• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सूत्रों ने किया खुलासा: RBI की अगली बोर्ड मीटिंग में सरकार खेलेगी पावर प्ले

|

नई दिल्‍ली। आगामी 14 दिसंबर को होने वाली आरबीआई बोर्ड की बैठक हंगामेदार होने वाली है। सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में सरकार कर्ज देने पर लगी पाबंदियों में थोड़ी ढील देने के साथ ही संचालन के नियमों की समीक्षा का दबाव बनाने वाली है। न्यूज18 के मुताबिक तीन सूत्रों ने बताया कि 19 नवंबर को हुई बोर्ड की मीटिंग में 18 सदस्यीय बोर्ड सरकारी उम्मीदवारों के साथ खड़ा है। एक सूत्र ने बताया कि सरकार की तरह ही कई बोर्ड मेंबर्स यह महसूस करते हैं कि आरबीआई को अपने फैसलों के लिए ज्यादा पारदर्शी और जवाबदेह होना चाहिए।

सूत्रों ने किया खुलासा: RBI की अगली बोर्ड मीटिंग में सरकार खेलेगी पावर प्ले

नवंबर की मीटिंग से पहले पीएम मोदी के प्रशासन में सीनियर अधिकारियों ने दबाव बढ़ा दिया था। यह दबाव पब्लिक और प्राइवेट तरीके से बढ़ाया गया था जो पॉलिसी मामलों से जुड़ा था। यह चिंता भी जाहिर की गई थी कि आरबीआई को अपनी स्वतंत्रता खोने का खतरा है। मई में आम चुनाव होने की संभावना है। ऐसे में वोटर कमजोर कृषि आय को लेकर चिंतित है। मोदी सरकार चाहती है कि अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित किया जाए और वह आरबीआई से आसान उधार नीति की अपेक्षा कर रही है।

एक पूर्व वरिष्ठ आरबीआई अधिकारी ने बताया कि इस समय आरबीआई और सरकार के बीच संबंध बिल्कुल फैली हुई रबड़ की तरह हैं। एक बार रबड़ को खींच दिया जाए तो फिर वह अपने पहले के स्वरूप में नहीं आ सकती। केंद्रीय बैंक की स्वायत्तता पर इस महत्वपूर्ण हमले को लंबे समय तक याद किया जाएगा। इससे पहले खबर आई थी कि आरबीआई और केंद्र सरकार के मतभेद के बीच गवर्नर उर्जित पटेल इस्तीफा दे सकते हैं। पूर्व में, बोर्ड ने एक सलाहकार निकाय से थोड़ा अधिक काम किया है, लेकिन केंद्रीय बैंक की स्थापना के 1934 के कानून के तहत उसके पास असली दांत रखने और नीति परिवर्तन को लागू करने की क्षमता है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
For all the cordiality on show at the end of Reserve Bank of India's last board meeting, tensions could re-surface when it next gathers on December 14 as the government aims to ramp up pressure for changes in the way the central bank operates.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X