• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

क्या राहुल-प्रियंका गांधी ने पीएम मोदी से मानी ‘हार’? वायरल वीडियो का सच

By Bbc Hindi
कांग्रेस
Getty Images
कांग्रेस

दक्षिणपंथी रुझान वाले फ़ेसबुक ग्रुप्स में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी की महासचिव प्रियंका गांधी का एक पुराना वीडियो कई बार शेयर किया गया है जिसके साथ दावा किया जा रहा है कि 'दोनों नेता पीएम नरेंद्र मोदी का लोहा मानते हैं और एक समय में उनकी तारीफ़ कर चुके हैं.'

कुछ ग्रुप्स में इस वायरल वीडियो के साथ ये दावा भी किया गया है कि 'प्रियंका गांधी और कांग्रेस पार्टी चुनाव से पहले ही हथियार डाल चुके हैं'. इसी दावे के साथ यह वीडियो व्हॉट्सऐप पर सर्कुलेट किया जा रहा है.

वायरल वीडियो के पहले भाग में प्रियंका गांधी को ये कहते हुए सुना जा सकता है, "मैं चाहती हूँ कि इस चुनाव में आप अपना वोटअपने देश को दें, सोनिया जी को मत दीजिए. अपने बच्चों के भविष्य को दीजिए, अपने देश को दीजिए."

जबकि वीडियो के दूसरे भाग में राहुल गांधी कहते हैं, "हिंदुस्तान के वासियों आपका भविष्य नरेंद्र मोदी जी के हाथ में है. सिर्फ़ मोदी जी के हाथ में, और किसी के हाथ में नहीं. अगर आप सुनहरा भविष्य चाहते हो तो अपना वर्तमान समय नरेंद्र मोदी को दो. अपना आज नरेंद्र मोदी को दो, नरेंद्र मोदी आपको अपना कल देगा."

ये वायरल वीडियो अब तक सैकड़ों बार सोशल मीडिया पर शेयर किया जा चुका है और व्हॉट्सऐप पर सर्कुलेट हो रहा है.

लेकिन अपनी पड़ताल में हमने पाया कि दोनों नेताओं के भाषण के साथ छेड़छाड़ की गई है और उनके भाषण का सिर्फ़ एक हिस्सा निकालकर, उसका संदर्भ बदलकर वीडियो को सोशल मीडिया पर शेयर किया गया है.

प्रियंका गांधी का भाषण

अपनी पड़ताल में हमने पाया कि प्रियंका गांधी के साल 2014 में दिए भाषण का एक हिस्सा वायरल वीडियो में इस्तेमाल किया गया है.

यू-ट्यूब पेज पर प्रियंका गांधी के क़रीब 6 मिनट लंबे भाषण का ये वीडियो 22 अप्रैल 2014 को पोस्ट किया गया था.

कांग्रेस के अनुसार साल 2014 के लोकसभा चुनाव में प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश के रायबरेली में पार्टी के प्रचार के लिए गई थीं.

प्रियंका गांधी
Getty Images
प्रियंका गांधी

रायबरेली में दिए भाषण में प्रियंका गांधी ने तात्कालिक भारतीय राजनीति, देश की पुरानी पहचान, इंदिरा गांधी के राजनैतिक स्टाइल और भारतीय समाज की उदारता की बात की थी.

अपने इस भाषण में प्रियंका गांधी ने कहा था, "मैं आपसे उम्मीद करती हूँ कि आप सोनिया जी का समर्थन करेंगे. मुझे इसमें कोई शक़ नहीं है. ये इसलिए नहीं है कि हमारा पुराना रिश्ता है. लेकिन मैं चाहती हूँ कि इस चुनाव में आप अपना वोट अपने देश को दें, सोनिया जी को मत दीजिए. अपने बच्चों के भविष्य को दीजिए, अपने देश को दीजिए. उन्हें वोट दें जो आपके बच्चों के लिए रोज़गार का बंदोबस्त करे, विकास करे. धर्म-जाति के आधार पर आपको लड़वाए नहीं."

11 फ़रवरी 2019 को लखनऊ में हुए रोड शो के साथ प्रियंका गांधी की भारतीय राजनीति में औपचारिक रूप से एंट्री हो चुकी है. उन्हें पार्टी ने पूर्वी उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार व रणनीति बनाने की ज़िम्मेदारी सौंपी है.

प्रियंका गांधी अपनी राजनीतिक पारी की घोषणा होने के बाद से ही चर्चा के केंद्र में हैं और दक्षिणपंथी विचार रखने वाले लोगों के निशाने पर भी.

