ट्रंप ने ईरान पर लगाए कई आरोप, दी परमाणु समझौता तोड़ने की धमकी

Posted By: BBC Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
डॉनल्ड ट्रंप
Reuters
डॉनल्ड ट्रंप

अमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने ईरान को 'धर्मांध हुकूमत' करार देते हुए उसकी निंदा की है और साथ ही न्यूक्लियर डील से हटने की धमकी दी है.

डोनल्ड ट्रंप ने कहा कि वह इस सौदे को कांग्रेस के पास भेज रहे हैं और इसमें बदलाव के लिए सहयोगियों से विमर्श भी करेंगे.

उन्होंने ईरान पर आतंकवाद को प्रायोजित करने का आरोप लगाया और कहा कि वह ईरान के परमाणु हथियार हासिल करने के सभी रास्ते रोक देंगे.

उन्होंने कहा कि ईरान को उत्तर कोरिया की तरह एक परमाणु ख़तरा नहीं बनने दिया जाएगा.

क्या कम हो रही है सऊदी अरब और ईरान की दुश्मनी?

सऊदी अरब और रूस में बढ़ रही हैं नज़दीकियां

ट्रंप ने ईरान पर लगाए कई आरोप

हसन रुहानी
EPA
हसन रुहानी

अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षकों का कहना है कि 2015 में जिस समझौते के तहत ईरान के परमाणु कार्यक्रम पर रोक लगाई थी, वह उसका ठीक से पालन कर रहा है.

मगर ट्रंप कहते हैं कि समझौता बहुत उदार था और इससे ईरान को नियत सीमा से अधिक हेवी वॉटर (परमाणु बम बनाने के लिए उपयुक्त प्लूटोनियम का स्रोत) प्राप्त करने और अंतरराष्ट्रीय जांचकर्ताओं को धमकाने की छूट दे दी गई है.

अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा कि ईरान 'मौत, तबाही और अराजकता' फैला रहा है.

उनका कहना है कि ईरान इस समझौते के मूल-भाव का पालन नहीं कर रहा है और असल में प्रतिबंधों का फ़ायदा उठा रहा है.

ट्रंप ने कहा कि उनकी नई रणनीति से इस पर लगाम लगेगी. ट्रंप ने कहा कि अमरीका के पास इस समझौते को कभी भी छोड़ने का अधिकार है.

अमरीका के बाद इसराइल भी यूनेस्को छोड़ने की तैयारी में

क्या है उत्तर कोरिया के ख़िलाफ़ ट्रंप का 'सनकी सिद्धांत'

ईरान पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी

रीवॉल्यूशनरी गार्ड
AFP
रीवॉल्यूशनरी गार्ड

परमाणु गतिविधियों के अलावा ट्रंप ने ईरान पर कुछ अन्य बातों को लेकर भी हमले किए. उन्होंने रीवॉल्यूशनरी गार्ड्स को 'ईरान के नेता की भ्रष्ट और निजी आतंकवादी फ़ोर्स' करार दिया.

ट्रंप ने कहा कि वह इस डील के इतर ईऱान पर प्रतिबंध लगाएंगे, जिनका मकसद गार्ड्स और 'वैश्विक व्यापार के लिए संकट खड़ा करने वाले मिसाइलों के विस्तार' पर रोक लगाना होगा.

ईरान से हुई डील की ट्रंप इसलिए आलोचना करते हैं क्योंकि इसमें ईरान का बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम शामिल नहीं है.

ईरान के रीवॉल्यूशनरी गार्ड इतने ताक़तवर क्यों?

आपने देखा है ईरान में गुफाओं वाला गांव

ईरान की प्रतिक्रिया

ट्रंप के इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने सवाल किया है कि ट्रंप उस समझौते से अकेले कैसे हट सकते हैं, जिस पर कई देशों ने हस्ताक्षर किए थे.

ईरान के सरकारी टीवी पर बात करते हुए रूहानी ने कहा, "ट्रंप चाहते हैं कि अमरीकी कांग्रेस इस समझौते में नई शर्त शामिल कर दे. मगर उन्हें मालूम नहीं है कि इसमें और कोई संशोधन नहीं किया जा सकता."

उन्होंने कहा, "ट्रंप ने अंतरराष्ट्रीय कानून ढंग से नहीं पढ़ा है. बहुत से देशों के बीच हुए समझौते को एक राष्ट्रपति कैसे रद्द कर सकता है? ट्रंप को शायद पता नहीं है कि यह ईरान और अमरीका के बीच हुआ द्विपक्षीय समझौता नहीं है कि वह जो चाहें वो कर लें."

अंतरराष्ट्रीय प्रतिक्रिया

फेडरिका मोगरीनी
EPA/DOMENIC AQUILINA
फेडरिका मोगरीनी

उनके बयान के कुछ मिनटों बाद ही यूरोपीय संघ की विदेश नीति प्रमुख फेडरिका मोगरीनी ने कहा कि समझौता काफी 'मज़बूत' था और 'समझौते में जो प्रतिबद्धाएं जताई गई थीं, उनका उल्लंघन नहीं हुआ है.'

उन्होंने कहा कि 'दुनिया में किसी राष्ट्रपति के पास' इस समझौते को ख़त्म करने का अधिकार नहीं है ,क्योंकि यह समझौता संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव के तहत किया गया है.

सात देशों के साथ हुए इस समझौते को ख़त्म करने को लेकर ट्रंप पर अपने देश के भीतर और बाहर से दबाव बना हुआ है.

एक साझा बयान में ब्रिटेन, जर्मनी और फ्रांस ने कहा है कि ट्रंप के कदम पर उन्हें चिंता है लेकिन वो परमाणु समझौते का सम्मान करते हैं. हालांकि इस देशों का ये भी कहना है कि "ईरान के बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम और इस इलाके की गतिविधियों की उन्हें चिंता है."

रूस के विदेश मंत्रालय का कहना है कि उन्हें राष्ट्रपति ट्रंप के फैसले पर खेद है लेकिन उन्हें नहीं लगता कि इसका कोई सीधा असर पड़ेगा.

इसराइल के प्रधानमंत्री बेन्यामिन नेतन्याहू ने ईरान के ख़िलाफ़ कदम उठाने के ट्रंप के फ़ैसले के लिए उन्हें बधाई दी है और कहा है कि इसे एक 'साहसिक' फ़ैसला बताया है.

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Donald Trump accused iran, threats to break the nuclear agreement
Please Wait while comments are loading...

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.