• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

'वेदर बैलून' के दिन पूरे, अब ड्रोन से मिलेगी मौसम जानकारी, IMD ने बनाया मेगाप्लान

Google Oneindia News

नई दिल्ली, 09 जून । भारतीय मौसम विभाग मौसम की जानकारी जुटाने के लिए बड़ा कदम उठाने जा रहा है। वो मौसम पूर्वानुमान के आंकड़ों को पता लगाने के लिए ड्रोन के प्रयोग की तैयारी कर रहा है। अभी तक मौसम की जानकारी वेदर बैलून के जरिए हासिल की जाती है, जिसको मौसम विभाग देशभर में अलग-अलग जगहों पर भेजकर मौसम के बारे में जानकारी जुटाता है। ये प्रकिया जटिल, महंगी और वक्त लेने वाली है लेकिन अगर वेदर बैलून की जगह ड्रोन का प्रयोग होने लगा तो ये प्रक्रिया सुगम, सस्ती और किफायती हो जाएगी।

कैसे काम करता है 'वेदर बैलून'?

कैसे काम करता है 'वेदर बैलून'?

  • दरअसल मौसम के गुब्बारे या वेदर बैलून एक हाइड्रोजन गैस से भरा गुब्बारा होता है, जिसमें रेडियोसॉन्ड सेंसर लगे होते हैं।
  • ये गुब्बारे 12 किमी की ऊंचाई तक उड़ते हैं और पृथ्वी पर रेडियो सिग्नल भेजते हैं।

Weather: उत्तर भारत में गर्मी का तांडव जारी, दिल्ली-पंजाब- उत्तराखंड और राजस्थान में हीटवेट का अलर्ट जारीWeather: उत्तर भारत में गर्मी का तांडव जारी, दिल्ली-पंजाब- उत्तराखंड और राजस्थान में हीटवेट का अलर्ट जारी

55 जगहों पर मौसम वाले गुब्बारे जाते हैं

55 जगहों पर मौसम वाले गुब्बारे जाते हैं

  • मौसम विभाग दिन में दो से तीन बार करीब 55 जगहों पर मौसम वाले गुब्बारे भेजता है।
  • रेडियोसॉन्ड सेंसर वायुमंडलीय दबाव, तापमान, हवा की दिशा और गति को रिकॉर्ड करता है।
नया प्लान

नया प्लान

  • पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के सचिव एम रविचंद्रन ने कहा कि "हम अब इस वायुमंडलीय डेटा को इकट्ठा करने के लिए ड्रोन का उपयोग करने की संभावना तलाश रहे हैं जो मौसम की भविष्यवाणी के लिए महत्वपूर्ण है।"
  • मौसम के गुब्बारों की जगह ड्रोन का प्रयोग हमारे लिए फायदेमंद साबित होगा क्योंकि इन्हें नियंत्रित और निर्देशित किया जा सकता है।
  • एक मौसम के गुब्बारे की उड़ान आमतौर पर दो घंटे तक चलती है जबकि एक ड्रोन 40 मिनट की उड़ान में ही सारा काम कर सकता है।
मौसम का पूर्वानुमान का पता लगाएगा ड्रोन

मौसम का पूर्वानुमान का पता लगाएगा ड्रोन

आपको बता दें कि India Meteorological Department (IMD) 550 स्थानों से मौसम की जानकारी एकत्र करता है और उसके बाद हमें मौसम का पूर्वानुमान पता चलता है। फिलहाल IMD का कहना है कि वो अभी 5 किमी की ऊंचाई तक के डाटा को एकत्रित करने के लिए ड्रोन का इस्तेमाल करेगा और वेदर बैलून की रिपोर्टसे उसकी तुलना करेगी, जिससे कि पता चल सके कि दोनों में बेहतर कौन है।

Comments
English summary
Weather balloon days are over, now weather information will be available from drones. Now drones will give us weather updates.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X