• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कमलनाथ के मंत्री बोले-कांग्रेस के बागी विधायकों को बेंगलुरु में सम्मोहित और प्रताड़ित किया जा रहा है

|

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजनीति में चल रहे घमासान में आज बेहद अहम दिन है। 22 विधायकों के इस्तीफे के बाद प्रदेश की कमलनाथ सरकार संकट में घिरी हुई है। प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने सीएम कमलनाथ से कहा है कि वो 16 मार्च यानी सोमवार को विधानसभा में अपना बहुमत साबित करें। हालांकि विधानसभा की जारी कार्यसूची में सोमवार को फ्लोर टेस्ट का जिक्र नहीं है इसलिए यह टेस्ट आज होगा या नहीं, इसे लेकर सस्पेंस की स्थिति बनी हुई है, हालांकि आधी रात में मुख्यमंत्री कमलनाथ ने राज्यपाल से मुलाकात भी की थी।

    Madhya Pradesh crisis: आज बच गई कुर्सी, Tuesday को बचेगी Kamal Nath सरकार |वनइंडिया हिंदी
    'बंधक बनाए गए विधायकों को पहले छोड़ा जाए'

    'बंधक बनाए गए विधायकों को पहले छोड़ा जाए'

    इस मुलाकात के बाद मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि फ्लोर टेस्ट पर स्पीकर फैसला लेंगे, वो पहले ही राज्यपाल को लिखित सूचना दे चुके हैं कि उनकी सरकार फ्लोर टेस्ट के लिए तैयार है, लेकिन बंधक बनाए गए विधायकों को पहले छोड़ा जाए।

    यह पढ़ें: COVID19: कोरोना के खौफ के बीच WHO के डायरेक्टर ने प्रियंका-दीपिका से की ये अपील

    'बागी विधायकों को बेंगलुरु में सम्मोहित किया जा रहा है'

    'बागी विधायकों को बेंगलुरु में सम्मोहित किया जा रहा है'

    तो वहीं सीएम के इस बयान के बाद मध्य प्रदेश के मंत्री पीसी शर्मा ने कहा है कि कांग्रेस के बागी विधायक जो बेंगलुरु में हैं, उनको सम्मोहित और प्रताड़ित किया जा रहा है। कुछ लोग उन्हें राज्य में आने नहीं दे रहे हैं, उनके परिवारों को परेशान किया जा रहा है।

    बीजेपी ने बंधक बनाए विधायक: कांग्रेस

    ये सबकुछ बीजेपी की ओर से किया जा रहा है, उन्होंने कहा कि बीजेपी ने कांग्रेस के विधायकों को बंधक बनाकर रखा है और एमपी में कमलनाथ की सरकार को अस्थिर करना चाहती है, इन विधायकों को छोड़े बगैर विधानसभा में फ्लोर टेस्ट नहीं कराया जा सकता है, मालूम हो कि कमलनाथ ने फ्लोर टेस्ट से पहले सभी विधायकों का कोरोना वायरस टेस्ट कराने की भी मांग की है।

    22 कांग्रेस विधायकों के इस्तीफे

    22 कांग्रेस विधायकों के इस्तीफे

    दरअसल होली के दिन राज्य के कद्दावर कांग्रेसी नेता रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया, जिसके बाद उनके 22 समर्थकों ने भी कांग्रेस पार्टी से त्यागपत्र दे दिया, जिसकी वजह से कमलनाथ सरकार खतरे में आ गई है, सिंधिया के समर्थक 22 कांग्रेस विधायक अचानक भोपाल से कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु चले गए हैं, इन 22 विधायकों में से 6 कमलनाथ सरकार में मंत्री भी थे, हालांकि स्पीकर ने 6 मंत्रियों का इस्तीफा तो स्वीकार कर लिया है, लेकिन 16 विधायकों का इस्तीफा अभी उन्होंने स्वीकार नहीं किया है। जिसके लिए कांग्रेस लगातार बीजेपी पर आरोप लगा रही है कि उसने उसके विधायकों को बंधक बना लिया है।

    यह पढ़ें: दिशा पटानी को ड्राइवर ने ऑफर किया सैनिटाइजर लेकिन अभिनेत्री ने कर दिया मना, वीडियो हुआ Viral

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Madhya Pradesh Minister PC Sharma: They (rebel Congress MLAs who are kept in Bengaluru) are being hypnotized & terrorized and are not allowed by (some people) to come to the state, their families are being harassed.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X