• search
बिहार न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

गलती से खाते में आ गए 5.5 लाख रुपए, 'पीएम मोदी ने भेजा है' कहकर नहीं लौटाया तो क्या हुआ ? जानिए

|
Google Oneindia News

खगड़िया, 15 सितंबर: बिहार के खगड़िया से एक बड़ा ही दिलचस्प मामला सामने आया है। शुरुआती गलती तो उन बैंक वालों की थी, जिन्होंने गलती से साढ़े पांच लाख रुपये एक व्यक्ति के अकाउंट में डाल दिए। अपने खाते में अचानक आ टपके इतनी बड़ी रकम को देखकर उस शख्स के मन में शायद लालच आ गया और उसने सारे पैसे बैंक अकाउंट से निकाल लिए। उसके मन में शायद यह आशंका थी कि कहीं बैंक इसे वापस न ले ले। लेकिन, असली मजेदार कहानी तब शुरू हुई, जब बैंक के अधिकारियों-कर्मचारियों ने उसके घर के चक्कर काटने शुरू किए। उस शख्स ने कहना शुरू कर दिया कि उसके खाते में तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यह पैसे भेजे हैं, इसलिए वह किसी भी कीमत पर उसे बैंक को नहीं लौटा सकता। मामला लंबा चला और उस शख्स के दावों के मुताबिक उसने सारे पैसे खर्च भी कर दिए। अब जाकर बैंक की शिकायत पर उस व्यक्ति को गिरफ्तार कर लिया गया है।

'पैसे तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भेजे हैं।'

'पैसे तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भेजे हैं।'

बिहार के खगड़िया जिले में ग्रामीण बैंक ने गलती से रंजीत दास नाम के एक शख्स के खाते में 5.5 लाख रुपए ट्रांसफर कर दिए। जब बैंक अधिकारियों को अपनी गलत का एहसास हुआ तो वे भागे-भागे उस व्यक्ति के पास पहुंचे। लेकिन, जब रंजीत को को इस बात की भनक लगी तो वह बहुत ही खुश हो गया और वह बैंक को रकम लौटाने से साफ मना करने लगा। बैंक वालों ने उसे समझाने की कोशिश की कि यह गलती से उसके अकाउंट में ट्रांसफर हो गया है। लेकिन, उस व्यक्ति ने कहना शुरू कर दिया कि 'पैसे तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भेजे हैं।'

बैंक वालों ने पुलिस में दर्ज की थी शिकायत

बैंक वालों ने पुलिस में दर्ज की थी शिकायत

जिस व्यक्ति के खाते में गलती से पैसा ट्रांसफर हुआ था, वह खगड़िया जिले के ही मानसी थाने के बख्तियारपुर गांव का रहने वाला है। बैंक ने उसे नोटिस पर नोटिस थमाए, लेकिन वह रट लगाए रहा कि 'पैसे तो उसके खाते में पीएम मोदी ने भेजे हैं।' ग्रामीण बैंक वालों की नौकरी पर बन आई थी। वह रंजीत को हर तरह से समझाने की कोशिश करके थक गए। जब वह नहीं माना तो बैंक ने उस व्यक्ति के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी।

आरोपी शख्स को गिरफ्तार किया गया

आरोपी शख्स को गिरफ्तार किया गया

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक बाद में रंजीत दास ने दावा किया कि 'इसी साल मार्च में मेरे खाते में पैसा आया था तो मैं बहुत ही खुश हो गया था। मुझे लगा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सबके खातों में 15 लाख रुपये आने की बात कही थी, शायद यह उसकी ही पहली किस्त होगी। फिर मैंने बैंक से सारे पैसे निकाल लिए और उसे खर्च भी कर दिया। अब मेरे खाते में पैसे नहीं बचे हैं।' लेकिन, मानसी पुलिस के सामने रंजीत की यह दलील नहीं चली और उसे गिरफ्तार कर लिया गया। मानसी के एसएचओ दीपक कुमार ने बताया है कि बैंक मैनेजर की शिकायत के आधार पर रंजीत दास को गिरफ्तार किया गया है और आगे की जांच चल रही है।(गिरफ्तारी वाली तस्वीर-फेसबुक के सौजन्य से )

इसे भी पढ़ें-रिकॉर्ड स्तर से 9000 रू सस्ता बिक रहा है सोना, खरीदारी से पहले जानें आज की कीमतइसे भी पढ़ें-रिकॉर्ड स्तर से 9000 रू सस्ता बिक रहा है सोना, खरीदारी से पहले जानें आज की कीमत

हमने काफी समझाने की कोशिश की- ग्रामीण बैंक

हमने काफी समझाने की कोशिश की- ग्रामीण बैंक

बैंक कर्मचारियों का कहना है कि जब नकदी का मिलान किया गया तब माथा ठनका कि रंजीत दास के खाते में 5.5 लाख रुपये भूल से चले गए हैं। हमारी ओर से रंजीत को काफी समझाया गया कि वह इस तरह से बैंक के पैसे नहीं रख सकता। लेकिन, तबतक उसने सारे पैसे अकाउंट से निकाल लिए थे। वह यही दलील देता रहा कि पैसे प्रधानमंत्री ने भेजे हैं, इसलिए वापस नहीं करेगा। आखिरकार हमें पुलिस के पास जाना पड़ा।

English summary
In Bihar's Khagaria district, a person has been caught because he was not ready to return 5.5 lakh rupees transferred in the account by mistake, in the name of PM Modi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X