• search

'लंदन से अगवा कर सेक्स के धंधे में धकेला'

Posted By: BBC Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    सांकेतिक तस्वीर
    BBC
    सांकेतिक तस्वीर

    अन्ना (बदला हुआ नाम) रोमानिया से पढ़ाई का इरादा लेकर लंदन आई थी. आँखों में बड़े-बड़े सपने थे, लेकिन लगभग खाली थी.

    यूनिवर्सिटी में दाखिला लेने से पहले उनके लिए पैसे कमाने ज़रूरी थे. इरादे पक्के थे, इसलिए उन्होंने वेट्रेसिंग, साफ़-सफ़ाई करने वाली से लेकर मैथ के ट्यूटर तक का काम किया.

    लेकिन फिर मार्च 2011 में एक दिन उन्हें एक सड़क से अगवा कर लिया गया. अपहरणकर्ता उन्हें आयरलैंड ले गए और फिर अगले 9 महीने तक अन्ना ने जो कुछ झेला वो किसी नर्क से कम नहीं था.

    अन्ना बस अपने घर पहुँचने ही वाली थी. वो लंच करने के लिए घर लौट रहीं थी और फिर कुछ आराम करने के बाद साफ़-सफ़ाई करने के लिए उन्हें अगले काम पर जाना था. उन्होंने हैडफ़ोन लगाए थे और बेयोन्से का गाना सुन रही थीं. कमरे का दरवाज़ा खोलने के लिए वो पर्स से चाबियां निकालने ही जा रही थी कि तभी पीछे से किसी ने उनकी गर्दन पकड़ी और मुंह बंद करते हुए घसीटते हुए लाल रंग की कार में धकेल दिया.

    अगवा करने वाले तीन लोग थे- दो पुरुष और एक महिला. वो अन्ना को तमाचे मार रहे थे और रोमानिया की ज़ुबान में उसे धमकियां दे रहे थे. अपहरणकर्ताओं ने अन्ना को रोमानिया की ज़ुबान में धमकी दी, "चीखो नहीं, चुपचाप रहो और जो कहा जाए वो करो, वरना रोमानिया में तुम्हारे परिवार को मार दिया जाएगा."

    अन्ना बताती हैं, "मुझे नहीं पता था कि क्या हो रहा है और वे मुझे कहाँ लेकर जा रहे हैं. मेरे मन में तमाम ख़याल चल रहे थे, कहीं वो अंग बेचने वाला गिरोह तो नहीं है या मुझे देह व्यापार में तो नहीं धकेल दिया जाएगा. या फिर कहीं वो मेरी हत्या तो नहीं कर देंगे. भगवान जाने क्या होगा?"

    वे अन्ना के पर्स की तलाशी ले रहे थे. उन्होंने अन्ना का फ़ोन भी खंगाला और कॉन्टैक्ट लिस्ट के अलावा फ़ेसबुक फ्रेंड्स तक सब कुछ देख डाला. फिर उन्होंने अन्ना का पासपोर्ट भी ले लिया.

    सांकेतिक तस्वीर
    BBC
    सांकेतिक तस्वीर

    अन्ना को पता था कि कार से भाग निकलने का कोई रास्ता नहीं था, लेकिन जब वो एयरपोर्ट पर पहुँचे तो उसके साथ सिर्फ़ एक ही शख्स रह गया था, उसे लगा कि क्या यहाँ पर बचने का कोई मौका है और क्या वो एयरपोर्ट के स्टाफ़ से मदद की गुहार लगा सकती है?

    अन्ना कहती हैं, "जब आप बुरी तरह डरे हुए हो तो चिल्लाना भी मुश्किल होता है. उनके पास मेरे कागज थे, वो जानते थे कि मेरी माँ कहाँ हैं, वो मेरे बारे में सब कुछ जानते थे."

    चेक-इन डेस्क पर वो रो रही थी और उसका चेहरा लाल था, लेकिन काउंटर पर खड़ी महिला कर्मचारी ने शायद इस पर ध्यान नहीं दिया. जब अन्ना के साथ चल रहे व्यक्ति ने उनके पासपोर्ट दिए, वो (महिला कर्मचारी) मुस्कुराई और उन्हें बोर्डिंग पास सौंप दिए.

    अपहरणकर्ता ने ऐसे दिखाया कि जैसे वो पति-पत्नी हों और फिर विमान में सबसे पीछे की सीट पर जाकर बैठ गए. उस शख्स ने अन्ना को धमकी दी कि चीखे-चिल्लाए नहीं वर्ना वो उसे मार देगा.

    डर

    अन्ना ने विमान के कैप्टन का अनाउंसमेंट सुना कि विमान आयरलैंड में एक एयरपोर्ट के लिए उड़ रहा है- अन्ना ने उस जगह के बारे में पहले कभी नहीं सुना था. जब वो विमान से उतर रही थी ति उसका चेहरा आँसुओं से पूरी तरह भीगा हुआ था, लेकिन जैसा कि चेक-इन डेस्क पर हुआ, उतरते हुए भी क्रू मेंबर्स के चेहरों पर मुस्कुराहट थी.

    सांकेतिक तस्वीर
    BBC
    सांकेतिक तस्वीर

    इस बार अन्ना ने तय किया कि वह एयरपोर्ट से भाग निकलेगी, लेकिन जिस जगह वो पहुँचे थे तो तकरीबन बस अड्डे जितना निकला. वहाँ उसका इंतज़ार रोमानिया के दो अन्य नागरिक कर रहे थे.

    उन दोनों में से मोटा दिख रहा शख्स बोला, "ये अच्छी दिख रही है."

    तब जाकर अन्ना को अहसास हुआ कि उसे क्यों अगवा किया गया है. अन्ना बताती हैं, "मुझे तब पता चल गया था कि मैं बिकने जा रही हूँ."

