• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

लॉकडाउन में हजारों विमान नहीं भर रहे उड़ान, जानिए आखिर क्या हो रहा है इनका

|

नई दिल्ली। कुछ ही महीनों में पूरी दुनिया को अपनी चपेट में लेने वाले कोरोना वायरस ने मानों समय को ही रोक दिया हो। लॉकडाउन के चलते मॉल, बाजर, शेयर मार्केट, व्यवसाय, ट्रेन, मैट्रो और एयरलाइंस समेत सभी सार्वजनिक स्थानों पर प्रतिबंध लगा दी गई है। कोरोना वायरस की वजह से आसमान खाली हैं, विमान हवाई अड्डे की पार्किंग में खड़े हैं। लॉकडाउन के ये दिन एयरलाइन के लिए नई चुनौतियां खड़ी कर रहे हैं। रनवे पर खड़े हजारों विमानों की सुरक्षा, मेंटेनेंस एयरलाइन कंपनियों के लिए मुसीबत बन गई है।

    Lockdown-2.0: हजारों Flight नहीं भर रहे उड़ान, जानिए क्या हो रहा है इनका? | वनइंडिया हिंदी
    रनवे पर खड़े हैं दुनिया भर में 16,000 से अधिक यात्री विमान

    रनवे पर खड़े हैं दुनिया भर में 16,000 से अधिक यात्री विमान

    एक रिसर्च के मुताबिक दुनिया भर में 16,000 से अधिक यात्री विमान इस समय रनवे पर खड़े हैं क्योंकि कोरोना वायरस के चलते उनके उड़ान भरने की अनुमति नहीं है। वैश्विक महामारी से एयरलाइन की कमाई पर भी बुरा प्रभाव पड़ा है, कंपनियों का काफी नुकसान झेलना पड़ रहा है। दुनिया के 62% विमानों के लिए सही स्थान और सही स्थितियां खोजना साल 2020 में चुनौती साबित हो रहा है।

    विमानों के जमीन पर रहने से होती है ये समस्या

    विमानों के जमीन पर रहने से होती है ये समस्या

    कोरोना वायरस के चलते रनवे और पार्किंग में खड़े विमानों का रखरखाव बड़ी समस्या बन गया है। लॉकडाउन के बाद विमानों को तुरंत उड़ाने के लिए नहीं भेजा जा सकता। विमानों को पार्क करने के लिए सही जगह और काम पर ध्यान देने की आवश्यकता होती है। जबकि भंडारण में, हाइड्रोलिक्स और फ्लाइट-कंट्रोल सिस्टम के रखरखाव से लेकर कीटों और वन्यजीवों के संरक्षण और पक्षियों के घोंसले तक समस्या हो सकती है।

    मौसम भी विमानों के पार्ट्स को पहुंचाता है नुकसान

    मौसम भी विमानों के पार्ट्स को पहुंचाता है नुकसान

    इसके अलावा मौसम भी विमानों के पार्ट्स को खराब करने की एक बड़ी वजह बन जाता है। मौमस में नमी होने से विमान के अंदरूनी हिस्सों को नुकसान पहुंच सकता है। इसिलिए जब विमान को रनवे पर पार्क किया जाता है तो विमानों को अक्सर ईंधन के साथ लोड किया जाता है ताकि उन्हें हवा में रॉकिंग से बचाए रखा जा सके। यह सुनिश्चित किया जाता है कि विमान का टैंक तेल से भरा हुआ है।

    पिछले 26 वर्षों में नहीं हुआ ऐसा

    पिछले 26 वर्षों में नहीं हुआ ऐसा

    नई दिल्ली विमान मरम्मत और रखरखाव कंपनी एयर वर्क्स के मुख्य कार्यकारी अधिकारी आनंद भास्कर ने कहा, किसी ने नहीं सोचा था कि विमानों को बचाने के लिए हमें इतने बड़े स्तर पर रखरखाव करना होगा। पार्किंग की जगह एक समस्या है, यह बुरे सपना जैसा है जिससे पूरी दुनिया लड़ रही है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक पिछले 26 वर्षों में ऐसा पहली बार हुआ है जब पूरी दुनिया में विमान रनवे पर खड़े हैं।

    दुनिया के कुख्यात ड्रग माफिया 'अल चापो' गुजमैन की बेटी बनी कोरोना वॉरियर

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Thousands of aircraft are not flying in lockdown coronavirus
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X