• search

बाढ़ का जायज़ा लेने इतनी देर से क्यों गए राहुल गांधी

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    राहुल गांधी, केरल, बाढ़
    INC @Twitter
    राहुल गांधी, केरल, बाढ़

    कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सोमवार से बाढ़ प्रभावित केरल के दो दिवसीय दौरे पर हैं. केरल में बाढ़ का पानी उतरे सप्ताह भर बीत चुका है.

    सोशल मीडिया में इस बात की काफ़ी चर्चा हो रही है कि राहुल गांधी ने केरल जाकर बाढ़ पीड़ितों का हाल जानने में देरी कर दी.

    क्या राहुल गांधी इससे पहले केरल नहीं जा सकते थे?

    इस सवाल पर कांग्रेस महासचिव शकील अहमद कहते हैं, "मैं समझता हूं कि यही सही वक्त है केरल जाने का क्योंकि लोग मना करते हैं."

    "अगर कोई घटना हुई और वीआईपी तुरंत वहां पहुंचें तो लोग उनकी सुरक्षा व्यवस्था और अलग कामों में लग जाते हैं. ऐसे में ज़मीनी स्तर पर होने वाला काम प्रभावित होता है. यही सही तरीका है कि आप थोड़ा रुक जाएं और फिर जाएं. राहुल जी उन पहले नेताओं में थे जिन्होंने कहा था कि केरल में आई बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित किया जाए."

    शकील अहमद कहते हैं, "किसी नेता को अपने दौरे के कारण जो राहत और बचाव कार्य चलाए जा रहे हैं उसे डिस्टर्ब नहीं करना चाहिए. बहुत सही वक्त पर राहुल गांधी केरल गए हैं."

    राहुल गांधी, केरल, बाढ़
    INC @Twitter
    राहुल गांधी, केरल, बाढ़

    बीते सप्ताह राहुल गांधी विदेश में थे

    केरल जाने से पहले राहुल गांधी के जर्मनी और ब्रिटेन दौरे का ज़िक्र करते हुए वरिष्ठ पत्रकार टीआर रामचंद्रन कहते हैं कि राहुल गांधी हर समय बीजेपी के निशाने पर रहते हैं.

    टीआर रामचंद्रन का मानना है कि राहुल गांधी की आलोचना में कोई नई बात नहीं है, "बीजेपी सत्ताधारी पार्टी है और राहुल गांधी हमेशा उनके निशाने पर रहेंगे. लेकिन प्रधानमंत्री को इस बात के लिए सराहा जाना चाहिए क्योंकि उनको समझ आ गया कि आम लोगों की बाढ़ के कारण क्या हालत हुई है और उन्होंने कोई देर नहीं की वहां जाने में."

    "इसके मुक़ाबले लोकसभा में सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी के अध्यक्ष अगर सप्ताह भर बाद वहां जाते हैं क्योंकि उनका पहले से विदेश में कार्यक्रम है तो इसका संदेश अच्छा नहीं जाता."

    उनका कहना है, "राहुल गांधी नहीं भी जाते तो कौन-सी आफ़त आ जाती? लोग आलोचना करते और कुछ दिन में भूल भी जाते."

    https://twitter.com/INCIndia/status/1033411929195380736

    https://twitter.com/INCIndia/status/1033597017509875713

    दक्षिण में पैर पसारना चाहती है भाजपा

    वहीं वरिष्ठ पत्रकार कल्याणी शंकर का मानना है कि राहुल गांधी अभी सही मायने में नेता नहीं बने हैं और यही वजह है कि वो प्रधानमंत्री मोदी की तरह जल्दी केरल जाकर ये जता नहीं पाए कि उन्हें और उनकी पार्टी को भी केरल के लोगों की चिंता है.

    कल्याणी शंकर कहती हैं, "इसमें कोई शक़ नहीं है कि राहुल गांधी को सही मायनों में राजनीतिज्ञ बनना पड़ेगा. वो उस स्थिति में उस तरह से प्रतिक्रिया नहीं दे रहे हैं जैसी उनसे उम्मीद है."

    "वो हाल में यूरोप दौरे पर थे. हो सकता है कि उन्होंने सोचा हो कि लंदर स्कूल ऑफ़ इकनॉमिक्स और अन्य जगहों पर पहले से तय कार्यक्रम डिस्टर्ब ना हो. वो शायद इसे कैंसिल नहीं करना चाहते थे."

    "आधे दिन के लिए भी केरल नहीं जा पाना अजीब था. लेकिन अब वो दो दिन के लिए वहां जाने वाले हैं. अब देखना होगा कि लोगों की क्या प्रतिक्रिया रहती है."

    वो कहती हैं, "प्रधानमंत्री मोदी तुरंत वहां गए थे क्योंकि वो भी वहां अपनी पार्टी की स्थिति सुधारना चाहते थे."



    राहुल गांधी, केरल, बाढ़
    INC @Twitter
    राहुल गांधी, केरल, बाढ़

    राहुल गांधी के दौरे पर विवाद के बीच तथ्य ये है कि केरल में बाढ़ की वजह से अब तक 350 से ज़्यादा लोगों की जान जा चुकी है और लाखों लोग बेघर हो चुके हैं.

    केंद्र सरकार ने राहत और बचाव कार्य के लिए केरल को 600 करोड़ रुपये की सहायता राशि देने का एलान किया है.

    केरल में आई विनाशकारी बाढ़ के पीछे अलग-अलग वजहें बताई जा रही हैं.

    पिछले दिनों केरल ने सुप्रीम कोर्ट में कहा था कि तमिलनाडु ने मुल्लापेरियार बांध से अचानक पानी छोड़ा गया जिसने बाढ़ की स्थिति पैदा करने में अहम भूमिका अदा की थी.

    bbc hindi
    BBC
    bbc hindi

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Why did Rahul Gandhi so late to take stock of the flood

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X