    वो दोनों व्यक्ति उसे एक गंदे से फ्लैट में लेकर गए. कमरा बदबू से भरा हुआ था और शराब, सिगरेट और पसीने की गंध से महक रहा था. ड्राइंग रूम में बैठे व्यक्ति सिगरेट और शराब पी रहे थे और टेबल पर रखे एक दर्जन से अधिक फ़ोन लगातार घनघना रहे थे. लड़कियां कम कपड़ों में या लगभग नग्न ड्राइंग रूम से सटे कमरों में आ-जा रही थीं.

    इंटरनेट पर डाली तस्वीरें

    फिर एक औरत ने कुछ पुरुषों की मदद से अन्ना के कपड़े जबरन उतरवा दिए और अंडरवेयर में उनकी तस्वीरें उतारी ताकि इनका विज्ञापन इंटरनेट पर किया जा सके. उसके कई नाम रखे गए. अब वो नतालिया, लारा, रशेल और रूबी थी और उसका देश लात्विया, पोलैंड और हंगरी था.

    सांकेतिक तस्वीर
    BBC
    सांकेतिक तस्वीर

    उसे हज़ारों मर्दों के साथ सेक्स के लिए मजबूर किया गया. अन्ना ने कई महीनों तक दिन की रोशनी नहीं देखी. उन्हें तब ही सोने की इजाज़त थी, जब कोई ग्राहक न हो. ग्राहकों के आने का कोई वक्त नहीं था और एक दिन में इनकी तादाद 20 तक होती थी. किसी-किसी दिन तो अन्ना को खाना भी नसीब नहीं होता था और उसे ब्रेड या रोटी के टुकड़े पर ही गुजारा करना होता था.

    खाना नहीं मिलने और नींद पूरी नहीं होने से अन्ना का वज़न तेज़ी से गिरा और दिमाग़ ने भी काम करना बंद कर दिया था.

    चार महीने बीत चुके थे, तभी एक दिन फ्लैट पर पुलिस का छापा पड़ा और वहाँ मौजूद सभी लड़कियों को गिरफ़्तार कर लिया गया. कमाल ये था कि जो लोग (मर्द और औरतें) ये धंधा चला रहे थे, वो पुलिस के आने से पहले ही लैपटॉप और कैश लेकर फरार हो चुके थे. अन्ना हैरानी जताती हैं कि वो पुलिस के छापे के बारे में पहले से कैसे जानते थे?

    बहरहाल, अन्ना इस गिरफ़्तारी से ख़ुश थी. उन्हें इस बात का पक्का यकीन था कि पुलिस ये मानेगी कि वे पीड़ित हैं, लेकिन पुलिस ने उनकी एक नहीं सुनी. गिरफ़्तार हुई चारों महिलाओं ने पूरी रात हवालात में गुजारी. फिर उन्हें कोर्ट में पेश किया गया. ये महिलाएं जब कोर्ट से बाहर निकल रही थी तो बाहर फिर एक कार दरवाजे खोले उनका इंतज़ार कर रही थी.

    माँ की लाचारी

    इस बीच, रोमानिया में अन्ना की मां ने भी आयरलैंड में एक वैश्यालय में रोमानिया की लड़कियों के पकड़े जाने की ख़बर पढ़ी थी. साथ ही उन्हें अन्ना के फ़ेसबुक पन्ने से भी ये पता चल गया था कि उनकी बेटे किस हाल में है, जब उन्होंने अन्ना की अर्धनग्न और लगभग नग्न तस्वीरें देखी.

    अन्ना कहती हैं, "मेरी मां रोमानिया में पुलिस के पास गई, लेकिन उन्होंने कहा कि एक तो वो (अन्ना) बालिग है और दूसरा देश से बाहर है. इसलि वो जो चाहे कर सकती है."

    सांकेतिक तस्वीर
    BBC
    सांकेतिक तस्वीर

    अश्लील तस्वीरों के कारण फ़ेसबुक ने भी अन्ना का अकाउंट डिलीट कर दिया.

    कोर्ट से छुड़ाने के बाद अपहरणकर्ता अन्ना और अन्य महिलाओं को लेकर अलग-अलग स्थानों पर गए. फिर अन्ना की मुलाक़ात एक ड्रग डीलर से हुई जो वहाँ सेक्स करने नहीं, बल्कि उनसे बात करने के लिए आता था. उसकी मदद से अन्ना उनकी माँ और उनके पार्टनर से फ़ोन पर बात करने में कामयाब रही.

    जैसे ही अन्ना की माँ के पार्टनर को पता लगा कि फ़ोन पर कौन है, उन्होंने कहा कि भविष्य में कभी फ़ोन न करे. इस पर अन्ना ने कहा, "अब जब धमकी भरा फ़ोन आए तो कहना मैं उनके (माँ) लिए मर चुकी हूँ."

    अन्ना के पास न तो पासपोर्ट था और न कोई दूसरा दस्तावेज़. उन्होंने हिम्मत जुटाई और पुलिस को फ़ोन कर अपनी आपबीती सुनाई. ख़ुशकिस्मती से इस बार पुलिस ने अन्ना की बात पर यकीन किया और वो क़ैद के उस चारदीवारी से बाहर निकल सकी.

    दो साल तक चली जाँच के बाद पुलिस अन्ना के अपहरणकर्ताओं को गिरफ़्तार करने में कामयाब रही.

    15 साल तक गुफ़ा में क़ैद रखकर करता रहा रेप

    जहां रेप के बाद पैदा हुए बच्चे का बाप बनता है रेपिस्ट

    मैरिटल रेप पर क्यों मचा है बवाल?

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Abduction from London and pushing into sex business

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X