• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

9/11 के 19 साल: कोरोना वायरस महामारी की तकलीफ में लोग याद कर रहे अपनों को

|

न्‍यूयॉर्क। 11 सितंबर 2001 को अमेरिका में हुए सबसे बड़े आतंकी हमलों के आज 19 साल पूरे हो गए हैं। यह साल थोड़ा नहीं बहुत अलग है और इस बार कोरोना वायरस महामारी ने अमेरिका में उन आतंकी हमलों की तुलना में सबसे ज्‍यादा कहर मचाया है। महामारी का असर 11 सितंबर को होने वाले कार्यक्रमों पर भी नजर आ रहा है। मेमोरियल प्‍लाजा और वर्ल्‍ड ट्रेड सेंटर के करीब, इस वर्ष कोई भी आतंकी हमलों में मारे गए पीड़‍ितों को श्रद्धांजलि नहीं दे पाएगा।

corona-90-11.jpg

कोरोना वैक्सीन: ऑक्सफोर्ड ही नहीं, ये 6 वैक्सीन भी पहुंच चुकी हैं थर्ड फेज के ट्रायल में

यह भी पढ़ें-भारत ने अल्‍पसंख्‍यकों के मसले पर पाकिस्‍तान को फटकारा

इस वर्ष नहीं होंगे कार्यक्रम

हर वर्ष हमलों में मारे गए लोगों के परिजन वर्ल्‍ड ट्रेड सेंटर के करीब मेमोरियल प्‍लाजा में आकर पर उनका नाम पढ़ते थे, लेकिन इस बार इस सर्विस को भी सस्‍पेंड कर दिया गया है। अब इस फैसले को लेकर लोगों में मतभेद उभर गए हैं। उप राष्‍ट्रपति माइक पेंस न्‍यूयॉर्क में मेमोरियल प्‍लाजा और वर्ल्‍ड ट्रेड सेंटर के करीब पीड़‍ितों को श्रद्धांजलि देंगे। इसके अलावा राष्‍ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और इस बार डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्‍ट्रपति उम्‍मीदवार जो बाइडेन पेंसिलवेनिया स्थित फ्लाइट 93 नेशनल मेमोरियल पर जाकर श्रद्धांजलि दे सकते हैं। ट्रंप जहां सुबह के कार्यक्रम में जनता को संबोधित करेंगे तो वहीं बाइडेन दोपहर में अपना संबोधन दे सकते हैं। न्‍यूयॉर्क में फायर डिपार्टमेंट की तरफ से लोगों से अपील की गई है कि वह इस वर्ष कार्यक्रम से दूर रहे।

जानिए क्या है वो ऐतिहासिक Israel-UAE Peace Deal जिस पर Nobel के लिए हुआ ट्रंप का नामांकन

लोगों को सता रही एक आशंका

वर्ल्‍ड ट्रेड सेंटर के दोनों टॉवर्स पर अल-कायदा के आतंकियों ने 11 सितंबर को दो प्‍लेन को ले जाकर टकरा दिया था। उन हमलों में करीब 3000 लोग मारे गए थे और उनमें 350 फायर फाइटर्स थे। कोरोना वायरस ने जब अमेरिका में दस्‍तक दी तो लोगों को अंदाजा नहीं था कि महामारी इतना विकराल रूप ले सकती है। अमेरिका में आज इस महामारी से जितने लोगों की मौत हुई है, उसका आंकड़ा 9/11 में मारे गए लोगों से कई गुना ज्‍यादा है। इस महामारी से अब तक अमेरिका में 196,331 लोगों की मौत हो गई है। पीड़‍ितों के रिश्‍तेदारों का कहना है कि इस वर्ष ग्राउंड जीरो पर बदलाव किया गया है और वह इस बात को समझते हैं। वहीं कुछ लोग मान रहे हैं कि महामारी की वजह से दुनिया उन लोगों को भूल जाएगी जिन्‍होंने आतंकी हमलों में अपनी जान गंवाई थी। वहीं, अथॉरिटीज के मुताबिक कार्यक्रम को कैंसिल नहीं किया गया बल्कि उसमें बदलाव किया गया है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
19 years of 9/11: restrictions of Coronavirus change September 11.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X