• search

नज़रिया: इतिहास में आख़िर क्या है राजपूती शान का सच?

By Bbc Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    राजपूत राजा
    Getty Images
    राजपूत राजा

    अभी एक साहित्यिक किरदार पद्मावती को लेकर सड़कों और टीवी चैनलों पर राजपूती शान की रक्षा की बात कही जा रही है.

    एक टीवी चैनल पर तो तलवार लहराते हुए एक व्यक्ति दिखा. सवाल उठता है कि क्या इतिहास में राजपूती शान जैसी कोई बात थी. अगर थी तो इसमें कितना मिथक है और कितनी हक़ीक़त है?

    मिथक यह है कि राजपूत कभी युद्ध नहीं हारते हैं. वो पीठ नहीं दिखाते हैं. या तो युद्ध जीतकर आते हैं या जान देकर. अगर इसे सच्चाई की कसौटी पर देखें तो कोई ऐसा राजपूत योद्धा नहीं दिखता है.

    1191 की तराइन के युद्ध में पृथ्वीराज चौहान ने मोहम्मद गोरी को हराया था. 1192 में फिर वहीं पर लड़ाई हुई और पृथ्वीराज चौहान को हार का सामना करना पड़ा था.

    उसके बाद तो राजपूतों के युद्ध मुग़लों के साथ, सुल्तानों के साथ, मराठों के साथ युद्ध होते रहे, लेकिन किसी में जीत नहीं मिली. यह ऐतिहासिक तथ्य है.

    राष्ट्रनायक कौन- अकबर या महाराणा प्रताप?

    पद्मावत: रान चबाता ख़िलजी और पति को पंखा झलती पद्मावती

    अकबर और महाराणा प्रताप
    Getty Images
    अकबर और महाराणा प्रताप

    इतिहास में धोखे के मिसाल भी

    राजपूत युद्ध जीतकर लौटते थे या वीरगति प्राप्त करते थे ये सच नहीं है. पृथ्वीराज चौहान जैसे महायोद्धा जिन्हें प्रतीक के तौर पर देखा जाता है, वो दूसरी लड़ाई हारे थे और उन्हें पकड़ा गया था.

    मतलब पृथ्वीराज चौहान को भी वीरगति प्राप्त नहीं हुई थी. महाराणा प्रताप को भी हल्दीघाटी में अकबर से हार का सामना करना पड़ा था और उन्हें भी 'चेतक' घोड़े पर सवार होकर भागना पड़ा था.

    औरंगज़ेब के जमाने में महाराजा जसवंत सिंह थे, उन्हें भी हार स्वीकार करनी पड़ी थी. तो यह पूरी तरह से मिथक है कि राजपूत या तो युद्ध जीतते हैं या वीरगति प्राप्त करते हैं.

    एक दूसरा मिथक यह है कि राजपूत जिसे वचन देते हैं उसे हर हाल में पूरा करते हैं और किसी को धोखा नहीं देते हैं. इसकी मिसाल भी हमें इतिहास में नहीं मिलती है.

    बल्कि इसके उलट एक मिसाल है. यह बड़ा ही दर्दनाक उदाहरण है. दाराशिकोह की पत्नी नादिरा ने 1659 के आसपास राजस्थान के राजा सरूप सिंह को अपने स्तन से पानी फेर दूध के तौर पर पिलाया था. नादिरा ने उन्हें बेटा माना था.

    कहा जाता है कि उसी नादिरा को सरूप सिंह ने धोखा दिया. नादिरा के बेटे सुलेमान शिकोह को सरूप सिंह ने औरंगज़ेब के कहने पर मारा था. तो ये भी नहीं कहा जा सकता कि राजपूत जो वचन देते हैं उसे निभाते ही हैं.

    मुस्लिम शासक विदेशी तो मौर्य शासक देसी कैसे थे?

    कहाँ से आई थीं पद्मावती?

    महाराणा प्रताप
    Getty Images
    महाराणा प्रताप

    राजपूतों का योगदान

    बाबर का कहना था कि राजपूत मरना जानते हैं पर जीतना नहीं जानते. इतिहास कभी मिथकों को सच साबित करने का कोशिश नहीं करता है और न ही मिथकों के आधार पर बात करता है. सच यह है कि इतिहास हमेशा मिथकों से हटकर बात करता है.

    मिथक तो गढ़े जाते हैं. उसे जनमानस में बैठाया जाता है. राजपूत चूंकि शासक वर्ग था इसलिए मिथक का बनना हमें चौंकाता नहीं है. आधुनिक भारत के निर्माण में भी राजपूतों की कोई ऐसी भूमिका नहीं रही है.

    जब प्रताप के सामने अकबर को चने चबाने पड़े

    पद्मावती के महल में राजपूतों ने की तोड़फोड़

    अकबर रोड
    Getty Images
    अकबर रोड

    अगर हम इतिहास में राजपूतों की किसी तरह की भूमिका का मूल्यांकन करें तो मुग़ल शासन को स्थायी बनाने और फैलाने में राजपूतों की बड़ी भूमिका रही है. अकबर के ज़माने से आख़िर तक राजपूतों ने मुग़लों के शासन को स्थिरता देने में अहम भूमिका अदा की.

    राजपूत मुग़ल शासन के अटूट हिस्सा बन चुके थे. अकबर से पहले तो राजपूत लड़ाइयां ही करते रहे. लगभग 300 सालों तक राजपूतों ने सुल्तानों से लड़ाइयां की हैं.

    अकबर ने नीति बनाई कि राजपूतों को मिलाकर चलो और इस नीति से उन्हें साम्राज्य के विस्तार और स्थिरता में फ़ायदा भी मिला. अकबर और औरंगज़ेब के शीर्ष कोटि के योद्धाओ में महाराजा जय सिंह और जसवंत सिंह शामिल थे.

