• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

फिर सुर्खियों में आलिया की मम्मी सोनी राजदान, Twitter पर लिखा-मुझे आगे आशा की कोई किरण नजर नहीं आती

|

नई दिल्ली। एक बार फिर अभिनेत्री आलिया भट्ट की मम्मी सोनी राजदान सुर्खियों में है, वजह है उनका एक ट्वीट, जिसमें उन्होंने राजनीति करने वालों पर निशाना साधा है, अपने ट्वीट में 80-90 के दशक की अभिनेत्री ने लिखा है कि इस देश की विडंबना ये नहीं कि यहां संसाधन नहीं है बल्कि यह है कि हम लोग खुद पर काबू नहीं कर सकते और राजनीति के बिना, काम बस काम करने के लिए नीचे ही गिरते जा रहे हैं, अगर हमने अभी कुछ नहीं सीखा तो मुझे आगे आशा की कोई किरण नजर नहीं आती है, इसके अलावा एक्ट्रेस सोनी राजदान ने अपने ट्वीट में ओडिशा और कोलकाता मे आए चक्रवात अम्फान का भी जिक्र किया है, जिसमें उन्होंने लिखा है कि कोलकाता और ओडिशा के लिए दुआएं, मैंने सुना है कि यह बहुत ही खतरनाक था।

सोनी राजदान का Tweet हुआ वायरल

सोनी राजदान का Tweet हुआ वायरल

आपको बता दें कि ये कोई पहला मौका नहीं है जब सोनी राजदान ने इस तरह का ट्वीट किया है, इससे पहले भी वो कई बार अपने ट्वीट की वजह से आलोचनाओं के केंद्र में रही हैं, हाल ही में महेश भट्ट की पत्नी सोनी राजदान ने संसद हमले के दोषी अफजल गुरु की फांसी पर सवाल उठाए थे, जिसके लिए उनकी कड़ी आलोचना भी हुई थी।

यह पढ़ें: बगावती अदिति सिंह के पिता की हसरत नहीं हो पाई थी पूरी, विधायक अंगद के साथ नहीं देख पाए थे बेटी के सात फेरे

सोनी राजदान ने अफजल गुरु को लेकर कही थी बात

सोनी राजदान ने ट्विटर पर डीएसपी दविंद्र सिंह और अफजल गुरु से जुड़ी एक खबर शेयर करते हुए इस मामले पर अपने विचार व्यक्त किए। अफजल गुरु को साल 2013 में फांसी की सजा दी गई थी, लेकिन उसकी चिट्ठी में दविंदर सिंह के नाम की भी चर्चा थी, अपने ट्वीट में राजदान ने लिखा था कि ये न्याय का मजाक है। अगर बाद में ये पता चलता है कि वो निर्दोष है तो कौन उस मरे हुए आदमी को वापस लेकर आएगा और इसलिए इस मामले में भी जांच होनी चाहिए ताकि ये पता चल सके कि अफजल गुरु को बलि का बकरा क्यों बनाया गया।

सोनी राजदान की हुई थी आलोचना

सोनी राजदान की हुई थी आलोचना

आपको बता दें कि दविंदर सिंह को जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर हिजबुल मुजाहिदीन के तीन आतंकवादियों के साथ एक कार में गिरफ्तार किया गया था, उसके बाद जम्मू कश्मीर के निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह को दिया गया 'शेर-ए-कश्मीर' का पदक छीन लिया गया था, साल 2001 में संसद पर हुए हमले के मास्टरमाइंड अफजल गुरु ने अपने वकील को लिखी चिट्ठी में लिखा था कि दविंदर ने उसे हिरासत में लेकर काफी यातनाएं दी थीं, दविंदर के कहने पर ही उसने मोहम्मद नाम के एक आदमी को दिल्ली पहुंचाया और वहां उसके रहने का इंतजाम भी कियाष बाद में पता चला था कि मोहम्मद भी संसद हमले में शामिल आतंकवादियों में से एक था।

पीएम मोदी की अपील पर कहा था-एक कौम के तौर पर साथ आएं

पीएम मोदी की अपील पर कहा था-एक कौम के तौर पर साथ आएं

यही नहीं जब पीएम मोदी ने कोरोना योद्दाओं के लिए घर में दीए, मोमबत्ती या टार्च जलाने की बात कही थी तो भी सोनी राजदान का ट्वीट सुर्खियों में आया था,जिसमें उन्होंने लिखा था कि कुछ लोग मोमबत्ती और दीया जलाने वाली बात पर पीएम नरेंद्र मोदी का मजाक उड़ाएंगे तो कई लोग इसे मास्टरस्ट्रोक कहना शुरू कर देंगे। मैं कहती हूं कि ये एक कौम के तौर पर साथ आने का बढ़िया तरीका है। वो भी ऐसे वक्त में जब हम अकेले और डरे हुए महसूस कर रहे हैं। वैसे भी इसमें गलत क्या हो सकता है? उन सभी के बारे में सोचिए, जो अकेले हैं।

यह पढ़ें: पहले भी बगावती तेवर दिखा चुकी हैं अदिति सिंह, इन बातों पर की है मोदी-योगी सरकार की तारीफ

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
the tragedy of this country is not that there are no resources. If we haven’t learned by now then I can’t see any hope on the horizon Said Soni Razdan.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X