• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

असम के लगातार तीन बार मुख्‍यमंत्री रहे तरुण गोगोई जिन्‍होंने हर कदम पर जोखिम लिया और बने विजेता

|
Google Oneindia News

नई दिल्‍ली। असम के पूर्व मुख्‍यमंत्री तरुण गोगोई का 84 वर्ष में सोमवार को निधन हो गया। अगस्‍त में उन्‍हें कोरोना हुआ था और वो कोरोना से जंग जीत गए थे लेकिन कोरोना के कारण बाद में हुई तकलीफों के बाद उन्‍हें गुवाहाटी के मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था जहां आज उन्‍होंने सोमवा को अंतिम सांस ली। असम के स्वास्थ्य मंत्री हेमंत बिस्वा शर्मा ने उनके निधन की पुष्टि की। तीन बार असम के मुख्‍मयंत्री की कुर्सी संभाल चुके तरुण गोगोई पुराने कांग्रेसियों में एक ऐसे नेता रहें जिन्‍होंने अपने राजनीतिक करियर में कई जोखिम उठाए और हमेशा जीत हासिल की।

    Assam के पूर्व मुख्यमंत्री Tarun Gogoi का निधन, तीन दिनों से वेंटिलेटर पर थे | वनइंडिया हिंदी
    तरुण गोगोई

    बता दें नवंबर माह की शुरूआत में गोगोई के कई ऑरगेन फेल होने के कारण उनको वेंटिलेटर पर रखा गया था। गोगोई के परिवार में उनकी पत्नी डॉली गोगोई, बेटी चंद्रिमा गोगोई और उनका बेटा गौरव गोगोई हैं। असम से छह बार के सांसद और दो बार केंद्रीय मंत्री रहे गोगोई ने 2001 में अपने गृह राज्य की राजनीति में दिल्ली से लौटे और प्रफुल्ल कुमार महंत की शक्तिशाली एजीपी सरकार के खिलाफ विधानसभा चुनावों में पार्टी का नेतृत्व करने का आरोप लगाया। उस समय, किसी ने उन्हें मौका नहीं दिया, लेकिन उन्होंने इसे खींच लिया, जिससे कांग्रेस जीत गई।

    तरुण गोगोई 2001 से 2016 तक असम के मुख्यमंत्री बने रहे

    11 अक्टूबर 1934 को पैदा हुए, तरुण गोगोई 2001 से 2016 तक असम के मुख्यमंत्री बने रहे। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस नेता ने पार्टी को लगातार तीन बार निर्वाचन चुनाव में जीत दिलवाई। जब पहली बार मुख्यमंत्री गोगोई बने उन्‍होंने बहुत मुश्किल समय में राज्य की कमान संभाली। तब असम में उग्रवाद अपने चरम पर था नृशंस हत्याएं हो रही थी प्रदेश का विकास थमा हुआ था।

    असम में उग्रवाद को कुचलते हुए प्रदेश की बदहालअर्थव्‍यवस्‍था को पटरी पर लाएं

    गोगोई ने असम में 15 वर्षों त‍क प्रदेश की सत्‍ता संभाली और उग्रवाद को कुचलते हुए असम की अर्थव्यवस्था की गाड़ी को फिर से ट्रैक पर लाया। 2012 के कोकराझार जातीय संघर्ष की तरह कभी-कभार विस्फोट हुए थे लेकिन कभी गोगोई ने हाथ नहीं खड़े किए उन्‍होंने ईंट का जवाब पत्‍थर से दिया। 2010 में कॉरपोरेट इंडिया रतन टाटा के नेतृत्व में असम से फोन आया। 2016 तक, असम सभी महत्वपूर्ण दक्षिण एशियाई खेलों का आयोजन कर रहा था।

    गोगोई वकील से बने नेता

    1936 में उषा और कमलेश्वर गोगोई के घर जन्मे तरुण गोगोई जोरहाट जिले में पले बढ़े। उनके पिता एक डॉक्टर थे। गोगोई ने वकील की डिग्री ली और पैक्टिस भी की, राजनीतिक में एंट्री से पहले 1963 से पहले केवल कुछ समय के लिए वकालत की उन्होंने 1968 में नगरपालिका बोर्ड में जीतकर चुनावी राजनीति में पदार्पण किया। राजनीति के अलावा, तरुण गोगोई पढ़ने और बागवानी पसंद करते थे। क्रिकेट, फुटबॉल और टेनिस जैसे खेलों में उनकी रुचि थी । वह गोल्फ भी खेलते थे। वह असम के सबसे लंबे समय तक सेवा करने वाले मुख्यमंत्री हैं। उन्होंने कांग्रेस पार्टी को लगातार तीन बार विधानसभा चुनावों में जीत हासिल करवाई ।

    इंदिरा गांधी ने चुना था और राजीव गांधी के करीबी थे गोगोई

    1971 में युवा कांग्रेस का नेतृत्व करने के लिए इंदिरा गांधी द्वारा उन्हें चुना गया था, प्रधानमंत्री राजीव गांधी के करीबी गोगोई विश्वासपात्र थे और 1991 से 1995 के बीच दो बार केंद्रीय मंत्री थे। असम में कांग्रेस के निर्विवाद नेता, वास्तव में, क्षेत्र, पार्टी गोगोई द्वारा ठोस रूप से खड़ी थी जब हिमंत बिस्वा सरमा ने 2015 में गोगोई के बेटे गौरव गोगोई के राजनीति में प्रवेश के खिलाफ विद्रोह कर दिया था। 2011 उन्होंने विधानसभा चुनाव जीते और लगातार तीसरे वर्ष राज्य के मुख्यमंत्री बने थे।

    2016 में भाजपा से मिली हार के बाद सीएम की कुर्सी छिनी

    2016 तरुण गोगोई की भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस भाजपा के खिलाफ हार गई और उनका कार्यकाल समाप्त हो गया। 2016 के असम चुनावों में भाजपा की ऐतिहासिक जीत ने गोगोई को मुख्यमंत्री के रूप में बाहर कर दिया, लेकिन वह एक तटक्ष, सीधे-सादे राजनेता बने रहे, जब तक कि वो लगातार तीन कार्यकाल तक असम के मुख्यमंत्री रहे।

    असम के पूर्व मुख्‍यमंत्री तरुण गोगोई का निधन, अगस्‍त में हुआ था कोरोनाअसम के पूर्व मुख्‍यमंत्री तरुण गोगोई का निधन, अगस्‍त में हुआ था कोरोना

    English summary
    Tarun Gogoi, who was the Chief Minister of Assam for three consecutive times, who took the risk and won
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X