• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

अमेजन ने जबरन नौकरी से निकालने के आरोपों को किया खारिज, कंपनी बोली- लोग खुद से छोड़ रहे

Google Oneindia News

जिस तरह से मल्टिनेशनल कंपनी अमेजन ने हजारों कर्मचारियों को खुद से इस्तीफा देने के लिए मेल किया था उसके बाद लगातार कंपनी सुर्खियों में है। लेकिन अब अमेजन की ओर से इस पूरे मामले में सफाई देते हुए कहा गया है कि हमने किसी को नौकरी से नहीं निकाला, लोग खुद से नौकरी छोड़कर जा रहे हैं। दरअसल अमेजन इंडिया को श्रम मंत्रालय की ओर से नोटिस भेजा गया था। जिसके बाद डिप्टी चीफ लेबर कमिश्नर के सामने अमेजन के प्रतिनिधि बुधवार को बेंगलुरू में पेश हुए। इस दौरान अमेजन ने कहा कि हमने कर्मचारियों को निकाला नहीं है बल्कि जिन लोगों ने खुद से वॉलंट्री सेपरेशन प्रोग्राम (स्वेच्छा से इस्तीफा) को चुना है उन्हें जाने दिया है।

इसे भी पढ़ें- 14 शेरनियों ने किया हमला, तो गजराज ने दिखा दी ताकत, अब वायरल हो रहा वीडियोइसे भी पढ़ें- 14 शेरनियों ने किया हमला, तो गजराज ने दिखा दी ताकत, अब वायरल हो रहा वीडियो

अमेजन ने आरोपों से किया इनकार

अमेजन ने आरोपों से किया इनकार

दरअसल पुणे की एक संस्था जोकि कर्मचारियों के हितों के लिए काम करती है उसने पिछले हफ्ते एक याचिका दायर की थी और केंद्र सरकार से अपील की थी कि प्रदेश श्रम मंत्रालय को इस मामले की जांच करनी चाहिए कि क्या अनैतिक तरह से कर्मचारियों को नौकरी से बाहर निकाला जा रहा है। इस बाबत एक इ मेल का जिक्र किया गया था। आईटी यूनियन ने दावा किया था कि अमेजन कर्मचारियों को जबरन नौकरी से निकाल रही है। कंपनी बड़े पैमाने पर भारत में कर्मचारियों को बाहर कर रही है।

30 नवंबर तक का मिला था अल्टिमेटम

30 नवंबर तक का मिला था अल्टिमेटम

बता दें कि अमेजन ने 10000 कर्मचारियों को बाहर करने की प्रक्रिया की शुरुआत की है, कर्मचारियों को 30 नवंबर तक का समय दिया गया है कि वह खुद से इस्तीफा दे दें और कंपनी की ओर से दी जा रही नगद मदद को स्वीकार करें। कंपनी के सीईओ एंडी जेसी ने भी कहा था कि अमेजन 2023 में कर्मचारियों की संख्या को कम करेगा, ताकि वह अपने बिजनेस पर पड़ रहे अतिरिक्त बोझ को कम कर सके।

बड़ी संख्या में रोगजार छिनेगा

बड़ी संख्या में रोगजार छिनेगा

इकोनॉमिक्स टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार अमेजन के प्रतिनिधि बुधवार को श्रम विभाग के सामने पेश हुए। उन्होंने इस दौरान अपना पक्ष रखा। उन्होंने किसी भी तरह के आरोपों से खारिज किया है कि कंपनी लोगों को जबरन नौकरी से बाहर कर रही है। बता दें कि अमेजन, मेटा, ट्विटर के कर्मचारियों को एक-एक करके बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है। फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग ने कहा था कि कंपनी ने कर्मचारियों की संख्या में 13 फीसदी की कमी करने का फैसला लिया है। कंपनी 11000 कर्मचारियों को बाहर करेगी। ट्विटर की ओर से भी कहा गया है कि 50 फीसदी कर्मचारियों को बाहर किया जाएगा। गूगल और एचपी जैसी कंपनियां भी कर्मचारियों को बाहर कर रही हैं।

Comments
English summary
Amazon rejects allegation that it is forcibly sacking its employees.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X