• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कौन है लक्ष्मी, जिसका रोल फिल्म 'छपाक' में कर रही हैं दीपिका पादुकोण

|
    जानिए लक्ष्मी अग्रवाल की सच्ची दर्दनाक कहानी, छपाक में दीपिका पादुकोण निभाएंगी किरदार | वनइंडिया

    नई दिल्ली। हिंदी सिनेमा की खूबसूरत अभिनेत्री दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) इन दिनों अपनी आने वाली फिल्म 'छपाक' (Chhapaak)को लेकर जबरदस्त चर्चा में हैं, यह फिल्म एसिड अटैक पीड़िता लक्ष्मी अग्रवाल (Laxmi Agarwal) की लाइफ पर आधारित है। फिल्म की शूटिंग शुरू हो गई है, फिल्म का पहला लुक भी सामने आ चुका है जो कि इस वक्त सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है।

    दीपिका पादुकोण ने फिल्म 'छपाक' का फर्स्ट लुक किया शेयर

    फिल्म का पहला लुक दीपिका ने खुद अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया था। अपनी फोटो को शेयर करते हुए दीपिका ने लिखा था कि 'एक ऐसा कैरेक्टर, जो हमेशा हमेशा मेरे साथ रहेगा.' उन्होंने यह भी जानकारी दी है कि फिल्म अगले साल 10 जनवरी को रिलीज होगी. इस फिल्म को मेघना गुलजार डायरेक्ट करेंगीं।

    दीपिका इस फिल्म की निर्माता भी हैं

    फिल्म में दीपिका के करेक्टर का नाम मालती है।फिल्म में दीपिका के को-स्टार विक्रांत मैसे हैं। दीपिका इस फिल्म को फॉक्स स्टार स्टूडियो के साथ मिलकर प्रोड्यूस भी कर रही हैं। यह शादी के बाद दीपिका की पहली फिल्म होगी।

    कौन हैं लक्ष्मी?

    कौन हैं लक्ष्मी?

    एसिड अटैक पीड़िता लक्ष्मी शक्ति की जीती-जागती मिसाल हैं, उनका चेहरा दरिंदों ने तेजाब से बिगाड़ तो दिया मगर उनके हौसलों का बाल त‍क बांका नहीं कर सके। आज लक्ष्मी देश में एसिड अटैक की शिकार लड़कियों के लिए प्रेरणा का स्रोत बन चुकी हैं।

    महज 15 साल में उजड़ गई दुनिया

    वनइंडिया

    यह भी पढ़ें: रामपुर में आजम की "पुरानी दुश्मन" को मैदान में उतार सकती है भाजपा

    'मैंने किया इंकार तो उसने फेंका तेजाब'

    'मैंने किया इंकार तो उसने फेंका तेजाब'

    लक्ष्‍मी ने बताया था कि 22 अप्रैल 2005 की सुबह लगभग 10 बजकर 45 पर वो दिल्‍ली के भीड़-भाड़ वाले इलाके खान मार्केट में एक बुक स्‍टोर पर जा रही थी कि तभी वो अधेड़ इंसान अपने छोटे भाई की गर्लफ्रेंड के साथ आया और उसे धक्‍का दे दिया। धक्‍का लगते ही वो सड़क पर गिर गईं और उस युवक ने उनके ऊपर तेजाब फेंक दिया। लक्ष्‍मी ने बताया कि भगवान का शुक्र रहा कि मैंने उसके हमले को भांपते हुए अपनी आंखों को तुरन्त हाथ से ढक दिया था जिसके कारण मेरी आंखे बच पाई और आज मै आप लोगों को देख और समझ पा रही हूं।

    'आईना देखकर डर जाती थी मैं'

    'आईना देखकर डर जाती थी मैं'

    लक्ष्‍मी ने बताया था कि अटैक के बाद वो 2 महीने से ज्‍यादा समय तक राम मनोहर लोहिया अस्‍पताल में भर्ती रहीं। अस्‍पताल से निकलने के बाद घर आकर जब उन्‍होंने शीशा देखा तो उन्‍हें एहसास हो गया कि उनकी जिंदगी अब उजड़ चुकी है, मुझे आईने से डर लगने लगा था।

    मर्दों से नफरत हो गई थी लेकिन फिर मुझे आलोक मिला...

    मर्दों से नफरत हो गई थी लेकिन फिर मुझे आलोक मिला...

    लक्ष्‍मी ने बताया कि वो लंबे समय तक पुरुषों से नफरत करती रहीं, वो प्रेम भरे गीत तो गाया करती थीं मगर उनके शब्द उनके लिए खोखले थे। उनका ये नजरिया तब तक रहा, जब तक वो आलोक दीक्षित से नहीं मिली थीं।

    आलोक दीक्षित कानपुरवासी हैं

    आलोक दीक्षित कानपुर के रहने वाले हैं और पत्रकार रह चुके हैं। उनकी मुलाकात लक्ष्मी से तेजाब हमलों को रोकने की एक मुहिम के दौरान हुई और फिर उन्हें एक दूसरे से प्यार हो गया। अब ये दोनों दिल्ली के पास एक इलाके में रहते हैं और अपने छोटे से दफ्तर से मिल कर तेजाब हमलों के खिलाफ मुहिम चला रहे हैं।

    यह भी पढ़ें: माथापच्ची के बाद भी JDS को नहीं मिला सही उम्मीदवार, कांग्रेस को लौटाई ये सीट

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Deepika Padukone’s first look as an acid attack survivor and activist in her next film Chhapaak is out.here is profile of Laxmi Agarwal.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X