    ये आख़िर तक उनके साथ रहे. औरंगज़ेब ने 1679 में फिर से जजिया कर लगा दिया था जिसे बहादुर शाह ज़फ़र ने आते ही ख़त्म कर दिया था. औरंगज़ेब के ज़माने में तो केरल को छोड़कर पूरे पर भारत पर मुगलों का शासन था और इसमें राजपूतों की भी भूमिका रही है. इस बात को मुग़ल भी स्वीकार करते हैं.

    महाराणा प्रताप
    Getty Images
    महाराणा प्रताप

    तब राजपूतों को मुग़लों के साथ को लेकर शर्मिंदगी नहीं थी

    राजपूतों का जो अपना साहित्य है उसमें वो बड़े गर्व के साथ मुग़लों से अपने संबंध को बताते हैं. उन्हें कोई शर्म नहीं है कि राजपूतों ने मुग़लों का साथ दिया. राजपूतों के साहित्य में तो यह बताया गया है कि देखिए हम कितने क़रीब हैं और बादशाहों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलते हैं.

    मोहता नैनसी महाराजा जसवंत सिंह के सहायक थे. मोहता नैनसी की दो किताबें हैं. एक मारवाड़ विगत दूसरी नैनसी दी ख्यात. इन किताबों में कहीं भी शर्म का अहसास नहीं है कि हमने ये क्या किया और मुग़लों का साथ क्यों दिया. इन किताबों में कोई खेद या अफ़सोस नहीं है.

    इस गर्व को शर्म में बदलना अंग्रेज़ ऑफिसर जेम्स टॉड ने शुरू किया. जेम्स टॉड ने ये धारणा बनाना शुरू की कि राजपूत मुग़लों के ग़ुलाम बन गए थे और अंग्रेज़ों ने इन्हें ग़ुलामी से मुक्त कराया.

    मतलब मुग़लों से संबंधों को लेकर शर्मिंदगी के भाव को स्थापित करने का काम अंग्रेज़ों ने शुरू किया था. यहां तक कि पद्मावती की इज़्ज़त बचाने के लिए जौहर जैसी बातों को फैलाना टॉड ने ही शुरू किया था.

    ये बातें बंगाल तक फैलाई गईं. पद्मावती के कथित जौहर की बात तो राजपूतों के साहित्य में भी नहीं थी.

    ताजमहल
    Getty Images
    ताजमहल

    आज़ादी की लड़ाई में कहां थे राजपूत

    अगर हम आज़ादी की लड़ाई की भी बात करें तो राजपूतों की कोई ऐसी भूमिका नहीं थी. बल्कि राजपूत राजाओं ने अंग्रेज़ों का ही साथ दिया था. जितने राजा थे उनमें से दो चार को छोड़ दिया जाए तो किसी ने अंग्रेज़ो के ख़िलाफ़ लड़ाई नहीं लड़ी.

    लक्ष्मीबाई भी तो आख़िर में अंग्रेज़ों के ख़िलाफ़ आईं. पहले तो लक्ष्मीबाई ने भी अंग्रेज़ों से समझौते करने की कोशिश की थी. बात नहीं बनी तो उन्होंने संघर्ष की राह चुनी. लक्ष्मीबाई शुरू से बाग़ी नहीं थीं.

    हमने रूपक तैयार किए हैं कि लक्ष्मीबाई ने बहादुरी दिखाते हुए देश के लिए अपनी जान तक को दांव पर लगा दिया. ये सब रूपक आज़ादी की लड़ाई के दौरान गढ़े गए थे. दरअसल सभी राजा अपने-अपने राज के लिए लड़ रहे थे. ज़ाहिर है उस वक़्त देश की कोई अवधारणा भी नहीं थी.

    हम जाति के आधार पर किसी को श्रेष्ठ या वीर नहीं कह सकते हैं. हम न तो राजपूतों को वीर कह सकते हैं और न ही ब्राह्मणों को विद्वान. सबका अपना निजी स्वार्थ होता है और उसी आधार शासक काम करता है. जातियों से जुड़ा मिथक हक़ीक़त से काफ़ी दूर होता है. और इन मिथकों के लिए इतिहास में कोई जगह नहीं होती है.

    नज़रिया: पद्मावती सच या कल्पना?

    मुग़ल शासक
    Getty Images
    मुग़ल शासक

    राजपूती ख़ून

    मेडिकल साइंस की दुनिया में अब डीएनए जैसी चीज़ सामने हैं. भारत में कोई शुद्र हो, ब्राह्मण हो या राजपूत, 98 फ़ीसदी के ख़ून एक जैसे हैं. एक दो फ़ीसदी लोगों के अलग हो सकते हैं. राजपूती ख़ून और शुद्धता की बात तो बिल्कुल बेमानी है.

    राजपूतों के मुग़लों से संबंध रहे हैं. दूसरी बात यह कि कोई एक जाति तो राजपूत बनी नहीं. कई जातियां राजपूत बनी थीं. राजपूत कई जातियों का समावेश हैं.मिक्स्चर ऑफ़ ब्लड और नस्ल तो शुरू से ही रहे हैं.

    ये प्रक्रिया तो अब भी चली आ रही है और हमें तो इस पर गर्व करना चाहिए. नस्ल की शुद्धता की बात तो हिटलर करता था. शुद्धता की अवधारणा तो अब ख़त्म हो चुकी है.

    राजपूतों की एक ख़ूबी हम इस रूप से रेखांकित कर सकते हैं उन्होंने वीरता की संस्कृति को स्थापित किया. राजपूतों ने मुग़लों की संस्कृति को प्रभावित किया.

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Attitude What is the truth of Rajputity glory in history

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X