Report: भारत के खिलाफ केमिकल हमले की तैयारी कर रहा पाकिस्‍तान, चीन देगा पाक सेना को ट्रेनिंग

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। पाकिस्तान, भारत के खिलाफ गहरी साजिश रच रहा है। इस बार तो उसने जैविक  युद्ध यानी केमिकल हमले की तैयारी कर रहा है। इस महीने इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) के डायरेक्टर-जनरल लेफ्टिनेंट जनरल नावीद मुख्तार ने आतंकवादियों के साथ बैठक की। इस बैठक में उनका एजेंडा जैविक युद्ध था। कश्मीर में चल रही समस्याओं में पाकिस्तानी सैन्य खुफिया एजेंसी आईएसआई, की भागीदारी अच्छी तरह से सबको पता है। जम्मू-कश्मीर में सीमा पार से भेजने से पहले आतंकवादियों को प्रशिक्षण, धन और धन बहाल करने के लिए दशकों तक समस्या खड़ी करने में ISI की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। अब, आतंकवादियों के साथ आईएसआई की भागीदारी और पाकिस्तानी सेना सहायता प्राप्त आतंकवादियों द्वारा जैविक हमलों का अधिक खतरा होने के सबूत मिल रहे हैं।

 9 अक्टूबर हुई बैठक

9 अक्टूबर हुई बैठक

अंग्रेजी समाचार चैनल टाइम्स नाऊ के अनुसार नवीनतम खुफिया रिपोर्टों का कहना है कि 9 अक्टूबर को पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर के चाकोती, जिला बाग में, लेफ्टिनेंट जनरल नावीद ने हिजब-उल-मुजाहिदीन और जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादियों के साथ एक बैठक में भाग लिया। बैठक में दो प्रमुख आतंकवादी नेता, हिज बुल का जुद्दा खान और जैश का जावेद अख्तर शामिल था।

कश्मीर में मौजूद हों आतंकी

कश्मीर में मौजूद हों आतंकी

बैठक में लेफ्टिनेंट जनरल नावीद ने दो प्रमुख बिंदु बनाये। वो चाहते थे कि आतंकवादियों को अच्छी तरह से फंड दिया जाए और जम्मू और कश्मीर में सर्दियों की शुरुआत से पहले भी और अधिक दिक्कत पैदा की जा सके। इसका कारण यह है कि सर्दियों के महीनों में करीब है और आईएसआई यह सुनिश्चित करना चाहता है कि इससे पहले राज्य में पर्याप्त आतंकी मौजूद हों।

आतंकियों को मिल फंड

आतंकियों को मिल फंड

रिपोर्ट में कहा गया है, 'आईएसआई प्रमुख ने पाकिस्तानी सेना और आईएसआई अधिकारियों से ऊपर आतंकवादियों की गतिविधियों को फंड देने की जिम्मेदारी सौंपी है और सर्दियों के साथ बर्फबारी की शुरुआत से पहले आतंकवादियों को भारत में घुसपैठ करने का काम सौंपा है। साथ ही सभी निष्क्रिय लॉन्च पैड्स को सक्रिय करने का जिम्मा सौंपा है।'

दूसरा पहलू और भी ज्यादा चिंताजनक

दूसरा पहलू और भी ज्यादा चिंताजनक

दूसरा पहलू और भी ज्यादा चिंताजनक है, दीर्घकाल में भारत के लिए चिंता का विषय है। बैठक के दौरान, लाइन ऑफ कंट्रोल पर तैनात किए जाने वाले सैनिकों को जैविक युद्ध लड़ने के प्रशिक्षण की संभावना पर चर्चा हुई। इन सैनिकों को चीन प्रशिक्षित करेगा। ऐसा क्यों किया जाएगा रिपोर्ट में स्पष्ट रूप से नहीं बताया गया है, लेकिन यह खतरा है।

पाक सेना के 20 जवान जाएंगे चीन!

पाक सेना के 20 जवान जाएंगे चीन!

रिपोर्ट में कहा गया है, 'बीस आर्मी ऑफिसर्स (प्रमुख और कप्तान के रैंक के) पहले ही चीन में जैविक युद्ध प्रशिक्षण के लिए जा चुके हैं। प्रशिक्षण पूरा करने के बाद, उन्हें पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में भारत के खिलाफ कुटिल गतिविधियों के लिए तैनात किया जा सकता है।' 'नापाक' गतिविधियां क्या हो सकती है, यह अब तक स्पष्ट नहीं है लेकिन भारत के लिए खतरा जरूर है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Pakistan's ISI chief meets terrorists, discusses biological warfare
Please Wait while comments are loading...