• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अयोध्या फैसले पर दिग्विजय सिंह ने किया ट्वीट, 'क्या विध्वंस के दोषियों को सजा मिल पाएगी'

|
    Ayodhya verdict: Digvijay singh ने उठाया Babri masjid विध्वंस का मुद्दा। वनइंडिया हिंदी

    नई दिल्ली। अयोध्या विवाद पर शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने बाबरी मस्जिद विध्वंस का मामला उठाया है। उन्होंने ट्वीट कर पूछा है कि, विध्वंस के दोषियों को सजा कब मिलेगी। उन्होंने लिखा, सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद को गिराए जाने को भी गैरकानूनी बताया था लेकिन उसके दोषियों को अब तक सजा नहीं मिली है। बता दें, लंबे समय से चले आ रहे अयोध्या केस पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए विवादित जमीन को रामलला को देने का आदेश दिया है।

    फैसल पर शांति की अपील

    फैसल पर शांति की अपील

    राम मंदिर और बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद देश के कई दिग्गजों ने लोगों से शांति की अपील की थी। फैसले पर देशभर से प्रतिक्रियाएं आई और सभी ने सुप्रीम कोर्ट का सम्मान करते हुए फैसले को स्वीकर कर लिया है। वहीं सुन्नी वक्फ बोर्ड ने भी जजमेंट को स्वीकार करते हुए फैसले को चुनौती नहीं देने का ऐलान किया है। इसी बीच कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से बाबरी मस्जिद विध्वंस का मुद्दा उठाया है। उन्होंने 1992 में तोड़ी गई मस्जिद के आरोपियों के लिए सजा की मांग की है।

    दिग्विजय ने किया ये ट्वीट

    दिग्विजय ने किया ये ट्वीट

    अपने सोशल मीडिया अकाउंट से दिग्विजय ने ट्वीट कर बाबरी विध्वंस का मुद्दा उठाया है। उन्होंने लिखा कि, माननीय उच्चतम न्यायालय ने राम जन्म भूमि फैसले में बाबरी मस्जिद को तोड़ने के कृत्य को गैर कानूनी अपराध माना है। क्या दोषियों को सजा मिल पाएगी? देखते हैं। 29 साल हो गये। उन्होंने अपना दूसरे ट्वीट में लिखा, राम जन्म भूमि के निर्णय का सभी ने सम्मान किया हम आभारी हैं। कांग्रेस ने हमेशा से यही कहा था हर विवाद का हल संविधान द्वारा स्थापित कानून व नियमों के दायरे में ही खोजना चाहिये। विध्वंस और हिंसा का रास्ता किसी के हित में नहीं है।

    क्या हुआ था 1992 में ?

    क्या हुआ था 1992 में ?

    दिग्विजय सिंह के ट्वीट ने एक बार फिर उस मामले को हवा दी है जिसने शनिवार को आयोध्या पर आए फैसले को इतना संवेदनशील बना दिया था। दरअसल, अयोध्या के विवादित जमीन पर 6 दिसंबर 1992 को बड़ी संख्या में कारसेवकों ने बाबरी मस्जिद के ढांचे को गिरा दिया था। इस मामले में कई दिग्गज नेताओं पर आरोप लगे और उनके खिलाफ ट्रायल भी चलाया गया। इनमें बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी, कल्याण सिंह समेत अन्य 13 लोगों का नाम शामिल है। मामले सुप्रीम कोर्ट में ट्रायल चल रहा है। इस विध्वंस को सुप्रीम कोर्ट ने भी गैरकानूनी माना था, अभी इस मामले में फैसला आना बाकी है।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Digvijay Singh tweeted on Ayodhya verdict ask Will the perpetrators of demolition be punished
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X