• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

चीन तेजी से बढ़ा रहा अपने परमाणु हथियार, ​पेंटागन का खुलासा- 2030 तक हो जाएंगे 1 हजार से ज्यादा

Google Oneindia News

वॉशिंगटन डीसी। दुनिया में नई महाशक्ति के तौर पर उभरता चीन अपने परमाणु हथियारों का जखीरा भी बढ़ा रहा है। अपनी न्यूक्लियर फोर्स को ज्यादा ​शक्तिशाली बनाने के लिए वह अरबों डॉलर खर्च रहा है। अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन की रिपोर्ट में बताया गया है कि, चीन परमाणु हथियारों का जखीरा तेजी से बढ़ा रहा है। पेंटागन की रिपोर्ट के मुताबिक, एक साल पहले अमेरिकी अधिकारियों ने जो अनुमान लगाया था, चीन उसकी तुलना में बहुत तेजी से अपने परमाणु भंडार बढ़ा रहा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि, 6 साल के भीतर चीनी परमाणु हथियारों की संख्या बढ़कर 700 हो सकती है, जो 2030 तक 1 हजार से भी ऊपर पहुंच जाएगी।

Recommended Video

    China तेजी से बढ़ा रहा अपने Nuclear Weapon, ​Pentagon ने किया बड़ा खुलासा | वनइंडिया हिंदी
    चीन के पास परमाणु हथियारों की संख्या बढ़ी

    चीन के पास परमाणु हथियारों की संख्या बढ़ी

    हालांकि, चीन के पास फिलहाल कितने परमाणु हथियार मौजूद हैं...ये जानकारी पेंटागन ने नहीं दी। पेंटागन के अलावा भी दुनिया की कई एजेंसियां दुनिया में मौजूद परमाणु हथियारों की संख्या को लेकर रिसर्च करती रही हैं, जिनमें अमेरिका-रूस और फ्रांस के बाद सबसे ज्यादा हथियार चीन के पास ही बताए जाते हैं। पेंटागन की जो ताजा रिपोर्ट आई है, उसमें ये नहीं बताया गया है कि आज चीन के पास कितने परमाणु हथियार हैं। हालांकि, तकरीबन एक साल पहले पेंटागन ने कहा था कि यह संख्या 200 के करीब हो सकती है, जिसके इस दशक के अंत तक दोगुना होने की संभावना है। पेंटागन की रिपोर्ट यूं तो चीन के साथ खुले तौर पर अमेरिका से टकराव की आशंका नहीं जताती, लेकिन यह चीनी सेना को लेकर अमेरिका की चिंताओं को उजागर करती है।

    सभी तरह से अमेरिका की बराबरी करने में लगा

    सभी तरह से अमेरिका की बराबरी करने में लगा

    चीन सभी तरह के क्षेत्रों में अमेरिका को टक्कर देने में लगा है। अब चीनी सेना लड़ाई के सभी क्षेत्रों (हवा, जमीन, समुद्र, अंतरिक्ष और साइबरस्पेस) में अमेरिका को चुनौती देने की इच्छा रखती है। संख्या के लिहाज से फिलहाल दुनिया में सबसे बड़ी सेना चीन की ही है। उसके पास 20 लाख से ज्यादा सैनिक हैं, वहीं अमेरिका के पास कुल सैनिकों की संख्या लगभग 14 लाख है। भारत की बात करें तो हमारे पास थलसेना में 13 लाख जवान हैं। वहीं, पेंटागन की रिपोर्ट देखें तो अमेरिकी अधिकारियों ने ताइवान को लेकर भी चीन के रवैये पर चिंता जताई है। चीन ताईवान को अपना हिस्सा बताता है और उसे अपने में मिलाने का मंसूब पाल रखा है।

    भारत से टकराव के बीच चीन ने कैसे सीमा पर बुनियादी ढांचा मजबूत किया, यह पेंटागन की रिपोर्ट में हुआ खुलासाभारत से टकराव के बीच चीन ने कैसे सीमा पर बुनियादी ढांचा मजबूत किया, यह पेंटागन की रिपोर्ट में हुआ खुलासा

    हाइपरसोनिक मिसाइल का किया था टेस्ट

    हाइपरसोनिक मिसाइल का किया था टेस्ट

    पिछले 16 अक्टूबर को चीन के हाइपरसोनिक मिसाइल टेस्ट करने की खबर मीडिया में आई। ब्रिटिश न्यूजपेपर फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक चीनी सेना की तरफ से दागा गया लॉन्ग मार्च रॉकेट एक हाइपरसोनिक ग्लाइड व्हीकल लिए हुए था, जो अंतरिक्ष की निचली कक्षा में पहुंचने के बाद धरती का चक्कर लगाकर तेजी से अपने टारगेट की तरफ बढ़ा। यह चीन की हाईपरसोनिक मिसाइल ही बताई गई, जिसके टेस्ट को चीन ने पूरी तरह गोपनीय रखा। चीन की इस कोशिश से अमेरिकी खुफिया एजेंसियां दंग रह गईं। पेंटागन की नई रिपोर्ट में चीन की DF-17 मध्यम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइल का जिक्र है, जो कि हाइपरसोनिक ग्लाइड ह्वीकल से लैस थी।

    Comments
    English summary
    China increasing the stockpile of weapons, by 2030 there will be more than 1 thousand nuclear weapons: Pentagon report
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X