• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

ओडिशा: BJD ने 2 जनजातीय भाषाओं को आठवीं अनुसूची में शामिल करने की उठाई मांग

|
Google Oneindia News

भुवनेश्वर: पंचायत चुनावों के लिए सत्तारूढ़ बीजू जनता दल (BJD) ने एक बार फिर 'भाषा' के साथ अपना राजनीतिक कैंपेन शुरू कर दिया है। बीजद प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेगा, जो ओडिशा के दौरे पर हैं और संविधान की आठवीं अनुसूची में राज्य की कई भाषाओं को शामिल करने की औपचारिक रूप से मांग करेंगे। बीजेडी ने शनिवार को एक प्रेस वार्ता कर भाषाओं को शामिल करने की मांग दोहराई।

bjd

ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर में प्रेस वार्ता करते हुए बीजेडी विधायक सौम्या रंजन पटनायक, बसंती हेंब्रम और BJD के महासचिव श्रीरेमयी मिश्रा ने 'हो' और 'मुंडारी' को संविधान की आठवीं अनुसूची में दो भाषाओं को शामिल करने की मांग की। इस दौरान उन्होंने कहा कि 4.5 करोड़ उड़िया लोगों में से 1 करोड़ की मातृभाषा अलग है। वे कोसली, हो, मुंडारी और भूमिज बोलते हैं। इसलिए इन भाषाओं को संविधान के अनुच्छेद VIII में शामिल किया जाना चाहिए और भाषा को मान्यता दी जानी चाहिए।

प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए बीजेडी नेता ने कहा कि ब्रिटिश शासन के बाद से ओडिशा में भाषाओं की लड़ाई जारी है। सभी राजनीतिक दलों ने अपने-अपने चुनाव घोषणापत्रों में आदिवासी भाषाओं को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए केंद्र के समक्ष अपनी मांग उठाने का वादा किया था, लेकिन चुनाव के बाद उनके द्वारा कोई पहल नहीं की गई। हालांकि, बीजद ने संवैधानिक प्रक्रिया पूरी कर ली है और हम इस संबंध में राष्ट्रपति से मिलेंगे।

इस दौरान बसंती हेंब्रम ने कहा कि देश में 30 लाख और ओडिशा में 10 लाख लोग हो भाषा का उपयोग करते हैं। अगर संविधान में इसे दर्जा नहीं मिला तो आदिवासी भाषा विलुप्त हो जाएगी। 13 निकट विलुप्त जनजातियों के साथ, कुल 62 जनजातियां ओडिशा में रह रही हैं। वे लंबे समय से राज्य सरकार हो और मुंडारी भाषाओं को संविधान में शामिल करने की मांग कर रही हैं। इस संबंध में मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने केंद्र को दो बार पत्र लिखकर अपनी मांग रखी।

ओडिशा: नवीन पटनायक ने ओडिया भाषा को लोकप्रिय करने का किया आह्वानओडिशा: नवीन पटनायक ने ओडिया भाषा को लोकप्रिय करने का किया आह्वान

बीजेडी ने बताया कि ओडिशा और झारखंड में रहने वाले लगभग 10 लाख लोगों की मातृभाषा है। इसी तरह मुंडा और मुंडारी जनजातियों से संबंधित 6 लाख से अधिक लोग मुंडारी को बोलते हैं। कोशली भाषा के महत्व पर जोर देते हुए बीजेडी जनरल सेक्रटरी श्रीरेमयी मिश्रा ने इसे 'मीठी' बोली बताया और कहा कि लगभग 75 लाख लोग कोशली बोलते हैं। यहां तक कि रामायण और महाभारत जैसे महाकाव्यों को कोशली में भी लिखा गया है।

Comments
English summary
BJD demanded two tribal languages in eighth schedule of Constitution of India
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
Desktop Bottom Promotion