• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सोहराबुद्दीन केस: आरोपियों ने कहा- वर्दी-टोपी के झगड़े में हमें फंसाया गया

|

नई दिल्ली। चर्चित सोहराबुद्दीन शेख, कौसर बी और तुलसीराम प्रजापति हत्याकांड मामले में मुंबई की एक अदालत में इस केस के 8 आरोपियों के बयान दर्ज किए गए। आठ आरोपियों के बयान एक ही दिन में दर्ज करवाए गए। इसमें आरोपी पुलिसकर्मयों ने खुलासा किया कि सोहराबुद्दीन का मारा जाना कई लोगों की महत्वाकांक्षा का परिणाम था।

sohrabuddin case: accused tell court, a result of rivalry and politics

सभी आरोपियों ने अदालत को बताया कि उनके खिलाफ जो सबूत पेश किए गए थे, सब झूठे और मनगढंत हैं। सीबीआई स्पेशल कोर्ट में राजस्थान के सब-इंस्पेक्टर श्याम सिंह, हिमांशु सिंह राजावत, इंस्पेक्टर अब्दुल रहमान के अलावा गुजरात पुलिस के इंस्पेक्टर बालकृष्ण चौबे, कांस्टेबल अजय, अजय परमार, संतराम और व्यापारी राजू जीरावाला के बयान दर्ज किए गए। सभी आरोपियों ने कहा कि आईपीएस अधिकारी नेताओं को खुश करने की होड़ में लगे रहते हैं, उनका तो कुछ नहीं बिगड़ता है लेकिन जूनियर इसमें फंसा दिए जाते हैं।

ये भी पढ़ें: मतदान से एक दिन पहले राहुल गांधी का मध्य प्रदेश की जनता के नाम पत्र, की ये अपील

आरोपियों ने कहा- हमें फंसाया गया

कोर्ट में परमार ने बताया कि ये पूरा मामला राजनीतिक रूप से प्रेरित है और शीर्ष पुलिस अधिकारियों ने दुश्मनी साधने के उद्देश्य से उन लोगों को फंसाया। परमार ने कहा कि मुठभेड़ के बाद, उन्हें जांच करने के लिए वरिष्ठ अधिकारियों डीजी वंजारा और राजकुमार पांडियन ने निर्देश दिए थे। जबकि राजस्थान के इंस्पेक्टर अब्दुल रहमान ने भी अपने बयान में कहा कि उन्होंने कभी कोई रिपोर्ट या एफआईआर दर्ज करवाई। इस केस में उनके नाम का गलत इस्तेमाल किया गया।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
sohrabuddin case: accused tell court, a result of rivalry and politics
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X