजनीतिक समाधान की संभावनाओं को नुकसान पहुंचा है.

    सीरिया पर हमले से जुड़े ये 7 बड़े सवाल

    'प्रतिशोध की भावना के साथ शीत युद्ध की हुई वापसी'

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    France had persuaded Trump to leave Syria

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X