• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

लोकतंत्र में समाज के आखिरी पायदान पर खड़े व्यक्ति की सेवा ही राजनीति है: नितिन गडकरी

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 25 सितंबर। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी खुलकर अपनी राय रखने वाले नेता के तौर पर जाने जाते हैं। राजस्थान में एक कार्यक्रम के दौरान नितिन गडकरी ने कहा कि जो मुख्यमंत्री बनते हैं वह इसलिए परेशान रहते हैं कि उनकी कुर्सी कब चली जाए। उन्होंने कहा कि हर कोई दुखी है, विधायक इसलिए दुखी है कि उसे मंत्री पद नहीं मिला, मंत्री इसलिए दुखी है कि उसे अच्छा मंत्रालय नहीं मिला। जिन्हें अच्छा विभाग मिला वह इसलिए दुखी है कि उसे मुख्यमंत्री पद नहीं मिला। जबकि मुख्यमंत्री इसलिए दुखी है कि उसे इस बात का डर है कब रहेंगे और कब जाएंगे।

    Nitin Gadkari ने ली चुटकी, बोले- Minister से CM तक सब दुखी... | वनइंडिया हिंदी
    nitin

    नितिन गडकरी का यह बयान इसलिए भी अहम है क्योंकि पिछले कुछ समय में भाजपा शासित कई राज्यों के मुख्यमंत्री बदले जा चुके हैं। पहले उत्तराखंड मं त्रिवेंद्रसिंह रावत की जगह तीरथ सिंह रावत और फिर उनकी जगह पुष्कर सिंह धामी को सीएम बनाया गया। वहीं गुजरात में विजय रुपाणी की जगह भूपेंद्र पटेल को सीएम की कुर्सी दी गई है। असम में भी सर्वानंद सोनोवाल की जगह हिमंत बिस्वा सरमा को मुख्यमंत्री बनाया गया है।

    राजस्थान विधानसभा में आयोजित सेमिनार में बोलते हुए नितिन गडकरी ने कहा कि मुझे लगता है कि हमे राजनीति का अर्थ क्या है उसपर विचार करने की जरूरत है। राजनीति सामाजिक आर्थिक परिवर्तन का प्रभावी उपक्रम है। लोकतंत्र के माध्यम से समाज में जो सबसे आखिरी पयादन पर जो व्यक्ति खड़ा है उसके जीवन को बदलना ही लोकतंत्र का मकसद है। मैं ये मानता हूं कि राजनीति में राजनीति तो होगी ही। राजनीति का अर्थ है समाज सेवा, लेकिन आजकल दुर्भाग्य से राजनीति का अर्थ हम सत्ताकरण समझते हैं। हम राजनीति में इसलिए नहीं आए हैं कि मंत्री बनें, पुलिसवाले सैल्यूट करें। हम इसलिए राजनीति में आए हैं ताकि देश के भाग्य को बदलना चाहते हैं, देश की गरीबी, भुखमरी, बेरोजगारी से जनता को मुक्ति देना चाहते हैं। हर क्षेत्र में हम समाज के कल्याण के लिए परिवर्तन करना चाहते हैं।

    इसे भी पढ़ें- नीति आयोग के सदस्य ने दिया कोरोना से सुरक्षा का मंत्र, बोले-अगले साल भी मास्क से नहीं मिलेगा छुटकाराइसे भी पढ़ें- नीति आयोग के सदस्य ने दिया कोरोना से सुरक्षा का मंत्र, बोले-अगले साल भी मास्क से नहीं मिलेगा छुटकारा

    जो भी विचारधारा है हमे उसके साथ खड़े रहना चाहिए, उसके साथ हमे इमानदार होना चाहिए फिर नतीजा जो भी हो। गडकरी ने कहा कि जो भविष्य की चिंता करता है वह दुखी रहता है। हमे जो मिला उसके लिए खुश रहना चाहिए। जिंदगी में बहुत संघर्ष है। हम इन समस्याओं को मात देकर ही यशस्वी बनते हैं। लोकतंत्र को संपन्न बनाना ही हमारा निश्चय है। गडकरी ने कहा कि अगर गरीबों के लिए कानून तोड़ना पड़े तो मैं कानून तोड़ूंगा। हमारे जीवन का मकसद गरीब का कल्याण करना है।

    English summary
    Nitin Gadkari says MLA, minister, CM no one is happy.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X