फ़ेसबुक और ट्विटर पर उनके ख़िलाफ़ दुष्प्रचार की कोशिशें लगातार की जा रही हैं. हाल ही में उनका एक पुराना वीडियो शेयर किया गया था जिसके हवाले से लोग उनके शराब के नशे में धुत होने का दावा कर रहे थे.

वीडियो की पड़ताल में बीबीसी ने इस तरह के सभी दावों को झूठ पाया था.

राहुल का भाषण

अब बात राहुल गांधी के उस भाषण की जिसमें वो कथित तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ़ करते दिखाई पड़ रहे हैं.

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के भाषण का जो हिस्सा इस्तेमाल किया गया है, वो 12 जनवरी 2017 का है.

दिल्ली स्थित तालकटोरा स्टेडियम में कांग्रेस के 'जन वेदना सम्मेलन' के दौरान राहुल गांधी ने ये भाषण दिया था. इस सम्मेलन का नारा था- 'हाल-बेहाल, जन वेदना के ढाई साल'.

राहुल गांधी
Getty Images
राहुल गांधी

अपने इस भाषण में मुख्य रूप से राहुल गांधी ने कहा था:

  • बीजेपी की पॉलिसी है डरो और डराओ.
  • हर धर्म में कांग्रेस का चिह्न 'हाथ', जिसका संदेश है डरो मत.
  • मोदी का नोटबंदी का फ़ैसला अपरिपक्व था.
  • देश जानता है कि कांग्रेस ने 70 साल में क्या-क्या किया.
  • अच्छे दिन तभी वापस आएंगे, जब 2019 में कांग्रेस वापस आएगी.

इस सम्मेलन में राहुल गांधी ने अपने भाषण की शुरुआत 'मित्रों' कहकर की थी और पीएम मोदी की नकल उतारकर व्यंग्य और कटाक्ष के ज़रिए उन्हें निशाना बनाया था.

कई मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया था कि राहुल गांधी का 'अंदाज़' काफ़ी बदला हुआ था, जबकि कुछ रिपोर्ट्स में कहा गया था कि राहुल ने क़रीब 40 मिनट लंबे अपने भाषण में कई ग़लतियाँ कीं.

लेकिन उनके इस लंबे भाषण में से जो 25 सेकेंड का हिस्सा वायरल वीडियो में दिखता है, वो हिस्सा वह है जब राहुल गांधी पीएम मोदी पर कटाक्ष कर रहे थे.

राहुल गांधी ने कहा था, "बीजेपी वाले देश की हक़ीक़त से नफ़रत करते हैं. जबकि उसे हम प्यार करते हैं. ये जहाँ जाते हैं, कहते हैं नया देश बनाएंगे. क्या ये देश इतना ख़राब है? और कहते हैं नया देश एक ही आदमी बनाएगा. मतलब और किसी में हैसियत नहीं है. पूरा हिंदुस्तान बेवकूफ है. इसलिए एक आदमी बनाएगा."

गांधी
Getty Images
गांधी

इसके बाद राहुल गांधी ने बीजेपी के दावों का मज़ाक उड़ाते हुए कहा था, "ये कहते हैं कि हिंदुस्तान के वासियों आपका भविष्य नरेंद्र मोदी जी के हाथ में है. सिर्फ़ मोदी जी के हाथ में, और किसी के हाथ में नहीं. अगर आप सुनहरा भविष्य चाहते हो तो अपना वर्तमान समय नरेंद्र मोदी को दो. अपना आज नरेंद्र मोदी को दो, नरेंद्र मोदी आपको अपना कल देगा."

लेकिन राहुल गांधी के भाषण का बाद वाला हिस्सा ही सोशल मीडिया पर शेयर किया जा रहा है.

बहरहाल, फ़ेक न्यूज़ फ़ैलाने का काम और लोगों को ग़लत संदर्भ देने का काम इन दक्षिण पंथी रुझान वाले ग्रुप्स तक सीमित हो, ऐसा नहीं है.

अपनी पड़ताल में हमने पाया था कि कांग्रेस के नेताओं और उनके समर्थकों ने पुरानी तस्वीरों के दम पर प्रियंका गांधी और राहुल गांधी की लोकप्रियता को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाने की कोशिश की थी और तेलंगाना की राजनीतिक रैली को लखनऊ रोड शो का बताकर सोशल मीडिया पर शेयर किया था.

बीबीसी हिन्दी
BBC
बीबीसी हिन्दी

पढ़ें 'फ़ैक्ट चेक' की अन्य कहानियाँ:

lok-sabha-home
BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Did Rahul and Priyanka Gandhi accept PM Modis defeat True of viral video

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X