• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Rezang La War: जब चुशुल में हुए युद्ध में 124 भारतीय जवानों ने दी 1300 चीनी सैनिकों को मात

|

नई दिल्‍ली। एक बार फिर से पूर्वी लद्दाख में चीन बॉर्डर भारत और चीन की सेनाओं के बीच झड़प हुई है। चीन ने भारतीय जवानों पर गैर-कानूनी तरीके से लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (एलएसी) पार करने का आरोप लगाया है। सात सितंबर को चीन की पीपुल्‍स लिब्रेशन आर्मी (पीएलए) ने चुशुल के तहत आने वाले रेजांग ला में घुसपैठ की कोशिशें की। 29 से 30 अगस्‍त की रात को रेजांग ला-रेचिन ला पर कब्‍जा कर लिया था। सन् 1962 के बाद से एक बार फिर रेजांग ला खबरों में आ गया है। जो लोग भारत और चीन के इतिहास को जानते हैं वो रेजांग ला के युद्ध से भी वाकिफ हैं।

यह भी पढ़ें-बस 400 मीटर की दूरी पर आमने-सामने सेनाएं

16,000 फीट पर हुआ युद्ध

16,000 फीट पर हुआ युद्ध

चुशुल के तहत आने वाला रेजांग ला भारतीय सेना के लिए बहुत ही रणनीतिक जगह है। यह जगह पहली बार सन् 1962 की जंग सबकी नजरों में उस समय आई थी जब मेजर शैतान सिंह की 13 कुमाऊं ने चीन के 1300 जवानों को धाराशायी कर दिया था। सन् 1962 को जब चीन ने हमला किया तो इस जगह पर हुई लड़ाई को रेजांग ला के युद्ध के नाम से जाना गया। आज भी रेजांग ला की लड़ाई इतिहास में एक अलग जगह रखती है। 62 की जंग में इस जगह पर अगर सेना जीत नहीं हासिल करती तो फिर शायद पूरे लद्दाख पर चीन का कब्‍जा होता है। रेजांग ला, लद्दाख में दाखिल होने वाले दक्षिण-पूर्व के रास्‍ते पर पड़ने वाला दर्रा यानी पास है। यह 2.7 किलोमीटर लंबा और 1.8 किलोमीटर चौड़ा है। इसकी ऊंचाई करीब 16,000 फीट है। 62 की जंग के समय रेजांग ला पास में 13 कुमाऊं बटालियन की एक टीम को मेजर शैतान सिंह लीड कर रहे थे।

    India China Firing : LAC पर 45 साल बाद चलीं गोलियां? जानें क्‍यों बौखलाया चीन | वनइंडिया हिंदी
    सामने थे चीन के हजारों सैनिक

    सामने थे चीन के हजारों सैनिक

    18 नवंबर 1962 को तड़के रेजांगला पास में खून जमा देने वाली सर्दी थी। इस बीच अचानक बर्फ से ढंकी पहाड़ी से चीन ने फायरिंग शुरू कर दी। जो जगह एकदम शांत थी, तब वहां गोलीबारी हो रही थी। पीपुल्‍स लिब्रेशन ऑफ आर्मी यानी पीएलए के पांच से 6,000 सैनिक हथियारों और तोप के साथ लद्दाख के रेजांग ला में दाखिल हो गए थे। 13 कुमाऊं की एक टुकड़ी चुशूल वैली की रक्षा में तैनात थी और मेजर शैतान सिंह के पास बस 130 जवान थे। इन जवानों ने चीन के हजारों जवानों को देखकर भी हौंसला नहीं खोया और पूरी क्षमता के साथ चीनी दुश्‍मनों का सामना किया। मेजर शैतान सिंह पर गोलियों की बौछार होती रही मगर वह अपनी टीम की हौसला अफजाई करते रहे। मेजर शैतान सिंह की टीम को चार्ली कंपनी कहा गया था।

    यहीं पर मिला मेजर शैतान सिंह का शव

    यहीं पर मिला मेजर शैतान सिंह का शव

    चीन की सेना के पास तोप और भारी गोला-बारूद था और भारत के सामने पहाड़ एक ऊंची चोटी जिस पर बर्फ जमी थी दीवार की तरह खड़ी थी। इस ऊंची चोटी की वजह से मेजर शैतान सिंह को मदद नहीं भेजी जा सकती थी। मेजर शैतान सिंह ने अपने 120 जवानों में दम भरा और चीन का सामना करने के लिए कहा। तीन दिनों तक लड़ाई होती रही और इसी जगह पर बाद में मेजर शैतान सिंह का शव मिला था। इसी जगह पर उनके नाम पर अब एक स्‍मारक है। 120 में से 114 सैनिक शहीद हो गए थे। भारतीय सैनिकों के पराक्रम के आगे चीनी सेना को हथियार डालना पड़ा। चीन के 1300 सैनिक मारे गए थे।

    21 नवंबर को चीन ने डाले थे हथियार

    21 नवंबर को चीन ने डाले थे हथियार

    आखिर में चीन ने 21 नवंबर को यहां पर सीजफायर का ऐलान कर दिया था। मेजर शैतान सिंह को भारत सरकार की तरफ से सन् 1963 में परमवीर चक्र से सम्‍मानित किया गया था। आज दुनिया रेजांग ला पास को अहीर धाम के नाम से भी जानते हैं। दरअसल 13 कुमाऊं के 120 जवान दक्षिण हरियाणा के उस क्षेत्र से आते थे जिसे अहीरवाल के तौर पर जानते हैं। सभी 120 जवान गुड़गांव, रेवाड़ी, नरनौल और महेंद्रगढ़ जिलों से आते थे। मेजर शैतान सिंह रेवाड़ी के रहने वाले थे। रेजांग ला युद्ध में शहीद सैनिकों की याद में रेवाड़ी और गुड़गांव में याद में स्मारक बनाए गए हैं। रेवाड़ी में हर साल रेजांगला शौर्य दिवस धूमधाम से मनाया जाता है और वीर सैनिकों को श्रद्धांजलि दी जाती है।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Know all about Rezang La and the war between India and China in 1962.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X