• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

गोत्र विवाद: स्मृति को बचाने और राहुल गांधी पर हमला करने के चक्कर में केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन की लग गई क्लास, हुए ट्रोल

|

नई दिल्ली। राजस्थान विधानसभा चुनाव के दौरे के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपना गोत्र बताकर एक नई बहस को जन्म दे दिया है। बीजेपी ने राहुल के गोत्र पर सीधे-सीधे हमला बोलते हुए कहा कि राहुल गांधी कुछ भी कह लें लेकिन ये तो सच ही है कि वो स्वर्गीय फिरोज गांधी के पोते हैं और फिरोज गांधी कश्मीरी पंडित नहीं थे बल्कि वो एक पारसी थे , उन्होंने गोत्र के लिए अपनी दादी के नाम का इस्तेमाल क्यों किया, इस बात का क्या जवाब देंगे वो जनता को, आखिर वो साबित क्या करना चाहते हैं?

राहुल गांधी ने अपना गोत्र बताया 'दत्तात्रेय', मचा बवाल

आपको बता दें कि बीते सोमवार को राहुल गांधी ने पुष्कर स्थित ब्रह्मा मंदिर और सरोवर घाट पर पूजा की थी, पूजा करने के दौरान राहुल ने कहा कि उनका गोत्र दत्तात्रेय है और वह कश्मीर ब्राह्मण हैं, जिस पर सियासी बवाल छिड़ गया, राहुल के गोत्र को लेकर ट्विटर पर भी बहस छिड़ गई, कुछ ने राहुल गांधी के पक्ष में बोलते हुए बीजेपी की कड़ी आलोचना की तो कुछ लोग राहुल गांधी के विरोध में ट्वीट करने लगे।

यह भी पढें:हाथ में पूजा का फूल लेकर आखिर राहुल गांधी ने क्यों कहा कि 'मैं हूं कौल ब्राह्मण'?

स्मृति ईरानी ने भी बताया गोत्र-कहा कि मैंने पारसी से शादी की

लेकिन इसी बीच एक दिलचस्प घटना घटी क्योंकि ट्विटर पर ही किसी ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से भी उनके गोत्र के बारे में पूछा था और उनके सिंदूर लगाने की वजह पूछी थी, जिस पर स्मृति ने ट्विटर पर खुलासा किया था कि मेरा गोत्र कौशल है जैसाकि मेरे पिता का है, उनके पिता का है और उनके पिता का है....मेरे पति और बच्चे पारसी हैं, इसलिए उनका गोत्र नहीं है। मैं हिंदू धर्म में विश्वास करती हूं और इसलिए सिंदूर लगाती हूं, मेरा धर्म हिंदुस्तान है, मेरा कर्म हिंदुस्तान है, मेरी आस्था हिंदुस्तान है, मेरा विश्वास हिंदुस्तान है।

केंद्रीय पर्यावरण मंत्री हर्षवर्धन को उल्टी पड़ गई चाल

राहुल के गोत्र पर हमला करने वालों में केंद्रीय पर्यावरण मंत्री हर्षवर्धन भी थे जिन्होंने राहुल गांधी के लिए ट्वीट किया कि पंडित नेहरू का गोत्र दत्तात्रेय था क्योंकि वो ब्राह्मण थे, उनकी पुत्री इंदिरा गांधी जी अपने पिता के गोत्र को अपने बेटे में नहीं डाल सकती है, उनके पति पारसी थे और उनका गोत्र दत्तात्रेय नहीं था इसलिए राहुल गांधी आप अपनी सत्य प्रमाणिकता को दुनिया के सामने पेश करें।

यूजर्स के निशाने पर आए हर्षवर्धन

लेकिन इसके बाद राहुल तो नहीं हर्षवर्धन यूजर्स के निशाने पर आ गए क्योंकि स्मृति ईरानी ने भी पारसी से शादी की है लेकिन वो हिंदू धर्म को मानकर हिंदू बनी हुई हैं तो राहुल गांधी हिंदू कैसे नहीं हो सकते, लोगों ने हर्षवर्धन के खिलाफ ट्विटर पर बातें करनी शुरू कर दी। लोगों के निशाने और ईरानी के ट्वीट के बाद डॉ. हर्षवर्धन ने वापस एक ट्वीट करके अपनी बात को संशोधित करने की कोशिश की।

'लोगों ने लगा दी डॉ.हर्षवर्धन की क्लास

जिसमें उन्होंने पहले को स्मृति ईरानी का बचाव किया और उसके बाद लिखा कि यदि राहुल गांधी खुद को ब्राह्मण कहते हैं तो मुझे इसमें कोई दिक्कत नहीं, क्योंकि 'ब्रह्म जानाति ब्राह्मण:', जिसका अर्थ ये है कि ब्राह्मण बनने के लिए जरूरी नहीं कि वो ब्राह्मण मां-बाप से ही जन्म ले, लेकिन अगर आप झूठ की जड़ों के साथ बड़े हुए हैं, तो निश्चित है कि आप अपना विश्वास खो देते हैं। हालांकि हर्षवर्धन की ये बात यूजर्स के पल्ले पड़ी नहीं और वो उनक खिलाफ ट्विटर पर बयानबाजी करते रहे।

यह भी पढ़ें: Kartarpur Corridor: खालिस्तान समर्थक चावला के साथ दिखे सिद्धू, अकाली दल ने की बर्खास्तगी की मांग

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
India’s ‘Science and Technology’ minister Dr Harsh Vardhan faces ridicule after joining ‘gotra’ debate in defence of Smriti Irani.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X