• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

पेटीएम के फाउंडर ने 59 चीनी ऐप पर बैन का किया समर्थन, लोगों ने जमकर किया ट्रोल

|

नई दिल्ली। चीन के 59 ऐप पर प्रतिबंध के बाद लोग सरकार के इस फैसले का समर्थन कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर लोग इस प्रतिबंध का समर्थन करते हुए अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। टिकटॉक ऐप पर प्रतिबंध का पेटीएम के फाउंडर विजय शेखर शर्मा ने भी समर्थन करते हुए सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। लेकिन अहम बात ये है कि विजय शेखर की इस प्रतिक्रिया के बाद लोगों ने सोशल मीडिया पर उनको ट्रोल करना शुरू कर दिया और उनकी कंपनी में चीनी कंपनी की हिस्सेदारी को लेकर सवाल खड़ा किया।

चीन के ‘जीन’ में है विस्तारवाद , उसकी जमीन हड़पो नीति से भारत समेत दुनिया के 23 देश परेशान

इसे भी पढ़ें- टिकटॉक स्टार जन्नत जुबैर ने बैन का किया समर्थन, बोलीं-मुझे पहले से ही अंदाजा था

    59 Chinese Apps Ban: 10 Points में समझें India में क्यों बैन हुए ऐप, क्या होगा असर | वनइंडिया हिंदी
    लोगों ने किया ट्रोल

    लोगों ने किया ट्रोल

    विजय शेखर शर्मा ने ट्वीट करके लिखा, राष्ट्रहित में बड़ा फैसला, आत्मनिर्भर भारत की ओर एक और बड़ा कदम। समय है कि देश के अच्छे उद्यमी आगे आएं और भारतीयों के लिए सबसे अच्छे का निर्माण करें। ये है भारत की डिजिटल क्रांति, आत्मनिर्भर भारत। विजय के इस ट्वीट के बाद एक यूजर ने विजय का एक वीडियो साझा करते हुए लिखा, शर्मनाक क्या अब भी आप अपने आपको देशभक्त समझते हैं। साथ ही पेटीएम पर बैन की मांग की है। एक अन्य यूजर ने लिखा कि चीन ने पेटीएम, ओयो, ओला, जोमैट, स्विगी, बिग बास्केट में बड़ा निवेश किया है। क्या ये कंपनियां चीन का पैसा वापस करेंगी, देखते हैं।

    प्रतिबंध का भारत पर असर

    प्रतिबंध का भारत पर असर

    बता दें कि भारत में टिकटॉक के तकरीबन 10 करोड़ यूजर हैं। इसके हेलो, लाइकी, बीगो लाइव जैसे ऐप भी हैं, लेकिन अंग्रेजी में होने की वजह से भारत में लोग इसका कम इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में जो लोग इन ऐप्स का इस्तेमाल करते थे, वह अब दूसरे विकल्प की तलाश करेंगे। भारत में इन ऐप्स के प्रतिबंध होने का भारतीयों पर भी असर देखने को मिलेगा क्योंकि इन कंपनियों के कई ऑफिस भारत में थे और इनके कर्मचारी भारतीय थे।

    इन ऐप पर प्रतिबंध

    इन ऐप पर प्रतिबंध

    1.TikTok

    2. Shareit

    3. Kwai

    4. UC Browser

    5. Baidu map

    6. Shein

    7. Clash of Kings

    8. DU battery saver

    9. Helo

    10. Likee

    11. YouCam makeup

    12. Mi Community

    13. CM Browers

    14. Virus Cleaner

    15. APUS Browser

    16. ROMWE

    17. Club Factory

    18. Newsdog

    19. Beutry Plus

    20. WeChat

    21. UC News

    22. QQ Mail

    23. Weibo

    24. Xender

    25. QQ Music

    26. QQ Newsfeed

    27. Bigo Live

    28. SelfieCity

    29. Mail Master

    30. Parallel Space

    31. Mi Video Call - Xiaomi

    32. WeSync

    33. ES File Explorer

    34. Viva Video - QU Video Inc

    35. Meitu

    36. Vigo Video

    37. New Video Status

    38. DU Recorder

    39. Vault- Hide

    40. Cache Cleaner DU App studio

    41. DU Cleaner

    42. DU Browser

    43. Hago Play With New Friends

    44. Cam Scanner

    45. Clean Master - Cheetah Mobile

    46. Wonder Camera

    47. Photo Wonder

    48. QQ Player

    49. We Meet

    50. Sweet Selfie

    51. Baidu Translate

    52. Vmate

    53. QQ International

    54. QQ Security Center

    55. QQ Launcher

    56. U Video

    57. V fly Status Video

    58. Mobile Legends

    59. DU Privacy

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Paytm founder lauds ban on 59 chinese companies people trolls him for chinese funding.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more