• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Parliament Session: Lockdown ने रोके 29 लाख कोरोना केस, सरकार ने लिया साहसिक निर्णय: स्वास्थ्य मंत्री

|

नई दिल्ली। आज से मानसूत्र सत्र की शुरुआत हुई है, सदन के पहले दिन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कोरोना महामारी पर बयान दिया है, उन्होंने कहा कि देश में कोरोना के हालात अब पहले से सुधरे हैं, देश पीएम मोदी के नेतृत्व में कोरोना के खिलाफ सार्थक जंग लड़ रहा है। हर्षवर्धन ने कहा कि आज देश में पर्याप्त मात्रा में कोरोना किट, दवाईयां और अन्य सुविधाएं उपलब्ध हैं, देश में एक्टिव केस से ज्यादा संख्या में लोग ठीक होकर अपने घर लौट गए हैं, कोरोना के खिलाफ पूरा देश एक जुट है और हमें पूरा भरोसा है कि हम ये जंग सफलता पूर्वक जीतेंगे।

कोरोना वैक्सीन: ऑक्सफोर्ड ही नहीं, ये 6 वैक्सीन भी पहुंच चुकी हैं थर्ड फेज के ट्रायल में

PM मोदी के नेतृत्व में कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है देश

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि आज देश में अधिकतम मामले और मौतें मुख्य रूप से महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, यूपी, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, बिहार, तेलंगाना, ओडिशा, असम, केरल और गुजरात में हुई हैं, लेकिन हमारे प्रयासों से देश में कोरोना पर रोकथाम लगी है, प्रति 10 लाख भारत में 3,328 केस हैं और 55 मौतें हुई हैं, दुनिया के अन्य देशों की तुलना में भारत में ये कम है, लोग जागरूक भी हैं और चीजों का ध्यान रखा जा रहा है।

    Coronavirus Vaccine: Dr Harsh Vardhan बोले- जरूरत पड़ी तो मैं खुद करूंगा ये काम | वनइंडिया हिंदी

    PM मोदी के नेतृत्व में कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है देश

    चीन के ‘जीन’ में है विस्तारवाद , उसकी जमीन हड़पो नीति से भारत समेत दुनिया के 23 देश परेशान

    यही नहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि देशभर में आज कोरोना वायरस के कारण जो स्थिति है वो और भी भयानक हो सकती थी अगर लॉकडाउन न लगाया जाता, डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि पूरे देशभर में लॉकडाउन लगाना सरकार का साहसिक निर्णय था। यह अनुमान लगाया गया है कि इस फैसले से 14 से 29 लाख कोरोना के मामले और 37,000 से 78,000 मौतों को रोका गया।

    इस बार के सत्र में कई बदलाव

    आपको बता दें कि कोरोना महामारी के कारण इस बार के सत्र में कई बदलाव किए गए हैं, लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही इस बार अलग-अलग चलाने का फैसला लिया गया है तो वहीं, इस बार प्रश्नकाल भी नहीं होगा, मालूम हो कि सत्र की शुरुआत से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मीडिया को संबोधित किया, उन्होंने कहा कि एक विशिष्ट वातावरण में संसद का सत्र शुरू हो रहा है, एक तरफ कोरोना है और दूसरी तरफ कर्तव्य। सांसदों ने कर्तव्य का पथ चुना है। मैं उन्हें धन्यवाद देता हूं। इस बार लोकसभा और राज्यसभा अलग-अलग समय पर चलेगी। इस बार शनिवार और रविवार को भी सदन चलेगा। सभी सांसद इस पर सहमत हैं।

    12 अगस्‍त को रूस से आ रही है पहली कोरोना वायरस वैक्‍सीन, जानिए इसके बारे में सबकुछ

    'Attendance Register' एप

    गौरतलब है कि यह सत्र एक अक्टूबर तक चलेगा, संसद के हर सदन में प्रतिदिन चार घंटे के सत्र होंगे, राज्य सभा का सत्र सुबह 9 बजे से दोपहर 1 बजे तक और लोकसभा का सत्र दोपहर 3 तीन बजे से शाम 7 बजे तक चलेगा। आज संसद में आने के बाद सांसदों ने अपनी उपस्थिति 'Attendance Register' एप के जरिए लगाई है।

    यह पढ़ें: प्रश्नकाल पर संसद में हंगामा,रंजन बोले- ये लोकतंत्र का गला घोटने की कोशिश लेकिन राजनाथ सिंह ने दिया ये जवाब

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Parliament Session: India has successfully prevented the aggressive progress of COVID-19 says Health minister Dr Harsh Vardhan in Lok Sabha.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X