• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बिहार चुनाव: कांग्रेस के किसी अल्पसंख्यक को टिकट ना देने पर क्या बोले मुस्लिम वोटर

|

नई दिल्ली। बिहार विधानसभा चुनाव के लिए इस समय तैयारियां जोरों पर हैं। पहले चरण के लिए उम्मीदवारों के नामों का ऐलान हो चुका है। बिहार में कांग्रेस ने जो पहली सूची जारी की है, उसमें किसी मुसलमान को टिकट नहीं दिया गया है। बिहार में मुसलमानों की तादाद 16 फीसदी है और मुस्लिम वोटर कई सीटों पर निर्णायक भूमिका में हैं। ऐसे में किसी सबसे पुरानी और सबको साथ लेकर चलने की बात करने वाली कांग्रेस से अल्पसंख्यक को टिकट ना मिलने से बिहार का मुसलमान वोटर नाखुश है।

 मुसलमानों पर नहीं रहा विश्वास

मुसलमानों पर नहीं रहा विश्वास

एनएनआई ने इस बाबत मुसलमान वोटरों से बात की है। मुसलमानों का कहना है कि कांग्रेस का विश्नास अल्पसंख्यकों पर नहीं बचा है। ये टिकट बंटवारे में दिख गया है। बिहार के नागरिक शमीम हुसैन का कहना है कि मुसलमानों का एक हिस्सा लगातार कांग्रेस को वोट देता रहा है और पार्टी को पसंद भी करता है। अब ऐसा लगता है कि पार्टी ही मुसलमानों को लेकर सहज नहीं है।

हमें बंधुआ समझती है कांग्रेस

हमें बंधुआ समझती है कांग्रेस

पटना के आस मोहम्मद ने एएनआई से कहा कि कांग्रेस को लगता है मुसलमान उनके बंधुआ वोटर हैं। वो उनसे वोट तो लेंगे लेकिन हिस्सेदारी की बात आने पर किनारे कर देंगे। ऐसा नहीं होता है, अगर कांग्रेस मुसलमान का वोट चाहती है तो उसे समुदाय को विश्वास में भी लेना चाहिए और हिस्सेदारी भी देनी चाहिए। मुसलमानों को टिकट ना देने को लेकर पार्टी नेता प्रेमचंद मिश्रा ने कहा कि गठबंधन की बाध्यता के चलते हमारे पास सीटें कम हैं, इसके बावजूद हमें हर वर्ग का ध्यान है और आगे मुसलमानों को टिकट में प्राथमिकता दी जाएगी।

विपक्षी दलों ने साधा निशाना

विपक्षी दलों ने साधा निशाना

कांग्रेस की ओर से मुसलमानों को टिकट ना देने पर जदयू के अजय आलोक ने कहा कि कांग्रेस मुसलमान ही नहीं किसी भी वर्ग की नहीं है। उनकी पार्टी ही सबको साथ लेकर चलती है। सेक्युलेरिज्म की चैंपियन बनने वाली कांग्रेस ने एक भी टिकट मुसलमान को नहीं दिया है जबकि जदयू ने 10 फीसदी टिकट अल्पसंख्यकों को दिए हैं। उन्होंने कहा कि 16 फीसदी आबादी को नजरअंदाज करना कैसे सही ठहराया जा सकता है। राष्ट्रीय लोकसत्ता पार्टी प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने कहा है कि सारी पार्टियां झूठी हैं, उनकी पार्टी ही मुसलमानों को सम्मान देती है। बता दें कि बिहार की 243 विधानसभा सीटों पर तीन चरणों में चुनाव है। 28 अक्टूबर, 3 नवंबर, 7 नवंबर को वोट डाले जाएंगे। 10 नवंबर को नतीजे आएंगे।

ये भी पढ़ें- बिहार चुनाव के लिए भाजपा के स्टार प्रचारकों की लिस्ट से रूडी और शहनवाज हुसैन का नाम गायब, दी सफाई

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Bihar assembly elections 2020 No ticket to minorities by Congress signifies lack of trust say Muslim voters
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X