• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

'कोवैक्सिन' को जल्दबाजी में नहीं दी गई मंजूरी..', हेल्थ मिनिस्ट्री ने जारी किया बयान

Covaxin, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मीडिया की उन खबरों को 'भ्रामक' और 'गलत' करार दिया है। जिनमें दावा किया गया है कि राजनीतिक दबाव के कारण कोविड-19 टीके कोवैक्सिन को नियामकीय मंजूरी जल्दबाजी में दी गई है। केंद्र सरकार ने गुरुवार को कहा कि कोविड टीके 'कोवैक्सिन' को राजनीतिक दबाव में मंजूरी नहीं दी गयी थी

Google Oneindia News

Covaxin, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मीडिया की उन खबरों को 'भ्रामक' और 'गलत' करार दिया है। जिनमें दावा किया गया है कि राजनीतिक दबाव के कारण कोविड-19 टीके कोवैक्सिन को नियामकीय मंजूरी जल्दबाजी में दी गई है। केंद्र सरकार ने गुरुवार को कहा कि कोविड टीके 'कोवैक्सिन' को राजनीतिक दबाव में मंजूरी नहीं दी गयी थी और आपातकालीन उपयोग के लिये निर्धारित नियमों का पालन किया गया था।

Health Ministry refuses Reports On Approval For covid 19 Covaxin Due To Political Pressure

कई रिपोर्ट्स में यह भी दावा किया गया है कि वैक्सीन के लिए किए गए क्लिनिक ट्रायल के तीन फेज में कई अनियमितताएं थीं। सामने आई इन खबरों पर सफाई देते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि कोरोना वैक्सीनके रूप में कोवैक्सीन को लाइसेंस देने के लिए साइंटिफिक अप्रोच और निर्धारित मानदंडों का पालन किया गया है। सरकार ने कहा है कि मीडिया की ये रिपोर्टें सरासर भ्रामक, झूठी और गलत सूचनाओं पर आधारित हैं।

मंत्रालय ने कहा है कि केंद्र सरकार और राष्ट्रीय नियामक, केंद्रीय औषध मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) ने आपातकालीन उपयोग के लिये कोविड-19 की टीके को अधिकृत करने के संबंध में वैज्ञानिक तथ्यों तथा निर्धारित नियमों हुआ है।सीडीएससीओ की विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) की बैठक एक और दो जनवरी, 2021 को बुलाई गई थी।

बैठक में आवश्यक चर्चा के बाद भारत बायोटेक की कोविड-19 टीके की नियंत्रित आपातकालीन अनुमति के लिये प्रस्ताव के बारे में सिफारिशें की गई थीं। इसके क्लीनिकल परीक्षण में पर्याप्त सावधानी बरती गई। वहीं इस मामले पर भारत बायोटेक की ओर से भी बयान जारी किया है। भारत बायोटेक ने कहा कि कुछ चुनिंदा व्यक्तियों और ग्रुप ने कोवैक्सीन के खिलाफ कही गई बातों की हम निंदा करते हैं।

3 साल की बेटी के आइब्रो पर वैक्स करने लगी महिला, बच्ची को हुआ तेज दर्द और फिर... Video3 साल की बेटी के आइब्रो पर वैक्स करने लगी महिला, बच्ची को हुआ तेज दर्द और फिर... Video

टीका बनाने वाली कंपनी ने कहा कि, उनके पास वैक्सीन या वैक्सीन के पीछे के साइंस को लेकर कोई विशेषता नहीं है। हम सब जानते हैं कि उन्होंने कोरोना महामारी के दौरान गलत सूचना और फर्जी खबरों को फैलाने में मदद की है। कोवैक्सीन को लाइसेंस देने में किसी तरह का दबाव या बाहरी मदद नहीं ली गई है। जिन लोगों ने ये खबरें फैलाई हैं, वें ग्लोबल प्रोडक्ट डेवलपमेंट और लाइसेंस के प्रोसेस को समझने में असमर्थ हैं।

Comments
English summary
Health Ministry refuses Reports On Approval For covid 19 Covaxin Due To Political Pressure
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X